Hindi News »Uttar Pradesh »Lucknow »News» Martyr Nilesh Deadbody Funral

शहीद पिता के पास तिरंगा लेकर खड़ा रहा 11 साल का बेटा, नारे लगाते हुए बोला ‘मेरे पापा अमर रहें'

जम्मू-कश्मीर में आतंकी मुठभेड़ में शहीद हुआ था निलेश।

Bhaskar News | Last Modified - Apr 04, 2018, 02:09 AM IST

  • शहीद पिता के पास तिरंगा लेकर खड़ा रहा 11 साल का बेटा, नारे लगाते हुए बोला ‘मेरे पापा अमर रहें'
    +8और स्लाइड देखें
    शहीद की पत्नी और इनसेट में बेटा।

    सुल्तानपुर,यूपी. कश्मीर के शोपियां में आतंकी हमले में रविवार को शहीद हुए उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर के जवान निलेश सिंह का पार्थिव शरीर मंगलवार को उनके पैतृक नगरी गांव पहुंचा। शहीद जवान के 11 वर्षीय बेटे ने शव को मुखाग्नि दी। इस दौरान मासूम पहले रोया, फिर नारे लगाते हुए बोला ‘मेरे पापा अमर रहें। अंतिम संस्कार में पूरे गांव के लोग शामिल हुए थे। उनका बड़ा बेटा यथार्थ (12) शहीद पिता के पदचिह्नों पर चलने की बात कहकर हर किसी को सोचने पर मजबूर कर गया। देशभक्ति से लबरेज़ बेटे ने DainikBhaskar.com से कहा था-'मेरे पिताजी मरे नहीं हैं, वो शहीद हुए हैं। मैं भी बड़ा होकर सेना में जाऊंगा और पाकिस्तान से अपने पिता का बदला जरूर लूंगा।' आर्थिक मदद दी गई...

    - शहीद की पत्नी के खाते में 20 लाख रुपए डलवा दिए हैं। साथ ही छोटे भाई को नौकारी देने का आश्वासन भी दिया है।
    - जिला मुख्यालय से 65 किलोमीटर दूर अखंडनगर थाना क्षेत्र के नगरी गांव में मातम पसरा है। यहीं जांबाज निलेश सिंह का घर है।
    - शहादत की खबर जब गांव पहुंची, तो लोगों को विश्वास ही नहीं हुआ। पुष्टि के लिए शहीद जवान के परिजनों ने सेना मुख्यालय में फोन कर विस्तृत जानकारी ली।

    2006 में हुई थी शादी

    - शहीद नीलेश सिंह का जन्म नगरी ग्राम पंचायत निवासी साधारण किसान राम प्रसाद सिंह के बड़े पुत्र के रूप में सन 1987 में हुआ था।
    - शहीद के अंदर छात्र जीवन से ही राष्ट्र सेवा का भाव जागृत हो चुका था। हाईस्कूल की परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद सन 2003 में पहले ही प्रयास से सेना में सिलेक्ट हो गया था।
    - देश सेवा के तीन वर्ष बाद 2006 में सुलतानपुर के देवलपुर निवासी अर्चना सिंह से शादी हुई थी।
    - साधारण गृहस्थ परिवार में जन्मे नीलेश कुमार सिंह के पिता रामप्रसाद सिंह व माता ऊषा सिंह निलेश की पत्नी और उसके दो बच्चों यथार्थ और 14 महीने के शिवाय के साथ रहते हैं।
    - निलेश की पत्नी गोंडा के परसपुर में टीचर हैं।

  • शहीद पिता के पास तिरंगा लेकर खड़ा रहा 11 साल का बेटा, नारे लगाते हुए बोला ‘मेरे पापा अमर रहें'
    +8और स्लाइड देखें
    शहीद की पत्नी पति को विदा करती हुई।
  • शहीद पिता के पास तिरंगा लेकर खड़ा रहा 11 साल का बेटा, नारे लगाते हुए बोला ‘मेरे पापा अमर रहें'
    +8और स्लाइड देखें
    तिरंगा पकड़े हुए 11 साल का बेटा।
  • शहीद पिता के पास तिरंगा लेकर खड़ा रहा 11 साल का बेटा, नारे लगाते हुए बोला ‘मेरे पापा अमर रहें'
    +8और स्लाइड देखें
    शहीद का बेटा अपनी छोटी बहन के साथ।
  • शहीद पिता के पास तिरंगा लेकर खड़ा रहा 11 साल का बेटा, नारे लगाते हुए बोला ‘मेरे पापा अमर रहें'
    +8और स्लाइड देखें
    शहीद की पत्नी अपनी बेटी को संभालते हुए।
  • शहीद पिता के पास तिरंगा लेकर खड़ा रहा 11 साल का बेटा, नारे लगाते हुए बोला ‘मेरे पापा अमर रहें'
    +8और स्लाइड देखें
    शहीद की पत्नी मौत की खबर सुनने के बाद बेसुध हो गई थीं।
  • शहीद पिता के पास तिरंगा लेकर खड़ा रहा 11 साल का बेटा, नारे लगाते हुए बोला ‘मेरे पापा अमर रहें'
    +8और स्लाइड देखें
    शहीद की अंतिम यात्रा।
  • शहीद पिता के पास तिरंगा लेकर खड़ा रहा 11 साल का बेटा, नारे लगाते हुए बोला ‘मेरे पापा अमर रहें'
    +8और स्लाइड देखें
    शहीद के शव को सेना के जवान घर तक लेकर आए थे।
  • शहीद पिता के पास तिरंगा लेकर खड़ा रहा 11 साल का बेटा, नारे लगाते हुए बोला ‘मेरे पापा अमर रहें'
    +8और स्लाइड देखें
    शहीद का फ्यूनरल।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×