न्यूज़

--Advertisement--

घर में खाने के थे लाले-दोस्तों ने बनाया ये प्लान, पहुंच गए जेल

पकड़े गए ये शातिर चोर आपस में जिगरी दोस्त है।

Danik Bhaskar

Dec 30, 2017, 03:33 PM IST
गरीबी दूर करने के लिए यह गैंग चोरी करता था। गरीबी दूर करने के लिए यह गैंग चोरी करता था।

शाहजहांपुर. यूपी के शाहजहांपुर पुलिस ने एक ऐसे गैंग का खुलासा किया है जो अपनी गरीबी दूर करने के लिए चोर बन गए। पकड़े गए चोर आपस में जिगरी दोस्त है। पुलिस ने उनके पास से 10 महंगे मोबाइल फोन, तमंचा और चाकू बरामद किया है। फिलहाल, पुलिस ने सभी को जेल भेज दिया है और इनके 2 साथियों की तलाश कर रही है। गरीबी दूर करने के लिए किया एेसा...

- अपनी गरीबी दूर करने के लिए इन चोरों ने अपने 5 दोस्तों का एक गैंग तैयार किया और शहर की दुकानों को अपना निशाना बनाना शुरू कर दिया।
- यह गैंग रात के समय दुकानों में चोरी करता था। इसके बाद चोरी के सामानों को बेहद सस्ते दामों में बेंच दिया करता था।
- एसपी सिटी दिनेश त्रिपाठी ने बताया कि मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने तीनों चोरों को कोतवाली इलाके के बिसरात घाट के पास घेराबन्दी की तो चोरों ने पुलिस पर फायर कर दिया।
- मुठभेड़ के बाद पुलिस ने इन तीन शातिर चोरों को गिरफ्तार कर लिया। जबकि मौके से उनके 2 साथी फरार होने में कामयाब रहे। इनके पास से चोरी के 10 मोबाइल फोन, तमंचा, कारतूस और चाकू बरामद हुआ है।

"घर में खाने को नहीं होता था अनाज"

- वहीं, पकड़े गए चोर अजय, कार्तिक और दिनेश ने पूछताछ मे बताया कि हम लोग 5 दोस्त हैं और एक ही मोहल्ले में रहते हैं। हम लोग बहुत गरीब है। हमारे घर मे खाने के लिए अनाज नहीं होता था।
- एक दिन हम पांचों दोस्तों ने प्लानिंग की कैसे अपनी गरीबी को दूर किया जा सके। फिर हमने दुकानों मे चोरी करने का प्लान बनाया। उसके बाद पहली चोरी हमने कांट थाना क्षेत्र में की वहां चुराया हुआ माल सस्ते दामों में बेचा। जिसके बाद हमने घर मे अनाज लाकर रखा। उसके बाद चोरी का सिलसिला शुरू हो गया।

क्या कहती है पुलिस

- एसपी सिटी दिनेश त्रिपाठी ने बताया कि चोरी की घटनाएं ज्यादा हो रही थी। तभी मुखबिर की सूचना पर 3 लोगों को मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार किया है। 2 फरार होने मे कामयाब हो गए। उनको भी जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

पकड़े गए चोर आपस में जिगरी दोस्त है। पकड़े गए चोर आपस में जिगरी दोस्त है।
यह गैंग रात के समय दुकानों को काटकर चोरी करता था। यह गैंग रात के समय दुकानों को काटकर चोरी करता था।
Click to listen..