--Advertisement--

22 मार्च के पहले फूलपुर व गोरखपुर को मिलेंगे नए सासंद, कैम्प लगाकर सुधारी जाएगी वोटर लिस्ट

विधान सभा क्षेत्र की वोटरलिस्ट सही करने के लिए तीन दिवसीय कैम्प लगाया जाएगा।

Danik Bhaskar | Dec 22, 2017, 04:15 PM IST
मतदाताओं को जागरूक करने के लिए कैंप लगाए जाएंगे। मतदाताओं को जागरूक करने के लिए कैंप लगाए जाएंगे।

लखनऊ. गोरखपुर और फूलपुर संसदीय सीट पर 22 मार्च से पहले चुनाव हो जाएंगे। यह जानकारी, शुक्रवार को यूपी के मुख्य निर्वाचन आयुक्त एल वेंकटेश्वर लू ने दी। उन्होंने कहा, "सारी तैयारियां पूरी करके रिपोर्ट भारत निर्वाचन आयोग को भेज दी गई है, वहां से डेट आते ही चुनाव करा लिया जाएगा। हालांकि 22 मार्च, 2018 से पहले चुनाव हर हाल में हो जाएगा।"

क्यों होंगे उपचुनाव

-आपको बता दें कि लोकसभा चुनाव 2014 में गोरखपुर से योगी आदित्यनाथ और फूलपुर से केशव मौर्य सांसद चुने गए थे। लेकिन 2017 के यूपी विधानसभा चुनावों में भाजपा की सरकार आने पर पार्टी की तरफ से योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री बनाया गया वहीं, केशव मौर्य डिप्टी सीएम बनाए गए हैं।

-इसके बाद दोनों ही नेताओं ने अपनी लोकसभा सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था।

लगाया जाएगा कैंप

-मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने बताया- "विधान सभा क्षेत्र की वोटरलिस्ट सही करने के लिए तीन दिवसीय कैम्प लगाया जाएगा, इसको लेकर 7, 21 और 28 जनवरी, 2018 को कैम्प लगाए जाएंगे। जहां नए मतदाताओं के नाम शामिल किए जाएंगे और गलती से दर्ज नामों को नियमानुसार सूची से हटाया जाएगा।

-चुनाव में वोटिंग परसेंटेज बेहतर करने को लेकर यह मुहिम शुरू की गई है। सूची सही होने से निष्पक्ष मतदान हो सकेगा। कैम्प के माध्यम से हम मतदाता जागरूकता के लिए भी काम करेंगे। मतदाता जागरूकता का मुख्य उद्देश्य लोगों को मतदान का महत्व समझाना है।

ग्रामीण क्षेत्रों में हुई अधिक वोटिंग

-हाल ही में संपन्न हुए निकाय चुनाव में देखने को मिला कि ग्रामीण क्षेत्रों में शहरों की अपेक्षा अधिक वोटिंग हुई है। यह एक चिंताजनक विषय है कि शहरों में लोग मतदान में इंटरेस्ट नहीं लेते हैं।

-उन्होंने कहा- "बूथ लेबल पर मतदाता सूची सही करने के काम के लिए रिटायर्ड कर्मचारियों की भी मदद मांगी जाएगी। स्वयंसेवी संस्थाओं से भी सहयोग अपेक्षित है। राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों से भी बात हुई है उनकी भी मदद ली जाएगी।"

-निर्वाचन आयुक्त ने माना कि कुछ लोगों के वोटर कार्ड गलत तरीके से बनवाए गए हैं। उसकी जांच कराई जा रही है, जल्द ही उन्हें चिन्हित करके उनका वोटर आईडी कार्ड निरस्त करवाया जाएगा। इसके लिए सभी जिलों के डीएम से साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग की गई है और दिशानिर्देश दिए गए हैं।