Hindi News »Uttar Pradesh News »Lucknow News »News» यूपी समचार: Loudspeakers Without Permission Not Allowed In Religious Places, बिना परमिशन मंदिर, मस्जिद में लाउडस्पीकर नहो चलेंगे

बगैर इजाजत लाउडस्पीकर बजाने पर होगी कार्रवाई, 5 साल की जेल के साथ एक लाख का जुर्माना

DainikBhaskar.com | Last Modified - Jan 08, 2018, 02:01 PM IST

20 दिसंबर को एक याचिका पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने यूपी सरकार को फटकार लगाई थी।
  • बगैर इजाजत लाउडस्पीकर बजाने पर होगी कार्रवाई, 5 साल की जेल के साथ एक लाख का जुर्माना
    +1और स्लाइड देखें
    HC की फटकार के बाद यूपी सरकार ने बगैर इजाजत के धार्मिक स्थलों पर बज रहे लाउडस्पीकर के बारे में ब्योरा मांगा है।

    लखनऊ. ध्वनि प्रदूषण को लेकर हाईकोर्ट के सख्त निर्देशों के बाद धार्मिक स्थलों पर बिना इजाजत चल रहे लाउडस्पीकरों को लेकर सरकार गंभीर नजर आ रही है। प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार ने डीएम और एसएसपी को पत्र भेजकर जानकारी मांगी है कि उनके जिले में कितने लाउडस्पीकर बिना इजाजत चल रहे हैं? 10 जनवरी तक तैयार करनी है रिपोर्ट


    -प्रमुख सचिव (गृह) ने निर्देश दिया है कि ऐसे धर्मस्थल या सार्वजनिक स्थल जहां नियमित लाउडस्पीकर बजाए जाते हों, उनकी पहचान राजस्व और पुलिस अफसरों को टीम बनाकर 10 जनवरी तक सौंपने का आदेश दिया है। इसके साथ ही टीम पता करेगी कितने धर्म स्थलों पर बिन अनुमति के लाउडस्पीकर बजाए जा रहे हैं।

    - जिन धर्मस्थलों के पास लाउडस्पीकर बजाने की परमीशन नहीं हैं, उन्हें 5 दिन का मौका दिया जाएगा, ताकि वो लाउडस्पीकर बजाने की परमिशन ले सके। फाइनल रिपोर्ट 15 जनवरी तक सरकार के पास होगी। ऐसा आदेश प्रमुख सचिव (गृह) की तरफ से जारी किया गया है।

    -इस आदेश का उल्लंघन करने वालों पर पांच साल की जेल या एक लाख का जुर्माना या फिर दोनों की सजा हो सकती है। ढिलाई बरतने वाले अफसरों पर भी सख्त एक्शन होगा।

    हाईकोर्ट ने यूपी सरकार को लगाई थी फटकार
    - 20 दिसम्बर 2017 को हाईकोर्ट ने यूपी सरकार को फटकार लगाते हुए पूछा था कि किसके आदेश पर धार्मिक स्थल पर लाउडस्पीकर बज रहे है। किन अफसरों ने लाउडस्पीकर के इस्तेमाल की इजाजत दी है, ऐसे कितने धार्मिक स्थल हैं?

    - कोर्ट ने कहा था- अफसरों में नियम लागू करने की इच्छाशक्ति नहीं है या फिर उनका उत्तरदायित्व तय नहीं है। ऐसी स्थिति है कि कोर्ट को दखल देना पड़ रहा है।

    - ध्वनि प्रदूषण नियम (2000) को प्रदेश में सख्ती से लागू कराने के लिए क्या कदम उठाए गए?
    - क्या धार्मिक स्थलों पर लाउडस्पीकर लिखित अनुमति के बाद लगाए गए ? यदि नहीं तो उन्हें हटाने के लिए क्या कार्रवाई की गई?
    - जिन अधिकारियों पर बिना अनुमति के लाउडस्पीकर का प्रयोग रोकने की जिम्मेदारी थी, उन पर क्या कार्रवाई हुई?
    - नियम को सख्ती से लागू न कराने वाले अधिकारियों का क्या उत्तरदायित्व तय किया गया?
    - ध्वनि प्रदूषण की शिकायत के लिए क्या कोई वेबसाइट बनाई गई?

    कहां कितना है ध्वनि का मानक

    एरिया कैटेगरी

    मानक दिनमानक रात
    इंडस्ट्रियल75 डेसी.70 डेसी.
    कॉमर्शियल65 डेसी.55 डेसी.
    रेंजिडेंशियल55 डेसी.45 डेसी
    साइलेंस जोन50 डेसी.40 डेसी
  • बगैर इजाजत लाउडस्पीकर बजाने पर होगी कार्रवाई, 5 साल की जेल के साथ एक लाख का जुर्माना
    +1और स्लाइड देखें
    20 दिसम्बर 2017 को HC ने यूपी सरकार को फटकार लगाते हुए पूछा था- किसके आदेश पर धार्मिक स्थलों पर लाउडस्पीकर बज रहे हैं।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Lucknow News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: यूपी समचार: Loudspeakers Without Permission Not Allowed In Religious Places, बिना परमिशन मंदिर, मस्जिद में लाउडस्पीकर नहो चलेंगे
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      रिजल्ट शेयर करें:

      More From News

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×