--Advertisement--

देश के 8 राज्यों में यूपी का 10323 Cr बिजली बिल बकाया, दूसरे नंबर पर है महाराष्ट्र

लखनऊ. देश के 8 राज्यों के सरकारी विभागों पर बिजली का बिल बकाया धनराशि का आंकलन किया गया।

Dainik Bhaskar

Jan 16, 2018, 11:03 AM IST
12 जनवरी को उदय मानीटिरिंग कमेटी के दसवीं बैठक हुई। इसमें देश के 8 राज्यों के सरकारी विभागों पर बिजली का बिल बकाया धनराशि का आंकलन किया गया। 12 जनवरी को उदय मानीटिरिंग कमेटी के दसवीं बैठक हुई। इसमें देश के 8 राज्यों के सरकारी विभागों पर बिजली का बिल बकाया धनराशि का आंकलन किया गया।

लखनऊ. बिजली कम्पनियों की आर्थिक स्थिति में व्यापक सुधार के लिए उदय अनुबन्ध के तहत कार्रवाई चल रही है, लेकिन आज भी पूरे देश में सरकारी विभागों पर बिजली के बिल बकाया हैं। इसको लेकर 12 जनवरी को उदय मानीटिरिंग कमेटी के दसवीं बैठक हुई। इसमें देश के 8 राज्यों के सरकारी विभागों पर बिजली का बिल बकाया धनराशि का आंकलन किया गया। जिसमें सामने आया कि उत्तर प्रदेश के सरकारी विभागों पर 10323 करोड़ बकाया है, जो सबसे ज्यादा है। मानीटरिंग कमेटी की 10वीं बैठक में बड़ा खुलासा...

- उत्तर प्रदेश विद्युत उपभोक्ता परिषद के अध्यक्ष अवधेश कुमार वर्मा ने बताया, ''जहां सरकारी विभागों पर सालों से करोड़ों का बिल बकाया होने के बावजूद उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जाती है, जबकि आम उपभोक्ता की बिजली सिर्फ हजारों में बकाया होने पर काट दी जाती है।''
- ''प्रदेश सरकारें चाहें तो बकायेदार विभागों के बजट में कटौती कर बिजली विभाग को शत-प्रतिशत बकाया अदा कर सकती हैं।''
- ''यूपी के आंकडों पर नजर डालें तो प्रदेश में मार्च से सितंबर के बीच 6 महीने में सरकारी विभागों पर कुल 1470 करोड़ बकाया बढ़ा है, जो यह सिद्ध करता है कि सरकारी विभाग बकाए के बावजूद भी अपने मनमाने तरीके से मस्त हैं।''
- ''बिजली कंपनियां भी उनपर कार्रवाई की औपचारिकता निभा रही हैं। वहीं, दूसरी ओर आम जनमानस किसान ग्रामीण के हजारों बकाए पर भी उन का बिजली का कनेक्शन काट दिया जाता है।''
- ''अपने आप में चिंता का विषय है और दोहरे मापदंड को दर्शाता है। अभी भी समय है कि पॉवर कारपोरेशन प्रबंधन को सरकार के सामने बकाया वसूलने के लिए बजटरी प्राविधानों के माध्यम से शत प्रतिशत बकाया वसूलने के लिए कार्रवाई करानी चाहिए।''

देश के 8 प्रमुख राज्यों में सरकारी विभागों पर बकाया धनराशि

राज्य बकाया मार्च 2017 तक बकाया सितंबर 2017 तक बकाया
उत्तर प्रदेश 8853 करोड़ 10323 करोड़
महाराष्ट्र 13364 करोड़ 4650 करोड़
केरला 2609 करोड़ 4151 करोड़
तेलंगाना 3562 करोड़ 3862 करोड़
आंध्र प्रदेश 2805 करोड़ 3340 करोड़
कर्नाटक 1879 करोड़ 2134 करोड़
हरियाणा 924 करोड़ 1021 करोड़
राजस्थान 655 करोड़ 879 करोड़
कुल बकाया 29871 करोड़ 34523 करोड़
देश के 8 प्रमुख राज्यों में सरकारी विभागों पर बकाया धनराशि। देश के 8 प्रमुख राज्यों में सरकारी विभागों पर बकाया धनराशि।
X
12 जनवरी को उदय मानीटिरिंग कमेटी के दसवीं बैठक हुई। इसमें देश के 8 राज्यों के सरकारी विभागों पर बिजली का बिल बकाया धनराशि का आंकलन किया गया।12 जनवरी को उदय मानीटिरिंग कमेटी के दसवीं बैठक हुई। इसमें देश के 8 राज्यों के सरकारी विभागों पर बिजली का बिल बकाया धनराशि का आंकलन किया गया।
देश के 8 प्रमुख राज्यों में सरकारी विभागों पर बकाया धनराशि।देश के 8 प्रमुख राज्यों में सरकारी विभागों पर बकाया धनराशि।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..