न्यूज़

--Advertisement--

दिल्ली से ज्यादा जहरीली है यूपी के इन 5 शहरों की हवा, कानपुर देश का सबसे प्रदूषित शहर

प्रदूषण के मामले में दिल्ली सांतवें नंबर पर है।

Danik Bhaskar

Dec 20, 2017, 10:22 AM IST
प्रदूषण के मामले में लखनऊ देश के दूसरे स्थान पर है। (फाइल) प्रदूषण के मामले में लखनऊ देश के दूसरे स्थान पर है। (फाइल)

लखनऊ/कानपुर. यूपी की राजधानी लखनऊ की हवा दिन प्रतिदिन जहरीली होती जा रही है। 20 नवम्बर को केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB) द्वारा जारी किए गए एयर क्वॉलिटी इंडेक्स (AQI) की रिपोर्ट में इसका खुलासा हुआ है। AQI बुलेटिन में लखनऊ में प्रदूषण का लवेल 419 माइक्रोग्राम और कानपुर में 425 माइक्रोग्राम दर्ज हुआ है। इसी के साथ कानपुर प्रदूषण के मामले में देश में पहले, लखनऊ दूसरे और दिल्ली सातवें नम्बर पर है।


-लखनऊ में प्रदूषण का स्तर प्रदेश के कई बड़े शहरों की अपेक्षा काफी अधिक है। प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड ने चिंता जताते हुए कहा है कि लोगों को प्रदूषण से सावधानी बरतनी चाहिए।

ये हैं देश के आठ सबसे ज्यादा प्रदूषित शहर

कानपुर - 425 माइक्रोग्राम
लखनऊ- 419 माइक्रोग्राम
वाराणसी - 396 माइक्रोग्राम
मुज्जफरपुर- 395 माइक्रोग्राम
गाजियाबाद -389 माइक्रोग्राम
मुरादाबाद- 349 माइक्रोग्राम
नोएडा/ दिल्ली -300 माइक्रोग्राम
आगरा – 293 माइक्रोग्राम


ये है प्रदूषण की वजह

-लखनऊ में प्रदूषण की प्रमुख वजह बढ़ती वाहनों की संख्या, तेजी से बढ़ रहा कंस्ट्रक्शन और वर्कशाप है। वहीं, नोएडा में नमकीन, फैन, एलईडी बल्ब सहित कई अन्य फैक्ट्रियां हैं। इन फैक्ट्रियों से निकलने वाला धुंआ वहां प्रदूषण की सबसे बड़ी वजह बना हुआ है।

प्रदूषण से हो सकती हैं ये बीमारियां

-केजीएमयू के पल्मोनरी मेडिसिन डिपार्टमेंट के डॉक्टर प्रो. संतोष कुमार के मुताबिक फैक्ट्रियों से निकलने वाले धुंए में सल्फर डाई आक्साइड और नाइट्रोजन जैसी कई हानिकारक गैसे और लेड पाई जाती हैं।
-यदि कोई व्यक्ति डायरेक्ट या इनडायरेक्ट इन गैसों के सम्पर्क में आता है तो उसका लंग्स और स्किन दोनों पर इन गैसों का बैड इफेक्ट पड़ सकता है। लंग्स में इन्फेक्शन होने के साथ टीबी की बीमारी और स्किन से रिलेटेड बीमारी हो सकती है। वहीं, लेड की वजह से कैंसर होने के चांसेज बढ़ जाते हैं।

बरते यें सावधानी

-भीड़-भाड़ वाले स्थानों पर जाने से बचें।
-खांसते या छींकते टाइम नाक और मुंह पर कपड़ा रखे।
-खुले में ना थूकें।
-कोहरे में ज्यादा देर तक ना टहले।

क्या कहना है मौसम विभाग का


-मौसम विभाग के डॉयरेक्टर जेपी गुप्ता ने बताया- "अगले कुछ दिनों तक मौसम ऐसे ही बना रहेगा, कोहरे की वजह से धुंध छाई रहेगी। दिन में हल्की धूप के साथ कोहरे का भी असर दिखाई देगा। रेन फॉल होने की अभी कोई संभावना नहीं है इसके साथ ही लोगों को अभी घबराने की भी जरुरत नहीं है।"

कैसे कंट्रोल हो सकता है पॉल्यूशन

-कारखानों को शहरी क्षेत्र से दूर किया जाना चाहिए। फैक्ट्री में नयी तकनीक का इस्तेमाल हो जिससे धुएं का ज्यादातर भाग अवशोषित हो जाएं।
-तेज़ी से शहरीकरण की प्रक्रिया को रोकने के लिए गांवों और कस्बों में ही रोजगार के साधन या कुटीर उद्य़ोग लगाने को प्रोत्साहन दिया जाना चाहिए।
-पेड़ों की अंधाधुंध कटाई रोकी जानी चाहिए। आम लोगों, जिला प्रशासन और समाजसेवी संगठनों को नियमित रूप से वृक्षारोपण कराना चाहिए।

Click to listen..