--Advertisement--

PM से कम नहीं ये गवर्नर...वो मारते रहे कागज के गोले, फिर भी नॉन-स्टॉप पढ़ी स्पीच

लखनऊ. बुधवार को संसद में पीएम मोदी ने विपक्ष के हंगामे के बावजूद जोरदार भाषण दिया।

Danik Bhaskar | Feb 08, 2018, 06:37 PM IST

लखनऊ. बुधवार को संसद में पीएम मोदी ने विपक्ष के हंगामे के बावजूद जोरदार भाषण दिया। सोशल मीडिया पर इसकी काफी चर्चा हो रही है। dainikbhaskar.com आपको यूपी के गवर्नर राम नाइक के बारे में बताने जा रहा है। जिन्होंने पीएम की तरह ही गुरुवार को विपक्ष के जोरदार हंगामे के बीच 1 घंटा 25 मिनट तक 38 पेज का अभिभाषण पढ़ा।

सोशल मीडिया पर हो रही है मोदी से तुलना

- गवर्नर के अभिभाषण के दौरान विपक्ष के विधायकों ने हंगामा शुरू कर दिया। विपक्ष ने गवर्नर वापस जाओ...वापस जाओ के नारे लगाए।

- जैसे ही गवर्नर ने पढ़ना शुरू किया वैसे ही विपक्ष के नेताओं ने उनके ऊपर कागज के गोले बनाकर फेंकने शुरू कर दिए। साथ ही सरकार विरोधी नारे लगाए।

- इस दौरान 2 मार्शल फाइल लेकर गवर्नर के सामने फाइल लेकर खड़े हो गए, ताकि कोई गोला उन तक न आ सके। इतने विरोध के बाद भी राम नाइक अभ‍िभाषण पढ़ते रहे।

- इस मामले के बाद सोशल मीड‍िया पर लोगों ने राम नाइक की तुलना नरेंद्र मोदी से करनी शुरू कर दी है।

टीवी राजेश्वर से लेकर बीएल जोशी तक ने ऐसे नहीं पढ़ा अभिभाषण

- जानकारों की मानें तो 2004 में यूपी के गवर्नर रहे टीवी राजेश्वर से लेकर 2009 में गवर्नर बने बीएल जोशी विपक्ष के हंगामे के चलते पूरा अभिभाषण नहीं पढ़ा करते थे।
- वह हमेशा अभ‍िभाषण की पहली और आखिरी लाइन पढ़ते थे। बाकी पढ़ा हुआ मान लिया जाता था। बता दें, उस समय विपक्ष काफी जोरदार हंगामा करता था।

बीजेपी नेता भी फेंक चुके हैं कागज के गोले

- 14 जुलाई 2014 को यूपी के गवर्नर बने राम नाइक का यह चौथा अभिभाषण था। हालांकि, सपा सरकार के दौरान बीजेपी के विधायक भी उनपर कागज के गोले फेंक चुके हैं। उस समय भी गवर्नर पूरा अभिभाषण पढ़ा करते थे।

अभिभाषण में क्या बोले गवर्नर

- गवर्नर राम नाइक ने अपने अभिभाषण में कहा, ''सरकार योजनाओं का लाभ प्रदेश के आख‍िरी व्यक्ति तक पहुंचाने का काम कर रही है। मेरी सरकार विकास का कार्य कर रही है।

- ''मेरी सरकार ने एंटी भूमाफिया के माध्यम से सरकारी जमीन पर अवैध रूप से कब्जा करने वाले लोगों को जेल पहुंचाया है। यूपी में संगठित रूप से अपराध करने वाले लोगों के खिलाफ यूपी कोका जैसा सख्त कानून लाया।''

- ''हमने प्रदेश में बाहरी स्तर पर भू-माफियाओं को चिन्हित किया और उनके ऊपर विधिसम्मत कार्रवाई की।''
- ''राष्ट्रीय बीमा कानून के अंतर्गत बड़ी संख्या में लोगों को यूपी में बीमाकरण किया गया। हमारी सरकार ने दीनदयाल उपाध्याय विद्यालय खोलने का प्रबंध किया।''