--Advertisement--

हंगामे के बीच आज अनुपूरक बजट पेश करगी योगी सरकार

विपक्ष लगातार विधानसभा में हंगामा कर रहा है।

Danik Bhaskar | Dec 18, 2017, 09:03 AM IST
विपक्ष विंधानसभा में लगातार हंगामा कर रहा है। विपक्ष विंधानसभा में लगातार हंगामा कर रहा है।

लखनऊ. योगी सरकार विधानसभा में आज 2017-18 का पहला अनुपूरक बजट पेश किया। ये योगी सरकार का पहला अनुपूरक बजट है। योगी सरकार ने अपना पहला अनुपूरक बजट 11 हजार 3 सौ 88.17 करोड़ रुपए का पेश किया है। बता दें, कांग्रस के वॉकआउट के बावजूद बजट पास हो गया। वहीं, सपा के प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने बताया, बजट बेमतलब का है।

बजट की खास बातें-

- अनुसूचित जातियों के लिए विशेष घटक योजना के तहत 2091 करोड़।
- स्वच्छ भारत अभियान (ग्रामीण) के अन्तर्गत शौचालयों के निर्माण में 1215.39 करोड़।
- क्लास 1 से 8 तक के स्टूडेंट्स को फ्री स्वेटर उपलब्ध कराने के लिए 390 करोड़।
- ऊर्जा विभाग के लिए 759.48 करोड़।
- प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) के लिए 413.18 करोड़।
- मातृत्व लाभ योजना-प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के क्रियान्वयन के लिए 290.98 करोड़।
- आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों एवं सहायिकाओं को मानदेय के लिए 100 करोड़।
- सचिवालय में ई-ऑफिस व्यवस्था के लिए 25 करोड़।
- विभाग के सभी विभागों में बायोमेट्रिक एवं आधार पर आधारित उपस्थिति प्रणाली के लिए 65 लाख।


ATS को मिलेंगे 24 वाहनों के लिए 4.49 करोड़ रु
- गृह विभाग के तहत आतंकवाद निरोधक दस्ता को आॅपरेशनल कार्यों के लिए 4.49 करोड़, स्पेशल टास्क फोर्स के लिए 24 नए चार पहिया वाहन।
- 100 दो पहिया वाहनों के लिए 3.52 करोड़।
- गृह (पुलिस) विभाग में विभिन्न मदों हेतु 150.60 करोड़।
- जिला कारागार बलिया, इटावा, फिरोजाबाद, गाजियाबाद, गोंडा, देवरिया और गाजीपुर में शौचालय निर्माण के लिए 2.42 करोड़।

10 करोड़ रुपए में होगा मानसरोवर भवन के लिए
- कैलाश मानसरोवर भवन के लिए 10 करोड़। वाराणसी में गंगा नदी से विश्वनाथ मंदिर तक के मार्गों के सुन्दरीकरण के लिए 40 करोड़।
- संस्कृति विभाग के तहत राजकीय बौद्ध संग्रहालय गोरखपुर के सुदृढ़ीकरण के लिए 75 लाख।
- रामगढ़ताल परियोजना गोरखपुर स्थित मुक्ताकाशी मंच के अनुरक्षण व सुधार के लिए 75 लाख की अनुपूरक मांग प्रस्तावित है।

पर्यटन, खेलकूद के लिए भी मिला बजट
- पर्यटन विभाग के तहत जनपद चित्रकूट में रामघाट के लिए 1 करोड़।
- ट्रैवल ट्रेड के लिए 2 करोड़ रु। मेले/महोत्सव के आयोजन के लिए 2 करोड़।
- खेल के लिए 16 लाख रुपए। अल्पसंख्यक कल्याण विभाग अन्तर्गत अल्पसंख्यक बहुल्य क्षेत्रों में बहुउद्देशीय शैक्षणिक हब की स्थापना के लिए 10 करोड़।
- अल्पसंख्यक समुदाय के निर्धन अभिभावकों की बेटियों के विवाह के लिए 74 करोड़।
- महिला एवं बाल कल्याण विभाग के तहत आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों एवं सहायिकाओं को मानदेय के लिए 100 करोड़ की अनुपूरक मांग रखी गई है।

अनुपूरक बजट में क्या होगा खास

-योगी सरकार वित्त वर्ष 2017-18 का पहला अनुपूरक बजट सोमवार को पेश करेगी। बजट 12 हजार करोड़ रुपये रहने का अनुमान है। वित्तमंत्री राजेश अग्रवाल द्वारा विधानसभा में पेश होने वाले इस बजट में कुछ नई योजनाओं का एलान भी हो सकता है।
-पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे, खादी व पर्यटन को मिल सकता है। पैसा केंद्र की योजनाओं से बनने वाली सड़कों के लिए गठित यूपी सड़क निर्माण निगम, खादी ग्रामोद्योग के अंतर्गत पंडित दीनदयाल उपाध्याय के नाम से प्रस्तावित नई योजना, नैमिषारण्य विकास, पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे, कृषि, दुग्ध विकास, पंचायतीराज, आईटी, गन्ना आदि विभागों से जुड़े प्रस्तावों पर बजट का एलान हो सकता है।
-केंद्रीय योजनाओं के लिए केंद्र से मिली रकम का बजटीय प्रावधान कराने, प्रदेश सरकार की चालू योजनाओं को पूरा करने के लिए जरूरी रकम के बंदोबस्त के साथ आकस्मिक निधि से लिए गए 200 करोड़ रुपये से अधिक की प्रतिपूर्ति से जुड़े प्रस्ताव भी शामिल हो सकते हैं।

-बीजेपी सरकार विधानमंडल के दोनों सदनों में अनुपूरक बजट पेश करेगी। विकास योजनाएं के लिए धनराशि का इंतजाम होगा इस अनुपूरक बजट में। योगी सरकार का यह पहला अनुपूरक बजट है। इसमें केंद्रीय योजनाओं के लिए भी बजट की व्यवस्था की गई है।

-डेढ़ दर्जन ऐसी योजनाएं हैं, जहां बजट की दरकार, अनुपूरक बजट में इन योजनाओं के लिए भी बजट की इंतजाम किया जा सकता है।
-धार्मिक नजरिए से महत्वपूर्ण काशी, मथुरा जैसे शहरों के विकास के लिये बजट में प्रावधान है। 12 हजार करोड़ से अधिक की योजनाओं के लिए धनराशि के प्रावधान है।
-वहीं, बिजली और कानून व्यवस्था के मुद्दे पर विपक्ष सरकार को घेरेगी। भाजपा के पूर्व विधायक प्रेम प्रकाश तिवारी के बेटे वैभव तिवारी की हत्या का मामला सदन में उठ सकता है। विपक्ष ने कानून व्यवस्था के मुद्दे पर सरकार को घेरने की तैयारी की है। गुजरात और हिमाचल के चुनावी परिणामों जो लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ विधानसभा के सेंट्रल हॉल में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सकते हैं।

सीएम ने किया था संबोधित

-वहीं, शुक्रवार को हंगामे के बीच सदन से बाहर आकर सीएम योगी ने मीडिया को संबोधित किया था। सीएम योगी ने कहा- "केवल 47 लोगों के लिए पूरी विधानसभा बंधक हो जाये इसकी अनुमति नहीं मिलनी चाहिए। इन 47 लोगों की वजह से बाकी विधायकों की आवाज दबनी नहीं चाहिए।"

-"बिजली के मुद्दे पर बहस करने के बजाय ये हंगामा कर रहे हैं। इन लोगों को डर है कि अगर बहस करेंगे, तो इनकी सरकार के काले कारनामे सामने आ जाएंगे। कुछ पैसों की बढोत्तरी पर ये लोग हल्ला कर रहे हैं, लेकिन जो काम हमने किया है, उसे नहीं देख रहे हैं। डीजल से जब पंप चलता था, तो ज्यादा खर्च होता था। अब बिजली मिल रही है किसान का पैसा बच रहा है।"

फाइल। फाइल।