--Advertisement--

एलडीए ऑफिस से निकलते ही बोला शख्स - पहली बार देखा एेसा

किसी भी सरकारी ऑफिस पहली बार देखा है, जहां बिना पैसे के सरकारी काम हो गया।

Dainik Bhaskar

Jan 06, 2018, 03:52 PM IST
पीड़ित जितेंद्र श्रीवास्तव ने बताया कि वह पिछले 8 साल से अपने भवन की एनओसी लेने के लिए एलडीए के चक्कर लगा रहे थे। पीड़ित जितेंद्र श्रीवास्तव ने बताया कि वह पिछले 8 साल से अपने भवन की एनओसी लेने के लिए एलडीए के चक्कर लगा रहे थे।

लखनऊ. अपनी सम्पत्ति की एनओसी लेने के लिए एक शख्स बीते 8 साल से एलडीए का चक्कर लगा रहा था। लेकिन एलडीए के अफसरों ने कुछ ही दिन में संपत्ति की एनओसी जारी कर दी। पीड़ित ने बताया कि, एलडीए के ऑफिस के चक्कर लगाते हुए कुछ ही दिन में एनओसी जारी हो गई। ऐसा मैंने किसी भी सरकारी ऑफिस पहली बार देखा है, जहां बिना पैसे के सरकारी काम हो गया। "पहली बार किसी सरकारी ऑफिस में एेसे हुआ काम"


- पीड़ित जितेंद्र श्रीवास्तव ने बताया, "लखनऊ-सीतापुर रोड पर मेरा 4000 स्क्वायर फीट का मकान है। पिछले 8 साल से अपने भवन की एनओसी लेने के लिए मैं एलडीए के चक्कर लगा रहा था। लेकिन कोई भी अधिकारी मेरी सुनता नहीं था।
- अपनी फाइल के बारे में बात करने पर वो मुझे टेबल-दर-टेबल दौड़ाते थे। बार-बार मुझे कल आना-परसो आना कहकर टालते रहते थे।
- कुछ दिन पहले मैं एलडीए के नजूल अफसर विश्व भूषण मिश्रा से मिला था। उन्होंने मुझे आश्वासन दिया था कि मेरा काम हो जाएगा।
- इस दौरान शनिवार को एलडीए से फोन आया और मुझे ऑफिस बुलाया गया। जब मैं वहां पहुंचा तो मुझे मेरे भवन की एनओसी दे दी गई, वो भी बिना पैसे लिए।
- पहली बार कोई सरकारी काम बिना पैसे के हुआ है और वो भी एलडीए में। सब लोग मुझसे पूछ रहे हैं ये कैसे हो गया।"

क्या कहते हैं एलडीए अधिकारी

- एलडीए नजूल अधिकारी विश्व भूषण मिश्रा ने बताया, "जितेंद्र मोहन श्रीवास्तव का सीतापुर रोड स्थित जमीन हैं। इसके संबंध में वो मुझसे कुछ दिन पहले मिले और अपनी समस्या बताई थी। इसे बाद मैंने अपने स्तर से पूरे मामले की प्रगति रिपोर्ट तलब करते हुए फ़ाइल का निस्तारण किया।"

एलडीए के अफसरों ने कुछ ही दिन में संपत्ति की एनओसी जारी कर दी। एलडीए के अफसरों ने कुछ ही दिन में संपत्ति की एनओसी जारी कर दी।
एलडीए के नजूल अफसर विश्व भूषण मिश्रा। एलडीए के नजूल अफसर विश्व भूषण मिश्रा।
एलडीए की तरफ से जारी लेटर। एलडीए की तरफ से जारी लेटर।
X
पीड़ित जितेंद्र श्रीवास्तव ने बताया कि वह पिछले 8 साल से अपने भवन की एनओसी लेने के लिए एलडीए के चक्कर लगा रहे थे।पीड़ित जितेंद्र श्रीवास्तव ने बताया कि वह पिछले 8 साल से अपने भवन की एनओसी लेने के लिए एलडीए के चक्कर लगा रहे थे।
एलडीए के अफसरों ने कुछ ही दिन में संपत्ति की एनओसी जारी कर दी।एलडीए के अफसरों ने कुछ ही दिन में संपत्ति की एनओसी जारी कर दी।
एलडीए के नजूल अफसर विश्व भूषण मिश्रा।एलडीए के नजूल अफसर विश्व भूषण मिश्रा।
एलडीए की तरफ से जारी लेटर।एलडीए की तरफ से जारी लेटर।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..