--Advertisement--

स्कूल में न्यूड मिली थी महिला की बॉडी, बाइक की चाभी से खेला था खूनी खेल

केस के 29 महीने बाद इस जघन्य कांड में दोषी को आजीवन कारावास और 13 हजार रुपए जुर्माने की सजा दी गई थी।

Dainik Bhaskar

Jan 06, 2018, 09:00 PM IST
Mohanlalganj Case Detail in crime series

लखनऊ. राजधानी लखनऊ में निर्भया जैसी शर्मशार करने वाली वारदात हुई थी। मोहनलालगंज के बलसिंह खेड़ा प्राइमरी स्कूल में करीब तीन साल पहले 17 जुलाई, 2014 को एक महिला की न्‍यूड लाश बरामद हुई थी। ये वारदात इतनी शर्मशार करने वाली थी कि जिसने भी सुना उसके होश उड़ गए। इस कांड के आरोपी को सजा कोर्ट ने ढाई साल में सजा सुना दी। DainikBhaskar.com क्राइम सीरीज के तहत इस दहला देने वाली वारदात को बताने जा रहा है।

कब क्या-क्या हुआ, ये था पूरा मामला
- 17 जुलाई, 2014 को राजधानी के मोहनलालगंज थाना क्षेत्र के बलसिंह खेड़ा प्राइमरी स्कूल में एक महिला की न्‍यूड लाश बरामद होती है। एफआईआर वादी नोखेलाल अज्ञात में रिपोर्ट दर्ज कराता है।
- जांच के दौरान महिला के साथ रेप के बाद उसकी हत्या की बात सामने आती है। पुलिस इस वारदात में आरोपित रामसेवक यादव को 21 जुलाई 2014 को रेप, हत्या और सबूत मिटाने के आरोप में जेल भेज देती है।
- 16 अक्टूबर, 2014 को उसके खिलाफ आईपीसी की धारा 302, 201 व 376ए के तहत कोर्ट में आरोप पत्र दाखिल किया गया। इस मामले की जांच मोहनलालगंज थाने के तत्कालीन इंसपेक्टर संतोष कुमार सिंह ने की थी।
- फास्ट ट्रैक कोर्ट ने शुक्रवार को आरोपित रामसेवक यादव को रेप करके हत्या करने का दोषी करार दिया गया। कोर्ट ने मुल्जिम को इस वारदात में सबूत मिटाने का भी दोषी करार दिया।

न्यूड बॉडी की फोटो बना रहे थे पुलिसकर्मी
- पुलिस की संवेदनहीनता उससे कम बेरहम नहीं थी। महिला के पार्थिव शरीर पर दो गज कपड़ा डालने की जगह कई जिम्मेदार लोग मोबाइल से उसकी तस्वीर खींचने में जुटे थे।
- इस मामले की मॉनिटरिंग कर रही महिला सेल प्रभारी एडीजीपी सुतपा सान्याल से जब ये सवाल पूछा गया कि मौके पर निर्वस्त्र पड़े पीड़ित महिला के शव को घंटों तक ढकने का प्रयास क्यों नहीं हुआ, तो उन्होंने माना कि इस मामले में पुलिस से गलती हुई।
- तत्कालीन एसएसपी प्रवीण कुमार ने मोहनलालगंज के इंस्पेक्टर कमरुद्दीन खान और एसआई मुन्नी लाल को इस मामले में सस्पेंड कर दिया गया था।

इन एविडेंस पर मिली थी सजा
- 43 पन्ने के फैसले में विशेष जज ने अन्य सबूतों के अलावा वैज्ञानिक और फॉरेंसिक साक्ष्यों के आधार पर मुल्जिम रामसेवक यादव को इस वारदात का गुनाहगार माना। इस दौरान कुल 18 गवाह कोर्ट में पेश किए गए थे।
- कोर्ट ने पाया कि 16 जुलाई, 2014 की रात 11 बजकर 26 मिनट 11 सेकंड पर पीड़िता और मुल्जिम के मोबाइल की लोकेशन एक ही टॉवर जैती खेड़ा पर थी।
- मोबाइल टॉवर में अल्फा, बीटा और गामा तीन सॉकेट होते हैं। प्रत्येक सॉकेट अपनी अलग-अलग कंपनियों को सेवा प्रदान करते हैं। घटना के वक्त पीड़िता-मुल्जिम द्वारा इस्तेमाल किया जाने वाला मोबाइल नंबर यूनिनॉर का था। जो अल्फा सॉकेट पर ही था।
- कोर्ट ने विधि विज्ञान प्रयोगशाला की वैज्ञानिक डॉ. अर्चना त्रिपाठी व डॉ. श्याम सुंदर द्वारा पेश की गई रिपोर्ट का भी जिक्र अपने फैसले में किया। इसमें था कि मृतका-मुल्जिम के कपड़ों पर मौजूद खून सेम था। डीएनए टेस्ट में भी मुल्जिम की घटना स्थल पर मौजूदगी पाई गई।
- इसके साथ ही कोर्ट ने मृतका की नाबालिग बेटी की गवाही को भी बेहद महत्वपूर्ण माना। उसने बताया था कि घटना वाले दिन मुल्जिम ने पीजीआई में किसी मरीज की भर्ती का हवाला देकर उसकी मां को बुलाया था।

3 दिन बाद गुमशुदगी की सूचनाओं से मिला था सुराग
- राजधानी पुलिस ने महिला की शिनाख्त के लिए सभी थानों से गुमशुदगियों का ब्योरा मंगाया था। मोहनलालगंज के करीब के एक थाने से पता चला कि महिला के हुलिए की एक गुमशुदगी वहां दर्ज है, जो किराए के मकान में रहती थी।
- युवती के पिता देवरिया में शिक्षक हैं। तीन बहनों में वह सबसे बड़ी थी। हत्या और दरिंदगी से 15 साल पहले उसकी शादी देवरिया के ही युवक से हुई। युवक यहां एक बड़े अस्पताल में संविदा पर नौकरी करता था। दोनों के एक 13 साल की बेटी और छह साल का बेटा था। किडनी खराब होने से युवक की मौत हो गई। युवती यहां पीजीआई थाना क्षेत्र में अकेले किराये के मकान में रहकर बच्चों को पाल रही थी।
- बच्चों और महिला के मकान मालिक से जानकारी लेने के बाद पुलिस ने देवरिया में रहने वाले महिला के पिता से संपर्क किया था। लखनऊ पहुंचे महिला के पिता और परिवार के अन्य लोग शिनाख्त कर डेड बॉडी साथ ले गए। देर रात महिला का अंतिम संस्कार कर दिया गया था।

Mohanlalganj Case Detail in crime series
Mohanlalganj Case Detail in crime series
Mohanlalganj Case Detail in crime series
Mohanlalganj Case Detail in crime series
Mohanlalganj Case Detail in crime series
Mohanlalganj Case Detail in crime series
Mohanlalganj Case Detail in crime series
Mohanlalganj Case Detail in crime series
Mohanlalganj Case Detail in crime series
Mohanlalganj Case Detail in crime series
Mohanlalganj Case Detail in crime series
Mohanlalganj Case Detail in crime series
X
Mohanlalganj Case Detail in crime series
Mohanlalganj Case Detail in crime series
Mohanlalganj Case Detail in crime series
Mohanlalganj Case Detail in crime series
Mohanlalganj Case Detail in crime series
Mohanlalganj Case Detail in crime series
Mohanlalganj Case Detail in crime series
Mohanlalganj Case Detail in crime series
Mohanlalganj Case Detail in crime series
Mohanlalganj Case Detail in crime series
Mohanlalganj Case Detail in crime series
Mohanlalganj Case Detail in crime series
Mohanlalganj Case Detail in crime series
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..