--Advertisement--

जब छात्राओं ने IPS ने पूछा- आपने कभी रिश्वत ली है...ऐसा था IG का जवाब

पुलिस विभाग में भष्टाचार को लेकर छात्राओं ने अधिकारियों से कई सवाल किए।

Danik Bhaskar | Dec 06, 2017, 12:26 PM IST
आईजी जयनारायन सिंह ने जवाब देते हुए कहा- वह अपनी ज़िम्मेदारी लेते हैं उनके दफ्तर में जो चाय आती है उनके पैसे भी खुद देते हैं। आईजी जयनारायन सिंह ने जवाब देते हुए कहा- वह अपनी ज़िम्मेदारी लेते हैं उनके दफ्तर में जो चाय आती है उनके पैसे भी खुद देते हैं।

हरदोई. यूपी पुलिस द्वारा महिला सशक्तिकरण के लिए शुरू किए गए 'नारी सुरक्षा सप्ताह' का आईजी जयनारायन सिंह ने हरदोई जिले में शुभारंभ किया। इस दौरान पुलिस अधिकारियों ने छात्राओं को आत्मरक्षा के टिप्स देने के अलावा सोशल मीडिया पर सावधानी बरतने की अपील की। वहीं, छात्राओं ने भी पुलिस अधिकारियों से दिल खोलकर सवाल पूछे। सबसे ज्यादा पुलिस विभाग में भ्रष्टाचार को लेकर पुलिस अधिकारियों से पूछे गए।

- 4 दिसंबर से 10 दिसंबर तक चलने वाले 'नारी सुरक्षा सप्ताह' का शुभारंभ जिले में सण्डीला तहसील इलाके के दिव्यांनद पीजी कॉलेज से किया गया। आईजी जयनारायन सिंह ने छात्राओं को आत्मरक्षा के टिप्स देते हुए वुमन हेल्प लाइन 1090 और यूपी 100 की विस्तार से उपयोगिता बताई।

- छात्राओं को नारी सुरक्षा के तहत यूपी सरकार द्वारा उठाये गए कदम और जरूरी नबंर को लेकर लघु फिल्म और डीजीपी सुलखान सिंह का संदेश भी दिखाया गया।

IG ने छात्राओं को दी जानकारी
- कार्यक्रम में पहुंची छात्राओं को संबोधित करते हुए आईजी जयनारायन सिंह ने कहा- "राइट टू प्राइवेट' डिफेंस में यह व्यवस्था दी गयी है कि अगर कोई आप पर आक्रमक होता है जिससे आपकी जानमाल को खतरा है तो उसमें आत्मरक्षा में उठाया गये कदम भले ही सामने वाला मर भी जाये पर आपका बाल भी बांका नहीं होगा ऐसी व्यवस्था है।"
- इसमें और सपष्ट कर दूं अगर आपको जानमाल का खतरा हो तो आपके जो भी चीज़ हो पेपरवेट, ईंट, पत्थर से अपना बचाव करें। इसमें आपके खिलाफ थाने में कोई मामला भी दर्ज नहीं होगा।
- आईजी ने सोशल मीडिया का सावधानी से इस्तेमाल करने की अपील करते हुए बताया- "सामने वाले को एकांत का मौका न दें और फेसबुक पर अनजान चेहरों से दोस्ती न करें। उन्होंने अपनी मिसाल देते हुए कहा कि इतनी उम्र सर्विस और आईजी होने के बावजूद उनके महज 29 फेसबुक फ्रेंड्स हैं।"
- वहीं, एसपी विपिन मिश्रा ने छात्राओं को संबोधित करते हुए कहा- 'सशक्तिकरण की बात इसलिए आती है कि आप चीजों को अवॉयड करते हो। आप अवॉयड न करें तो हमेशा सशक्त हैं।'
- उन्होंने कहा- 'फेसबुक में चेहरे ज़्यादातर फेक होते हैं। सबसे पहले व्हाट्सएप और फेसबुक से सावधानी बरतें। अनजान लोगों से अपनी बातें शेयर करने से पहले उनके विषय में बारीकी से जानकारी कर लें। क्योंकि यहीं से समस्या की शुरुआत होती है।'

आगे की स्लाइड में देखिए छात्राओं ने पूछे कैसे-कैसे सवाल...

छात्राओं ने पूछे सवाल
-छात्राओं से सवाल पूछने को कहा तो छात्राओं के सवालों ने आईजी के होश उड़ा दिए। ज्यादातर सवाल पुलिस के रिश्वत लेने और पुलिस की जांच करने की थ्योरी से जुड़े थे।

 

A.आईजी ने छात्रा का जवाब देते हुए कहा- 'पुलिस चूंकि वर्दी में होती है और उसकी ओपन आइडेंटिफिकेशन है इसलिए इसपर उंगलियां जल्दी उठती हैं। इससे ज़्यादा दूसरे विभागों में भी हैं। फिर भी इसको खत्म करने का प्रयास किया जा रहा है।'

 

A.आईजी ने जवाब देते हुए माना कि गलतियां होती हैं आरुषि मर्डर केस भी काफी समय चल रहा है। ऐसी गलतियां होतीं हैं मगर न्यूनतम गलतियां होनी चाहिए।
छात्राओं के पुलिस पर बार बार पूछे जा रहे भृष्टाचार के सवालों पर आईजी ने खुद का उदाहरण देते हुए कहा- "सभी गलत नहीं होते कुछ अच्छे लोग भी होते हैं। उन्होंने कहा कि 2012 में दिल्ली के रामलीला ग्राउंड में हुए अन्ना आंदोलन के दौरान मंच पर बार पुलिस अधिकारियों पर भ्र्ष्टाचार के आरोप लगाए जा रहे थे तभी किसी ने कहा कोई ईमानदार अधिकारी का भी नाम ले लो। तो उन्होंने मेरा नाम लेते हुए कहा कि उनसे ईमानदार कोई नहीं। अन्ना के मंच पर अकेले उनका नाम लिया जाना गर्व की बात है उनके लिए।"

नारी सुरक्षा सप्ताह का आईजी जयनारायन सिंह ने हरदोई जिले में शुभारंभ किया। नारी सुरक्षा सप्ताह का आईजी जयनारायन सिंह ने हरदोई जिले में शुभारंभ किया।