--Advertisement--

जया बच्चन का समाजवादी पार्टी से राज्यसभा जाने का रास्ता साफ, नरेश अग्रवाल का टिकट कटा

सपा से जया बच्चन का दोबारा राज्यसभा जाना तय माना जा रहा है।

Danik Bhaskar | Mar 07, 2018, 01:44 PM IST
जया बच्चन इससे पहले 2004, 2006 और फिर 2012 में समाजवादी पार्टी से अपर हाउस के लिए चुनी गई थीं। (फाइल) जया बच्चन इससे पहले 2004, 2006 और फिर 2012 में समाजवादी पार्टी से अपर हाउस के लिए चुनी गई थीं। (फाइल)

नई दिल्ली. समाजवादी पार्टी (एसपी) से जया बच्चन का चौथी बार राज्यसभा जाना करीब तय हो गया है। ऐसी खबर है कि अखिलेश यादव ने उन्हें फिर से राज्यसभा सांसद बनाने का मन बना लिया है। बस औपचारिक एलान होना बाकी है। इससे नरेश अग्रवाल और किरणमय नंदा इस दौड़ से बाहर हो गए हैं। इसकी वजह है कि राज्य में एसपी के पास मौजूदा विधायकों (47) की संख्या के हिसाब से पार्टी सिर्फ एक सांसद को अपर हाउस भेज सकती है। राज्यसभा में फिलहाल एसपी के छह सांसद हैं। नरेश और जया समेत सभी का कार्यकाल 2 अप्रैल को खत्म होने जा रहा है। उत्तर प्रदेश की 10 राज्यसभा सीटों के लिए 23 मार्च को वोटिंग होनी है।

यूपी में किसके पास कितनी ताकत?

- उत्तर प्रदेश में 403 विधानसभा सीटें हैं।

पार्टी सीट
1. बीजेपी 311
2. अपना दल 09
3. भारतीय समाज पार्टी 04
बीजेपी अलायंस 324
4. समाजवादी पार्टी (एसपी) 47
5. बहुजन समाज पार्टी 19
6. कांग्रेस 07
7. राष्ट्रीय लोक दल 01
8. निषाद पार्टी 01
9. निर्दलीय 03

यूपी में कितनी सीटों पर चुनाव?
- वैसे तो राज्यसभा की 58 सीटों के लिए 23 मार्च को वोटिंग होगी। इसी दिन वोटों की गिनती भी होगी। 16 राज्यों की ये 58 सीटें अप्रैल और मई महीने में खाली हो रही हैं। नामांकन की अंतिम तिथि 12 मार्च है।
- सबसे ज्यादा 10 सीटें यूपी की हैं।

यूपी से कितने राज्यसभा सांसदों का कार्यकाल खत्म हो रहा है?
- एसपी की जया बच्चन, नरेश अग्रवाल, किरणमय नंदा, दर्शन सिंह यादव, मुनव्वर सलीम और आलोक तिवारी। इसके अलावा, बीजेपी के विनय कटियार, कांग्रेस के प्रमोद तिवारी और बीएसपी से एम अली का कार्यकाल 2 अप्रैल को खत्म हो रहा है।
- एक सीट मायावती की वजह से खाली हुई। उन्होंने राज्यसभा से इस्तीफा दे दिया था।

सिर्फ एक सदस्य राज्यसभा भेज सकती हैं सपा, क्या है मजबूरी?
- राज्यसभा की एक सीट के लिए किसी भी पार्टी के पास 38 विधायक होने जरूरी हैं। समाजवादी पार्टी के पास इस वक्त 403 में से 47 विधायक हैं। इस हिसाब से एसपी का एक ही कैंडिडेट राज्यसभा में भेजा सकता है।

- इस एक सीट के लिए जया बच्चन, नरेश अग्रवाल और किरणमय नंदा का नाम दौड़ में सबसे आगे था। जया बच्चन इससे पहले 2004, 2006 और फिर 2012 में समाजवादी पार्टी से अपर हाउस के लिए चुनी गई थीं।

क्या है राज्यसभा का गणित?
- यूपी में 403 विधानसभा सीटें हैं। राज्यसभा के चुनाव 10 सीटों के लिए होना है।
- राज्यसभा चुनाव का फॉर्मूला है= (खाली सीटें + एक) कुल योग से विधानसभा की सदस्य संख्या से भाग देना। इसका जो जवाब आए उसमें भी एक जोड़ने पर जो संख्या होती है। उतने ही वोट एक सदस्य को राज्यसभा चुनाव जीतने के लिए चाहिए।
- यूपी की सदस्य संख्या 403 है। खाली सीट 10+1= 11। 403/ 11= 36.63। 36.63 +1= 37.63। यूपी राज्यसभा चुनाव जीतने के लिए एक सदस्य को औसतन 38 विधायकों का समर्थन चाहिए।

इस एक सीट के लिए  जया बच्चन, नरेश अग्रवाल और किरणमय नंदा का नाम दौड़ में सबसे आगे था। (फाइल) इस एक सीट के लिए जया बच्चन, नरेश अग्रवाल और किरणमय नंदा का नाम दौड़ में सबसे आगे था। (फाइल)