--Advertisement--

शख्स ने 'साब' से एक मुलाकात के बाद छोड़ी थी जॉब, बताई इंटरेस्ट‍िंग बातें

DainikBhaskar.com से बातचीत में 32 साल तक शशि कपूर के साथ रहे राम तीरथ ने कुछ इंटरेस्ट‍िंग बातें शेयर की।

Danik Bhaskar | Dec 09, 2017, 02:00 PM IST
करीब 32 साल तक शशि कपूर के गार्ड-ड्राइवर रहे राम तीरथ मिश्रा ने शश‍ि कपूर के बारे में कुछ इंटरेस्ट‍िंग बातें शेयर की। करीब 32 साल तक शशि कपूर के गार्ड-ड्राइवर रहे राम तीरथ मिश्रा ने शश‍ि कपूर के बारे में कुछ इंटरेस्ट‍िंग बातें शेयर की।

सुल्तानपुर. पद्म भूषण शशि कपूर का 4 दिसंबर की शाम निधन हो गया। 79 साल के शशि लंबे समय से से बीमार चल रहे थे। मुंबई के कोकिलाबेन हॉस्पिटल में उन्होंने आखि‍री सांस ली। DainikBhaskar.com से बातचीत में करीब 32 साल तक शशि कपूर के गार्ड-ड्राइवर रहे राम तीरथ मिश्रा ने इस एक्टर के बारे में कुछ इंटरेस्ट‍िंग बातें शेयर की। यूपी के रहने वाले हैं राम तीरथ...

- राम तीरथ मिश्रा यूपी के सुल्तानपुर जिला मुख्यालय से 20 किलोमीटर दूर मिश्राने गांव के रहने वाले हैं। इनके पिता राम अजोर मिश्रा ब्रिट‍िश हुकूमत में कलकत्ता में ड्राइवर की जॉब करते थे।
- साल 1978 में राम तीरथ शशि कपूर के साथ थे। ये उनके गार्ड और ड्राइवर दोनों थे। वह कहते हैं, 7 साल पहले (2010) में मैं अपने गांव वापस आ गया था।

शशिकपूर से कैसे-कहां हुई पहली मुलाकात
- जिला मुख्यालय से 20 किलोमीटर दूर जयसिंहपुर विधानसभा क्षेत्र के रहने वाले राम तीरथ के पिता राम अजोर ब्रिटिश हुकूमत में कोलकाता में ड्राइवर की जाब करते थे।
- 1947 में राम तीरथ का जन्म हुआ, जैसे-तैसे पिता ने पढ़ाया-लिखाया और हाईस्कूल तक की पढ़ाई कंपलीट की। इसके बाद यूपी पुलिस में इन्हें सिपाही की नौकरी मिल गई। साल 1972 से 1978 तक उन्होंने सिपाही की नौकरी की।
- इस दौरान राम तीरथ लखनऊ के कैंट थाने में ड्यूटी कर रहे थे, तभी यहां फिल्म जुनून की शूटिंग करने शशि कपूर, शबाना आजमी और नसीरुद्दीन शाह आए थे। उनकी ड्यूटी शूटिंग में सिक्यूरिटी में लगाई गई।
- इसी दौरान शूटिंग में कई दिनों तक ड्यूटी करते समय शशि कपूर के व्यवहार को देख रामतीरथ उनसे इंप्रेस हो गए।

पुलिस की नौकरी को कहा था अलविदा
- राम तीरथ बताते हैं- ''मुलाकात के लिए एक दिन मैं सिविल ड्रेस में जब होटल क्लार्क में शशि कपूर से मिलने गया तो मिलने नहीं दिया गया। अगले दिन वर्दी में गए तो मुलाकात हो गई। 3 मिनट की मुलाकात ये रंग लाई कि मैं उनका हो गया और पुलिस की नौकरी को अलविदा कह कर मैं शशि कपूर के साथ फिल्मी दुनिया में काम करने के लिए बाई फ्लाइट मुंबई चला आया।''

दोनों का हुआ था एक ही हॉस्प‍िटल में जन्म
- राम तीरथ के मुताबिक- ''साहब से मिलने के कुछ दिनों के बाद बात ही बात में उन्होंने बताया के उनका जन्म कोलकाता के शंभू नाथ पंडित हॉस्पिटल में 1938 में हुआ था। ये बात भी मेरे लिए किसी आश्चर्य और खुशी से कम नहीं थी। क्योंकि पिता कोलकाता में ही ड्राइवरी का काम करते थे और मां भी वहीं उनके साथ रहती थीं। इसलिए मेरा जन्म भी उसी अस्पताल में 1947 में हुआ था।

साथ गुजारे 32 साल, इन फिल्मों में किया काम
- शशि कपूर के चक्कर में सरकारी नौकरी छोड़ देने वाले रामतीरथ को फिल्मों में वो मुकाम भले ही न हासिल हुआ हो, जिसकी एक कलाकार की हसरत होती है। लेकिन शशि कपूर के दिल में उन्होंने जगह जरूर बना ली।
- नतीजा ये हुआ कि बतौर बॉडीगार्ड और ड्राइवर रामतीरथ ने शशि कपूर के साथ 32 साल गुजारे। इस दौरान उन्होंने आक्रोश, सत्यम शिवम् सुंदरम जैसी दर्जनों फिल्मों में इन्होंने छोटे-मोटे रोल भी किए। 7 साल पहले घर लौटे राम तीरथ अब खेती-बारी में लगे हैं।

साहब की खैरियत जानने के लिए 3 महीने पहले बेटे को भेजा
- राम तीरथ मालिक के वफादार सिपाहियों में थे। इधर वो खुद अस्वस्थ चल रहे थे। लेकिन बीमार चल रहे साहब को देखने वो कई बार मुंबई गए।
- करीब तीन महीने पहले खुद बीमारी के चलते जब मुंबई नहीं जा सके तो उन्होंने अपने बेटे संतोष मिश्रा को उनकी खैरियत लेने भेजा था। संतोष बताते हैं- ''साहब ने जब उन्हें देखा तो वो रोने लगे। कुछ कहना भी चाह रहे थे, लेकिन बीमारी के चलते बोल नहीं सके।''

दाह संस्कार में खुद नहीं पहुंच सके तो भतीजे को भेजा
- 4 दिसंबर को उनकी मौत की खबर से उन्हें गहरा आघात लगा। वो चाहकर भी इतनी जल्दी अंतिम संस्कार में नहीं पहुंच सके। जिसकी कसक उनके दिल में है। उनका भतीजा मुंबई में मौजूद था। उन्होंने फौरन भतीजे को दाह संस्कार में शामिल होने को बोला। वो वहां गया था।

मंदिर में रखी है शशि कपूर की मूर्ति
- कुड़ेभार थाना क्षेत्र के एक छोटे से गांव के रहने वाले राम तीरथ मिश्र का परिवार गहरे शोक में है। अपने मालिक के अंतिम संस्कार में न पहुंच पाने का अफसोस भी है। उन्होंने साहब की तस्वीर को घर के मंदिर में एक जगह दे दी है। अब वो उसके आगे भी माथे टेकते हैं।