--Advertisement--

श्रीश्री रविशंकर ने की सलमान नदवी से मुलाकात, कहा- सौहार्दपूर्ण माहौल से हल होगा अयोध्या मुद्दा

मौलाना सलमान नदवी को AIMPLB से बाहर निकाला जा चुका है।

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 09:58 AM IST
श्रीश्री रविशंकर ने मंगलवार को सीएम योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की थी। श्रीश्री रविशंकर ने मंगलवार को सीएम योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की थी।

लखनऊ. आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्रीश्री रविशंकर ने गुरुवार को लखनऊ में मौलाना सलमान नदवी से मुलाकात की। दोनों लोगों के बीच अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर चर्चा हुई। इस मुलाकात के दौरान पूर्व IAS अनीस अंसारी भी मौजूद थे। मुलाकात के बाद मीडिया से बात करते हुए श्रीश्री रविशंकर ने कहा कि हम पहले से ही कहते रहे हैं कि आपसी भाईचारे और सौहार्दपूर्ण माहौल के जरिए इस मामले या हल निकालना चाहिए। इसी को लेकर आज यहां चर्चा हुई है। हमारी पहले भी कई लोगों से बात हुई है और आगे भी हम ये चर्चा जारी रखेंगे।


- चर्चा के लिए 28 मार्च को एक मीटिंग बुलाई गई है। जिसमें कई लोग शामिल होंगे। इसमें किसी भी पोलिटिकल पार्टी का कोई इन्वॉल्वमेंट नहीं है ।
- वहीं, इससे पहले श्रीश्री रविशंकर ने वाराणसी में कहा था कि देश में सौहार्दपूर्ण माहौल बना रहे इसके लिए दोनों पक्षों के बीच बातचीत चल रही है। कोर्ट से राम जन्मभूमि विवाद का कोई हल नहीं निकल सकता क्योंकि कोर्ट के फैसले से किसी एक पक्ष को हार स्वीकार करनी पड़ेगी।


श्रीश्री ने CM योगी से गोरखपुर में की थी मुलाकात
- 27 फरवरी को वाराणसी में संत समागम के बाद श्रीश्री अचानक सीएम योगी से मुलाकात करने के लिए गोरखपुर पहुंचे थे। जहां सीएम योगी आदित्यनाथ ने उनका स्वागत किया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने कार्यक्रम में बदलाव कर उनसे मुलाकात की थी। दोनों के बीच करीब 1 घंटे तक बैठक चली थी।

AIMPLB से निकाले जा चुके हैं सलमान नदवी

- अयोध्या मामले को अदालत से बाहर सुलझाने की पहल करने वाले ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य मौलाना सलमान नदवी को बोर्ड से बर्खास्त कर दिया गया है।
- नदवी ने बेंगलुरु में श्रीश्री रविशंकर से मुलाकात की थी। जहां पर उन्होंने अयोध्या में विवादित स्थल से मस्जिद शिफ्ट करने का फार्मूला दिया था। उनकी राय से पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य नाराज हुए थे। जिसके बाद हैदराबाद में हुई बोर्ड की बैठक में कार्यकारिणी के दो सदस्य कमाल फारूकी और डॉ कासिम रसूल इलियास ने मौलाना नदवी का विरोध किया था।
- बोर्ड ने 4 सदस्यीय जांच कमेटी का गठन किया था। जिसने अनुशासनहीनता की रिपोर्ट दी। इसके बाद मौलाना सलमान नदवी को बोर्ड से बाहर कर दिया गया है।
- बोर्ड से बर्खास्तगी के बाद सलमान नदवी ने मीडिया से बातचीत में कहा, "हम अपने रुख पर कायम रहेंगे। बोर्ड निकालता है तो निकाले मगर अयोध्या विवाद को बातचीत से सुलझाने के लिए चलाई गई। अपनी मुहीम से पीछे नहीं हटेंगे।"

लखनऊ में मस्जिद बनाने का प्रपोजल रखा है शिया वक्फ बोर्ड ने
- वहीं, यूपी के शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के बैनर तले कोर्ट में एक मसौदा पेश किया था। इस मसौदे के मुताबिक, विवादित जगह पर राम मंदिर बनाया जाए और मस्जिद लखनऊ में बनाई जाए। इस मस्जिद का नाम राजा या शासक के नाम पर रखने के बजाए मस्जिद-ए-अमन रखा जाए।

मुस्लिम बोर्ड का बाबरी पर क्या स्टैंड है?

- AIMPLB ने कहा है कि बाबरी मस्जिद बनाने की लड़ाई जारी रहेगी। मस्जिद की जगह नहीं बदली जाएगी और जमीन भी किसी को तोहफे में नहीं दी जाएगी। इससे पहले बोर्ड ने कहा था कि अयोध्या मसले पर उसका रुख नहीं बदलेगा। एक बार मस्जिद बन गई तो फिर वहां हमेशा मस्जिद ही रहेगी। AIMPLB ने ये बात हैदराबाद में चल रही 26वीं प्लेनरी में कही थी।

ओवैसी ने बाबरी मुद्दे पर क्या कहा?

- ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लमीन (AIMIM) के चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने कहा था कि बाबारी मस्जिद मसले पर कोई समझौता नहीं किया जाएगा।
- हैदाराबाद में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में ओवैसी ने कहा, "मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड का रुख बाबरी मस्जिद मसले पर समझौते करने का कतई नहीं है। ये साफ कहा गया है कि जब एक मस्जिद बना दी गई तो वो हमेशा मस्जिद ही रहेगी। जो लोग इससे समझौता करेंगे, उन्हें अल्लाह को जवाब देना होगा।"


सुप्रीम कोर्ट में क्या हुआ?
- कोर्ट ने यह साफ कर दिया कि अयोध्या विवाद को धार्मिक नजरिये से नहीं, बल्कि सिर्फ भूमि विवाद के तौर पर ही देखा जाएगा।
- सीजेआई दीपक मिश्रा समेत तीन जजों की स्पेशल बेंच के सामने सुनवाई शुरू होते ही पिटीशनर्स के वकील ने कहा कि अयोध्या विवाद लोगों की भावनाओं से जुड़ा है। इस पर चीफ जस्टिस बोले- ऐसी दलीलें मुझे पसंद नहीं, यह सिर्फ भूमि विवाद है।

मौलाना सलमान नदवी को AIMPLB से बाहर निकाला जा चुका है। मौलाना सलमान नदवी को AIMPLB से बाहर निकाला जा चुका है।