--Advertisement--

यहां कभी लोगों को नहीं मिलता था पीने का पानी, इन महिलाओं ने आज बदल दी स्थिति

पानी के संरक्षण के लिए बनाई गई है पानी पंचायत।

Dainik Bhaskar

Jan 23, 2018, 09:20 AM IST
पानी के संरक्षण के लिए पानी पंचायत बनाई गई है। पानी के संरक्षण के लिए पानी पंचायत बनाई गई है।

लखनऊ. सूखे का पर्याय बन चुके बुंदेलखंड में गरीबों, बच्चों और असहाय बुजुर्गों का पेट भरना मुश्किल हो चला है। बिगड़े हालात से लड़ने का बीड़ा उठाया है यहां की महिलाओं ने। ये वे महिलाएं हैं जो पानी के संरक्षण और संवर्धन के लिए अलख जगाती हैं। उत्तर प्रदेश के बुंदेलखंड के ललितपुर जिले के तालबेहट विकासखंड के भदौना गांव की बस्ती में स्थित कुसुम के घर के आंगन का नजारा सुबह और शाम के समय किसी उत्सव का एहसास करा जाता है। यहां एक साथ तीन चूल्हे जल रहे होते हैं।

-इस गांव की बिनिया बाई कांपती जुबान से बताती हैं कि सूखे की मार ने उनकी जिंदगी को संकट में डाल दिया है, खेत सूखे पड़े हैं, काम है नहीं, बच्चे काम को परदेस चले गए हैं। इस स्थिति में उनके लिए पेट की आग बुझाना समस्या हो गई है। यहां कुछ महिलाओं ने मिलकर खाना देना शुरू किया, तो अब उन्हें भूखे पेट नहीं सोना पड़ रहा है।
-महिलाओं के बीच पानी संरक्षण के काम में लगी जल सहेली ललिता दुबे बताती हैं कि इस गांव के युवा लड़के और बहुएं काम की तलाश में पलायन कर गए हैं। ऐसे में कई घरों में बुजुर्ग और बच्चे ही रह गए हैं। इनके सामने खाने का संकट होने का जब उन्हें पता चला तो सबसे पहले उन्होंने हर घर से एक से दो रोटी और अचार व सब्जी जुटाई। इसमें गांव वालों ने सहयोग किया। ये महिलाएं गांव भर से इकट्ठा की गई रोटी, सब्जी व अचार जरूरतमंदों के घर-घर जाकर देने लगीं।

बनाई गई पानी पंचायत

-उन्होंने बताया कि इस गांव में पानी के संरक्षण के प्रति महिलाओं को जागृत करने के लिए पानी पंचायत बनाई गई। इसकी सदस्य महिलाएं है। सभी ने मिलकर तय किया कि बुजुर्गों, बच्चों और असहाय लोगों को भोजन मुहैया करने हर संभव कोशिश करेंगी। इसके लिए सामाजिक संस्था परमार्थ से आर्थिक मदद मांगी गई। उसके बाद यहां सामुदायिक रसोई शुरू की गई।
-भदौना गांव में चल रही सामुदायिक रसोई में सब के काम बंटे हुए हैं। पांच महिलाएं जहां दोनों वक्त का खाना पकाती हैं, तो पांच महिलाएं भोजन स्थल की साफ-सफाई व जंगल में जाकर लकड़ी का इंतजाम करती हैं। यहां लगभग 40 लोगों को दोनों वक्त भर पेट खाना मिल रहा है।
-गांव की बुजुर्ग महिला रामवती बताती हैं कि उनके पति का निधन हो चुका है, उनके पास काम नहीं है, चार बच्चे हैं जिनका भरण पोषण अब तक किसी तरह किया, अब पेट भरने का संकट है। इस रसोई के शुरू होने से उन्हें भर पेट खाना मिल जाता है। वे चाहती हैं कि अगर काम मिल जाए तो अच्छा है।

कैसी है बुंदेलखंड की भौगोलिक स्थिति

-बुंदेलखंड की भौगोलिक स्थिति पर गौर करें तो पता चलता है कि यह दो प्रदेशों उत्तर प्रदेश और मध्यप्रदेश के कुल 13 जिलों में फैला हुआ है। उत्तर प्रदेश के सात जिले- झांसी, जालौन, ललितपुर, हमीरपुर, बांदा, महोबा और चित्रकूट और मध्यप्रदेश के छह जिलों सागर, दमोह, पन्ना, छतरपुर, टीकमगढ़ और दतिया को मिलाकर बुंदेलखंड बनता है।
-पूरे बुंदेलखंड में कमोबेश एक जैसे हालात हैं। वर्षा कम होने से खेती बुरी तरह चौपट हो चुकी है, जलस्रोत सूख चले हैं, लोग पलायन को मजबूर है, मगर दोनों राज्यों की सरकारों ने अब तक इस दिशा में ऐसी कोई पहल नहीं की है, जिससे यहां के लोगों को राहत मिल सके।
-सूखे की त्रासदी से जूझते बुंदेलखंड के लिए सरकारों ने भले ही अब तक किसी तरह की कार्य योजना न बनाई हो, मगर यहां के लोगों ने ही जरूरतमंदों की मदद का बीड़ा उठा लिया है। यही कारण है कि कई हिस्सों में सामुदायिक रसोइयां शुरू हो गई हैं।

संजय सिंह चलाते थे परमार्थ संस्थान

-परमार्थ समाज सेवी संस्था द्वारा अमृता पैलेस माधौगढ़ में सूखा राहत बीज मेला खरीफ सीजन 2016 का आयोजन किया गया। उसी क्रम में आज माधौगढ़ में किसानों को निःशुल्क बीज उपलब्ध कराने के लिए बीज मेला का आयोजन परमार्थ समाज सेवी संस्था में किया गया। आगामी 3 जुलाई को 2 किसान मेला बंगरा गांव में आयोजित किया जाएगा।
-इस अवसर पर उपस्थित परमार्थ संस्था के प्रमुख संजय सिंह ने कहा कि अभाव ग्रस्त 2000 किसानों की मदद इन किसानों को खरीफ की फसल बोने में मदद करेगी। परमार्थ संस्था का प्रयास है कि सूखे के संकट से जूझ रहे किसानों को इस आपदा से उबारने का कार्य किया जाए। जरुरत के समय छोटी मदद भी बहुत कारगर होती है।

सूखे का पर्याय बन चुका है बुंदेलखंड। सूखे का पर्याय बन चुका है बुंदेलखंड।
Panchayat made for conservation of water in Bundelkhand
X
पानी के संरक्षण के लिए पानी पंचायत बनाई गई है।पानी के संरक्षण के लिए पानी पंचायत बनाई गई है।
सूखे का पर्याय बन चुका है बुंदेलखंड।सूखे का पर्याय बन चुका है बुंदेलखंड।
Panchayat made for conservation of water in Bundelkhand
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..