न्यूज़

--Advertisement--

मोदी सरकार में भ्रष्टाचार के रास्ते खुले हैं, 23 मार्च से फिर करूंगा आंदोलन : अन्ना हजारे

अन्ना हजारे दो दिवसीए दौरे पर सोमवार को लखनऊ पहुंचे हैं।

Danik Bhaskar

Feb 26, 2018, 02:53 PM IST
अन्ना हजारे सोमवार को दो दिवसीय जन जागराण यात्रा के लिए राजधानी लखनऊ पहुंचे। फाइल अन्ना हजारे सोमवार को दो दिवसीय जन जागराण यात्रा के लिए राजधानी लखनऊ पहुंचे। फाइल

लखनऊ. भ्रष्टाचार के खिलाफ मुहिम चलाने वाले सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे सोमवार को दो दिवसीय जन जागराण यात्रा के लिए राजधानी लखनऊ पहुंचे। अन्ना हजारे एयरपोर्ट से सीधे काकोरी के लिए रवाना हो गए। यहां उन्होंने केन्द्र की मोदी सरकार पर हमला करते हुए कहा कि नरेंद्र मोदी की सरकार ने पुराने लोकपाल बिल को कमजोर करने का काम किया है। जिस कारण देश में भ्रष्टाचार के रास्ते खुल गए हैं। उन्होंने कहा कि- देश से अंग्रेज चले गए लेकिन लोकतंत्र देश में नहीं आया। देश में किसान आत्महत्या कर रहे हैं फिर भी सरकारें उनका ध्यान नहीं दे रही हैं।

- अन्ना ने कहा कि देश में लोकपाल और लोकायुक्त की नियुक्त का कानून 2013 में पारित हो चुका है, लेकिन पांच साल बीत जाने के बाद भी इस पर अमल नहीं किया गया है। इतना ही नहीं इतने लंबे समय तक कानून को लटकाए रखने की वजह से सरकार की मंशा पर पूरे देश को शक पैदा होने लगा है।
- सरकार इसके प्रावधानों में संसोधन करके उसके पूरे उद्देश्य को ही समाप्त कर देना चाहती है।
- किसानों की फसलों का उचित मूल्य दिलाने और स्वामीनाथन आयोग की अनुशंसाओं को तत्काल लागू करने की सिफारिश की है।

-अन्ना ने कहा कि भगवान ने जो जीवन दिया है वो सेवा करने के लिए जनता हमारे लिए सर्ववेश्वर है। अगर शादी कर लेता तो चूल्हा जलाना पड़ता लोगों की सेवा नहीं कर पता इसलिए शादी नहीं किया।
- अन्ना ने कहा कि देश के युवा राष्ट्र की शक्ति हैं। आप जागेंगे तो देश जागेगा। हर इंसान को भगवान ने मनुष्य जीवन दिया है वो सेवा करने के लिए दिया है।
- लोग मिलते गए कारवां बनता गया। लड़ाई का असर रहा कि कितने मंत्रियों अधिकारियों की छुट्टी हो गयी। 90 साल तक जिन्होंने देश के लिए कुर्बानी दी, क्या सपना था क्या हुआ, लोकतंत्र कहां है।

चुनाव आयोग मूकदर्शक

- अन्ना हजारे ने कहा कि चुनाव आयोग से सुधार के लिए 5 बार मीटिंग हो गयी है। संविधान में पक्ष और पार्टी के बारे में नहीं लिखा गया है। जिस दिन संविधान आया था उसी समय राजनैतिक पार्टियों को बर्खास्त कर देना चाहिए था। चुनाव आयोग मूकदर्शक बनी हुआ है। चुनाव आयोग पर दबाव बनाकर चुनाव चिन्ह हटवाना है। जिस दिन चिन्ह हट जाएगा तो लोकतंत्र आ जायेगा।


इसलिए लखनऊ पहुंचे हैं अन्ना हजारे

- अन्ना 23 मार्च को सशक्त लोकपाल व लोकायुक्तों की नियुक्ति के साथ चुनावी सुधारों की मांग को लेकर दिल्ली के रामलीला मैदान में सत्याग्रह करेंगे। इसी के मद्देनजर वह अपने दो दिवसीय दौरे पर लखनऊ पहुंचे हैं।


सिर्फ जनता गिरा सकती है सरकार

- अन्ना ने कहा कि मैंने लोकपाल लाने के लिए 16 दिन तक अनशन किया। पूरा देश मेरे साथ खड़ा हो गया।
- अन्ना हाजरे ने कहा कि मेरे आंदोलन से सरकार डर गई थी की कहीं मौजूदा सरकार न गिर जाए। लेकिन सरकारें ये नहीं जानती हैं कि देश में सरकार गिराने की शख्ति सिर्फ जनता के पास है। मैं 23 मार्च से फिर धरने पर बैठ रहा हुं। इस दिन को मैंने इसलिए चुना है कि यह शहीदों का दिन है।

अन्ना 23 मार्च को सशक्त लोकपाल नियुक्ति के साथ चुनावी सुधारों की मांग को लेकर सत्याग्रह करेंगे। फाइल अन्ना 23 मार्च को सशक्त लोकपाल नियुक्ति के साथ चुनावी सुधारों की मांग को लेकर सत्याग्रह करेंगे। फाइल
Click to listen..