--Advertisement--

हम तीन तलाक कानून के सर्मथन में, लेकिन पीएम मोदी के मुस्लिम विरोधी सोच के खिलाफ हैं: मायावती

मायावती ने इस पर सफाई देते हुए कहा, हम तीन तलाक कानून के पक्ष हैं, लेकिन पीएम मोदी के मुस्लिम विरोधी सोच के खिलाफ हैं।

Dainik Bhaskar

Jan 06, 2018, 01:05 AM IST
मायावती। फाइल मायावती। फाइल

लखनऊ. तीन तलाक पर कानून बनाने के लिए ब‍िल लोकसभा के बाद शुक्रवार को राज्यसभा में पेश हुआ, लेकिन विपक्ष के हंगामे के चलते पास नहीं किया जा सका। विपक्ष के भारी विरोध के बाद इसके ड्राफ्ट को प्रवर समिति में भेजने की तैयारी है। बसपा सुप्रीमो मायावती ने इस पर सफाई देते हुए कहा, हम तीन तलाक कानून के पक्ष हैं, लेकिन पीएम मोदी के मुस्लिम विरोधी सोच के खिलाफ हैं। इसमें कुछ संसोधन करने के लिए इसे प्रवर समिति में भेजे जाने की सिफारिश की है। ये पीएम का सीक्रेट प्लान है, जो संघ के इशारे पर चलाया जा रहा है। वहीं, भाजपा प्रदेश मीडिया प्रभारी एवं प्रवक्ता हरिश्चंद्र श्रीवास्तव ने कहा, भगवान उनको सद्बुद्धि दे, जो महिला होकर भी महिलाओं की तकलीफ को समझ नहीं पा रही हैं और इसपर राजनीति कर रही हैं। आगे पढ़िए और क्या बोली मायावती...


- मायावती ने कहा, तीन तलाक विधेयक यानी मुस्लिम महिला विवाह अधिकार संरक्षण विधेयक-2017 में बहुत गलतियां थीं।
- उसमें खामियों से मुस्लिमों को बहुत ज्यादा दिक्कतों का सामना करना पड़ता। इस वजह से हमने कमियों को दूर करने के लिए ही इसे प्रवर समिति में भेजने की मांग राज्यसभा में की जा रही है।
- उन्होंने कहा, हम तीन तलाक पर प्रतिबंध से संबंधित कानून के पक्ष में है, लेकिन इस वक्त जो ड्राफ्ट है उससे तलाकशुदा मुस्लिम महिलाओं के लिए और भी ज़्यादा बुरा होगा। दिन-प्रतिदिन और भी नई समस्याएं पैदा करेगा, जिसका समाधान जरूरी है। इसीलिए हमने इसमें बदलाव करने के लिए प्रवर समिति में भेजने को कहा।


ये पीएम मोदी का सीक्रेट प्लान, 2019 के लोकसभ में ध्रुवीकरण की साजिश
- मायावती ने कहा, मोदी सरकार द्वारा घोर मनमानी के साथ-साथ इनके अड़ियल रवैये अपनाने के कारण ही नोटबंदी और जीएसटी आदि की नई व्यवस्था देश की जनता के लिए जान का जंजाल ही साबित हुई। तीन तलाक बिल भी वैसा ही जंजाल साबित होगा।
- नरेन्द्र मोदी सरकार अपनी मुस्लिम-विरोधी नीति व काम से पूरे समाज को बांटना चाहती है। तीन तलाक बिल को इतना तूल इसलिए दिया जा रहा है। ताकि 2019 के लोकसभा चुनावों तक ये मामला भी हिन्दू-मुस्लिम बन जाए।
- फिर बीजेपी अपनी राजनीतिक और चुनावी स्वार्थ की रोटी सेंकती रहे। ये आरएसएस की चाल है जिसको पूरी तरह से आगे पीएम मोदी लेकर चल रहे हैं।
- भाजपा प्रदेश मीडिया प्रभारी और प्रवक्ता हरिश्चंद्र श्रीवास्तव ने कहा, मायावती एक महिला होकर महिलाओं के हित की बात का विरोध सिर्फ मुस्लिम पुरुषों का वोट पाने के लिए कर रही हैं। मैं भगवान से उनको सद्बुद्ध‍ि देने की प्रार्थना करूंगा, जिससे उन्हें महिलाओं के प्रति थोड़ी सहानुभूति तो आ जाए।

X
मायावती। फाइलमायावती। फाइल
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..