--Advertisement--

मदरसा यौन शोषणः पुलिस कार्रवाई के विरोध में सड़क पर उतरी भीड़, जाने वजह

टीले वाली मस्जिद के सामने प्रदर्शन, सीबीआइ जांच की मांग

Danik Bhaskar | Jan 02, 2018, 05:27 PM IST
लोगों ने सीबीआई जांच की मांग क लोगों ने सीबीआई जांच की मांग क

लखनऊ. राजधानी के सआदतगंज के मदरसे की छात्राओं के 'यौन शोषण' होने का दावा करने वाली लखनऊ पुलिस की भूमिका सवालों के घेरे में आ गई है। मंगलवार को हजारों लोगों की भीड़ ने टीलेवाली मस्जिद के सामने प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारियों का आरोप है कि पुलिस ने मदरसा प्रबंधन के विवाद को यौन शोषण से जोड़ दिया है। वे इस प्रकरण की सीबीआइ जांच की मांग कर रहे थे। प्रदर्शन के चलते पुराने लकनऊ की ओर जाने वाले रास्ते घंटों जाम रहे।


-प्रदर्शनकारियों का कहना है कि मदरसा खदीजतुल कुबरा के प्रबंधक व मौलवी क़ारी तय्यब को कुछ लोगों ने 28 दिसंबर को बंधक ज़मीन क़ब्ज़ा करने का प्रयास किया गया था
-उन्होंने उसी दिन एफआईआर दर्ज कराने के लिए पुलिस को तहरीर दी थी, मगर अशरफ जिलानी नाम के व्यक्ति की साजिश पर पुलिस ने छात्राओं के साथ छेड़छाड़ की एफआईआर दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया।
-बाद में बहराइच की एक लड़की की तहरीर पर यौन उत्पीड़न का मुकदमा भी दर्ज कर लिया गया। लोगों का कहना है कि इस मामले की सीबीआइ जांच कराई जानी चाहिए।

ये था पूरा मामला

-सआदतगंज इलाके के मदरसा जामिया खदीजातुल कुबरा में लखनऊ पुलिस ने शुक्रवार की शाम रेड क करीब 52 छात्राओं को मौलवी के चंगुल से मुक्त कराने का दावा किया था।
- पुलिस का कहना था कि यहां पढ़ने वाली छात्राओं के साथ मौलवी व प्रबंधक तैय्यब जिया पर घिनौनी हरकत करने का आरोप लगाया था, लड़कियों ने पत्र लिखे थे।
-पुलिस ने तैय्यब जिया को गिरफ्तार करके संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज करके जेल भेज दिया है ।

गलत फंसाया गया है
-प्रदर्शनकारियों का नेतृत्व करने वालों में शामिल शाह ताहिर सिद्दीकी ने कहा कि 28 दिसंबर को मदरसे की ज़मीन क़ब्ज़ा करने के लिए क़ारी तय्यब ज़िया को बंधक बनाया गया था।
- इसकी सूचना जब क़ारी तय्यब ने 100 नंबर पर थी और तहरीर दी थी तब पुलिस ने एफआईआर नही लिखी थी l
- उन्होंने कहा कि इसके बाद अशरफ जिलानी की साजिशी एफआईआर के ज़रिए तरह तरह के आरोप लगा कर उनको बन्द कर दिया गया l
-शेख ताहिर ने कहा कि मालिकाना हक का मामला जब कोर्ट में विचाराधीन था ।
-तब भी जिलानी अशरफ़ ने शासन प्रशासन को ग़ुमराह करने की साज़िश रची है इसका खुलासा होना चाहिए और इस मामले की सीबीआई जांच होनी चाहिए l