--Advertisement--

यूपी बोर्ड: सख्ती के कारण 6 लाख से ज्यादा छात्रों ने छोड़ी परीक्षा, डिप्टी सीएम कर रहे हैं औचक निरीक्षण

यूपी बोर्ड की परीक्षा 5 फरवरी से शुरू हुई है, नकल विहीन परीक्षा के लिए कड़े इंतजाम हैं।

Dainik Bhaskar

Feb 09, 2018, 08:37 AM IST
डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा परीक्षा केन्द्रों का औचक निरीक्षण कर रहे हैं। फाइल डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा परीक्षा केन्द्रों का औचक निरीक्षण कर रहे हैं। फाइल

लखनऊ. यूपी बोर्ड की परीक्षाओं को में नकल रोकने के लिए सरकार और माध्यमिक परीक्षा परिषद (यूपी बोर्ड) ने कड़े इंतजाम किए हैं। नकल रोकने के लिए की गई सख्ती के कारण परीक्षा के तीसरे दिन करीब सवा 6 लाख छात्र-छात्राओं ने परीक्षाएं छोड़ दी हैं। आपको बता दें कि यूपी बोर्ड की परीक्षाएं 6 फरवरी से शुरू हुई हैं। गुरुवार को बोर्ड द्वारा जारी की गई एक रिपोर्ट के अनुसार, 8 फरवरी तक 6,33,217 छात्र परिक्षाएं छोड़ दी है। 8 फरवरी को प्रदेशभर में 19,868 छात्रों ने परीक्षा छोड़ दी है।

-वहीं, अबतक 182 छात्र-छात्राओं को नकल करते हुए पकड़े गए हैं। वहीं, तीसरे दिन तक 9 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। आजमगढ़ में अब तक 39628, वाराणसी में 7713 और देवरिया में 25578 छात्र परीक्षा छोड़ चुके हैं।

पहले ही दिन 1 लाख 80 हजार छात्रों ने छोड़ दी थी परीक्षा

- 5 फरवरी को बोर्ड द्वारा जारी रिपोर्ट के अनुसार, 1 लाख 80 हजार 826 बच्चों ने परीक्षा छोड़ दी थी। वहीं, एग्जाम के दौरान उड़नदस्ते ने 16 नकलचियों को पकड़ा है जबकि इलाहाबाद स्थित नैनी के बाल भारती इंटर कॉलेज में स्टूडेंट्स को सामूहिक नकल कराते एसटीएफ ने तीन लोगों को अरेस्ट किया था।

बनाए गए हैं 8549 परीक्षा केंद्र

- बता दें, 12 मार्च तक चलने वाले यूपी बोर्ड एग्जाम के लिए प्रदेशभर में 8549 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। प्रदेश में कुल 66,370,18 छात्र-छात्राएं परीक्षा दे रहे हैं। इस बार 10वीं की परीक्षा में 37,12,508 छात्र जबकि 12वीं की परीक्षा में 30,17,032 छात्र शामिल होने वाले हैं।

नकल रोकने के लिए की गई सख्ती

- नकल विहीन परीक्षा कराने के लिए इस बार कई बदलाव किए गए हैं। प्रदेश में पहली बार गड़बड़ी रोकने के लिए सॉफ्टवेयर के माध्यम से केंद्र निर्धारण किया गया है।
- सभी संवेदनशील, अतिसंवेदनशील केंद्रों पर अतिरिक्त सतर्कता बरतने के लिए कड़े निर्देश दिए गए हैं।
- बोर्ड की परीक्षा के दौरान सेंटर पर टीचर्स के भी स्मार्टफोन के यूज पर रोक लगाई गई है।
- स्मार्ट फोन यूज करने वाले टीचर्स को अपना फोन बंद करके केंद्र व्यवस्थापक के पास जमा कराना होगा, परीक्षा समाप्त होने के बाद ही दोबारा उसे स्मार्टफोन मिलेगा।
- परीक्षा के दौरान संवेदनशील और अतिसंवेदनशील केंद्रों पर एसटीएफ नजर रखेगी और एलआईयू नकल माफियाओं को अपने राडार पर रखेगी।
- नकल रोकने के लिए 3 सदस्यीय कमेटी मॉनिटरिंग कर रही है।

पहली बार क्या-क्या हो रहा है ?

- पहली बार परीक्षा केन्द्रों में नकल रोकने के लिए सीसीटीवी लगाए गए हैं।
- STF सादे कपड़े में परीक्षा केन्द्रों में निगरानी कर रही है।
- सेंटर से 100 मीटर की दूरी पर मीडियाकर्मियों को रोक लगाई गई है।
- परिजन नहीं पहुंच सकते सेंटर तक
- शिक्षकों के लिए आधार कार्ड जरूरी है।

आगरा में सबसे ज्यादा संवेदनशील केन्द्र

-प्रदेश में 1521 संवेदनशील और 566 अतिसंवेदनशील परीक्षा केंद्र चिन्हित किए गए हैं।
-आगरा में 104 हैं संवेदनशील केंद्र जबकि अतिसंवेदनशील केंद्रों की है संख्या 37 है।
-अलीगढ़ में संवेदनशील केंद्रों की संख्या 100 है जबकि अतिसंवेदनशील केंद्रों की संख्या 33 है।
-इलाहाबाद में संवेदनशील केंद्रों की संख्या 76 है जबकि अतिसंवेदनशील केंद्रों की संख्या 21 है।
-मथुरा में संवेदनशील केंद्रों की संख्या 74 और अति संवेदनशील केंद्रों की संख्या 24 है।
-एटा जिले में संवेदनशील केंद्रों की संख्या 44 है जबकि अतिसंवेदनशील केंद्रों की संख्या भी यहां 44 ही है।


डिप्टी सीएम कर रहे हैं औचक निरीक्षण

-नकल विहीन परीक्षा कराने के लिए डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा खुद औचक निरीक्षण कर रहे हैं। दिनेश शर्मा, गोण्डा, जौनपुर और हरदोई के कई स्कूलों का औचक निरीक्षण कर चुके हैं।

5 फरवरी से शुरू हुई परीक्षा 12 मार्च तक चलेगी। 5 फरवरी से शुरू हुई परीक्षा 12 मार्च तक चलेगी।
8 फरवरी को बोर्ड द्वारा जारी किए गए रिपोर्ट में 6,33,217 छात्र परिक्षाएं छोड़ दिए हैं। 8 फरवरी को बोर्ड द्वारा जारी किए गए रिपोर्ट में 6,33,217 छात्र परिक्षाएं छोड़ दिए हैं।
X
डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा परीक्षा केन्द्रों का औचक निरीक्षण कर रहे हैं। फाइलडिप्टी सीएम दिनेश शर्मा परीक्षा केन्द्रों का औचक निरीक्षण कर रहे हैं। फाइल
5 फरवरी से शुरू हुई परीक्षा 12 मार्च तक चलेगी।5 फरवरी से शुरू हुई परीक्षा 12 मार्च तक चलेगी।
8 फरवरी को बोर्ड द्वारा जारी किए गए रिपोर्ट में 6,33,217 छात्र परिक्षाएं छोड़ दिए हैं।8 फरवरी को बोर्ड द्वारा जारी किए गए रिपोर्ट में 6,33,217 छात्र परिक्षाएं छोड़ दिए हैं।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..