--Advertisement--

स्कूल जा रही थी दो बहनें किडनैप, 8 घंटे तक लड़ी-फिर ऐसे बचाई जान

बाराबंकी में घर से स्कूल के लिए निकली दो बहनों को 4 नकाबपोश बदमाशों ने किडनैप कर दिया।

Dainik Bhaskar

Dec 08, 2017, 03:28 PM IST
छात्रा ने बताया- एग्जाम देने के लिए हम दोनों बहनें घर से निकले। एक वाइट कलर की वैन आई और मेरा मुंह-आंख दबाकर अंदर खींच लिया। छात्रा ने बताया- एग्जाम देने के लिए हम दोनों बहनें घर से निकले। एक वाइट कलर की वैन आई और मेरा मुंह-आंख दबाकर अंदर खींच लिया।

बाराबंकी(यूपी). यहां गुरुवार सुबह दो बहनें घर से स्कूल के लिए निकली। इसी दौरान 4 नकाबपोश बदमाशों ने उन्हें किडनैप कर दिया। 35 किलोमीटर दूर पहुंचते ही बदमाश उन्हें वैन में लॉक कर भाग निकले। दोनों बहनों ने बड़ी बहादुरी से लॉक खोलकर भागकर अपनी जान बचाई। करीब 8 घंटे बाद परिजनों को उनकी बेटियां सही सलामत मिली। मुंह-आंख दबाकर खींचा वैन के अंदर...


- मामला नगर कोतवाली स्थित लैयामण्डी इलाके का है। यहां संजय शर्मा पत्नी, दो बेटियों वीयशलक्ष्मी(11), ऐश्वर्यलक्ष्मी(4) और एक 14 साल के बेटे के साथ रहते हैं।
- सिटी मोंटेसरी स्कूल में बड़ी बेटी कक्षा 6वीं और छोटी बेटी फर्स्ट क्लास में पढ़ती हैं। गुरुवार सुबह 9:30 बजे दोनों घर से स्कूल के लिए निकली, लेकिन रास्ते में ही उनका अपहरण हो गया।
- वीयशलक्ष्मी ने बताया, ''एग्जाम देने के लिए हम दोनों बहनें घर से निकले। रामसेवक पार्क के पास पहुंचते ही रिक्शे का इंतजार करने लगे।''
- ''तभी एक वाइट कलर की वैन आकर रुकी और मेरा मुंह-आंख दबाकर अंदर खींच लिया। इसके बाद छोटी सिस्टर को पकड़ लिया।''
- ''वैन में 4 नकाबपोश बैठे थे, उन्होंने हमारी आंखों पर काली पट्टी बांध दी। डालीगंज स्थित सब्जी मंडी के पास पर पहुंचते ही पट्टी खोलकर वैन लॉक कर चले गए।''
- ''करीब शाम 5:30 बजे किसी तरह हम दोनों ने लॉक खोला और भागकर पास बने स्टेशन पर पहुंचे। वहां पुलिस की मदद से घरवालों को कॉल करके सूचना दी।''

क्या कहना है पुलिस का ?
- एएसपी दिगंबर कुशवाहा का कहना है, '' परिजनों की तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। मामले की जांच की जा रही है।''

छात्रा के मुताबिक -  वैन में 4 नकाबपोश बैठे थे। उन्होंने हमारी आंखों पर काली पट्टी बांध दी थी। छात्रा के मुताबिक - वैन में 4 नकाबपोश बैठे थे। उन्होंने हमारी आंखों पर काली पट्टी बांध दी थी।
छात्रा ने बताया- नकाबपोश वैन लॉक कर चले गए। किसी तरह हमने लॉक खोला और भागकर पास बने सिटी रेलवे स्टेशन पर पहुंचे। छात्रा ने बताया- नकाबपोश वैन लॉक कर चले गए। किसी तरह हमने लॉक खोला और भागकर पास बने सिटी रेलवे स्टेशन पर पहुंचे।
X
छात्रा ने बताया- एग्जाम देने के लिए हम दोनों बहनें घर से निकले। एक वाइट कलर की वैन आई और मेरा मुंह-आंख दबाकर अंदर खींच लिया।छात्रा ने बताया- एग्जाम देने के लिए हम दोनों बहनें घर से निकले। एक वाइट कलर की वैन आई और मेरा मुंह-आंख दबाकर अंदर खींच लिया।
छात्रा के मुताबिक -  वैन में 4 नकाबपोश बैठे थे। उन्होंने हमारी आंखों पर काली पट्टी बांध दी थी।छात्रा के मुताबिक - वैन में 4 नकाबपोश बैठे थे। उन्होंने हमारी आंखों पर काली पट्टी बांध दी थी।
छात्रा ने बताया- नकाबपोश वैन लॉक कर चले गए। किसी तरह हमने लॉक खोला और भागकर पास बने सिटी रेलवे स्टेशन पर पहुंचे।छात्रा ने बताया- नकाबपोश वैन लॉक कर चले गए। किसी तरह हमने लॉक खोला और भागकर पास बने सिटी रेलवे स्टेशन पर पहुंचे।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..