Hindi News »Uttar Pradesh »Lucknow »News» Special Story On Martyr Hari Singh Bisht

गोलियों से छलनी हो गया था सीना, फिर भी आतंकियों पर भारी पड़ा ये जांबाज

गोली लगने के बाद भी लेफ्टिनेंट हरि सिंह बिष्ट ने दो आतंकी कमांडरों को मार गिराया था।

आदित्य कुमार मिश्र | Last Modified - Feb 17, 2018, 06:13 PM IST

  • गोलियों से छलनी हो गया था सीना, फिर भी आतंकियों पर भारी पड़ा ये जांबाज
    +7और स्लाइड देखें

    लखनऊ.राजधानी के रहने वाले लेफ्टिनेंट हरि सिंह बिष्ट आतंकियों से लड़ते हुए देश के लिए शहीद हो गए थे। लेकिन, शहादत हासिल करने से पहले इस फौजी ने ऐसा काम कर दिया, जिसे देश हमेशा याद रखता है और रखता रहेगा। बता दें कि गोली लगने के बावजूद इस लेफ्टिनेंट ने एक आतंकी संगठन के दो बड़े आतंकियों को मार गिराया था। इनकी फैमिली को हाल ही में एक पावर विंग नाम की संस्था ने सम्मानित किया है। कुछ ऐसी है इस शहीद की विजय गाथा...

    - बता दें कि 21 जुलाई 2000 को लेफ्टिनेट हरी सिंह बिष्ट को जानकारी मिली थी कि जम्मू कश्मीर के पूंछ जिले के मानधार सेक्टर के मंझियारी गांव में आतंकियों का एक गिरोह छिपा हुआ है।

    आतंकियों की गोलीबारी में घायल हुए

    - हरि सिंह ने अपनी टीम के साथ सर्च ऑपरेशन शुरू किया। इतने में आतंकियों की तरफ से गोलाबारी शुरू हो गई। उस गोलाबारी में हरि सिंह बुरी तरह से घायल हो गए।

    ऐसे किया था दो आतंकी कमांडरों का खात्मा

    - इसके बाद हरि सिंह जमीन पर रेंगते हुए आतंकियों के करीब जा पहुंचे और फिर एक पैर पर खड़े होकर आधे घंटे तक दुश्मनों पर गोलियां बरसाते रहे। हरि सिंह की इस गोलीबारी में हिजबुल मुजाहिद्दीन का पीर पंजाल इलाके का डिविजनल कमांडर आबु अहमद तुर्की और एरिया कमांडर अबू हमजा मार गया। इसके बाद हरि सिंह भी शहीद हो गए।

    शहीद की छोटी बहन ने शेयर कीं वो यादें

    शहीद लेफ्टिनेंट हरि सिंह बिष्ट की छोटी बहन मोनिका बिष्ट ने DainikBhaskar.com से बात की और अपने बड़े भाई लेफ्टिनेट हरी सिंह बिष्ट के लाइफ से जुड़ी कई इंटरेस्टिंग स्टोरी शेयर की।

    आगे की स्लाइड्स में जानें कैसे हरि सिंह के माता-पिता उन्हें डॉक्टर बनाना चाहते थे, लेकिन उन्होंने इंडियन आर्मी ज्वाइन की...

  • गोलियों से छलनी हो गया था सीना, फिर भी आतंकियों पर भारी पड़ा ये जांबाज
    +7और स्लाइड देखें

    मिडिल क्लास फैमिली में हुआ जन्म

    - मोनिका बताती हैं- "बड़े भाई लेफ्टिनेंट हरि सिंह बिष्ट का जन्म 31 दिसम्बर 1974 को उत्तराखंड के अल्मोड़ा जिले के डोबा नामक गांव में एक मिडिल क्लास फैमिली में हुआ था।"

    - "पिता पूरन सिंह आर्मी में थे और मां शान्ति देवी हाउस वाइफ। चार भाई-बहनों में से हरि सिंह सबसे बड़े थे। उनका बचपन लखनऊ में बीता था और शुरुआती पढ़ाई देहरादून से हुई। फिर 10वीं से 12वीं तक की पढ़ाई लखनऊ के केंद्रीय विद्यालय से की थी।"

  • गोलियों से छलनी हो गया था सीना, फिर भी आतंकियों पर भारी पड़ा ये जांबाज
    +7और स्लाइड देखें

    मां ने डॉक्टर बनाने का देखा था सपना

    - मोनिका बताती हैं- "पिता आर्मी में थे, इसलिए मां नहीं चाहती थी उनका इकलौता बेटा हरि सिंह भी पिता की तरह आर्मी ज्वाइन करे। उनकी ख्वाहिश थी कि बेटा एक डॉक्टर बने।"

    - "मां की इच्छा के लिए हरि सिंह ने सीपीएमटी का एग्जाम दिया और उसमें सेलेक्ट हो गए, लेकिन उन्होंने मेडिकल में एडमिशन नहीं लिया।"

  • गोलियों से छलनी हो गया था सीना, फिर भी आतंकियों पर भारी पड़ा ये जांबाज
    +7और स्लाइड देखें

    आर्मी स्कूल में टीचिंग भी की

    - "उन्होंने मां से ये कहकर मेडिकल में एडमिशन लेने से इनकार कर दिया कि डॉक्टर बनना मेरी नहीं आप लोगों की इच्छा थी, इसलिए मैं इस एग्जाम में बैठा, लेकिन मेरी इच्छा देश के लिए सिपाही बनने की है।"

    - "आप मुझें एक मौक़ा जरुर दीजिए। उसके बाद 1996 में उनका सिलेक्शन आर्मी स्कूल में टीचर के रूप में हो गया। वहां पर कुछ दिनों तक टीचिंग की।"

  • गोलियों से छलनी हो गया था सीना, फिर भी आतंकियों पर भारी पड़ा ये जांबाज
    +7और स्लाइड देखें

    ऐसे पूरा हुआ आर्मी में जाने का सपना

    - मोनिका के मुताबिक- "पिता के कहने पर टीचिंग कि जॉब छोड़कर हरि सिंह सीडीएस की तैयारी करने लगे। इसी बीच उनका सिलेक्शन एमबीए में हुआ, लेकिन उन्होंने इसके लिए भी इंकार कर दिया।"

    -मोनिका बताती हैं- "हरि सिंह की आर्मी ज्वाइन करने की इच्छा 4 अगस्त 1998 में पूरी हुई। उनका सिलेक्शन आर्मी ऑफिसर के तौर पर हुआ।"

  • गोलियों से छलनी हो गया था सीना, फिर भी आतंकियों पर भारी पड़ा ये जांबाज
    +7और स्लाइड देखें

    पेरेंट्स थे काफी खुश

    - "डेढ़ साल के ट्रेनिंग के बाद 11 दिसम्बर 1999 को उन्होंने गोरखा राइफल्स में आर्मी ऑफिसर के रूप में ड्यूटी ज्वाइन की। उस टाइम पैरेंट्स भी काफी खुश हुए थे।"

    - "उन्हें इस बात की ज्यादा खुशी थी कि उनका बेटा कड़ी मेहनत से अपने दम पर इस पद पर पहुंचा है। 16 जनवरी 2000 को हरी सिंह शाहजहांपुर के गोरखा राइफल्स में ड्यूटी करने के लिए रवाना हो गए।"

  • गोलियों से छलनी हो गया था सीना, फिर भी आतंकियों पर भारी पड़ा ये जांबाज
    +7और स्लाइड देखें

    दुश्मनों से लड़ते हुए ऐसे हुए थे शहीद

    मोनिका बताती हैं- "17 जून 2000 को सिर्फ तीन दिन की छुट्टी पर अचानक से हरि सिंह घर आये थे, परिवार के साथ समय बिताया और चले गए।"

    - "ड्यूटी पर लौटते टाइम मां से ये वादा किया कि दिसम्बर में एक महीने की छुट्टी लेकर घर आउंगा, लेकिन घर वाले इन्तजार करते रह गये और हरि सिंह कभी घर वापस लौट कर नहीं आए।"

  • गोलियों से छलनी हो गया था सीना, फिर भी आतंकियों पर भारी पड़ा ये जांबाज
    +7और स्लाइड देखें

    राष्ट्रपति के हाथों मिला था ये वीरता पुरस्कार

    -मोनिका बताती हैं- "दुश्मनों से वीरता से लड़ते हुए शहीद होने पर देश के राष्ट्रपति ने बड़े भाई हरि सिंह को शौर्य चक्र से सम्मानित किया।"

    - "ये अवार्ड मेरी मां शांति देवी को दिल्ली के राष्ट्रपति भवन में राषट्रपति ने दिया था।"

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Lucknow News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Special Story On Martyr Hari Singh Bisht
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×