Hindi News »Uttar Pradesh »Lucknow »News» Directorate Level IAS Officer Will Appointed Directly Employees In Up Secretariat

एक फैसले की तैयारी से भड़के यूपी सचिवालय कर्मचारी, इस ड‍िसीजन से ये होंगे प्रभावित

सचिवालय में क्लास 1 और क्लास 2 के अधिकारी-कर्मचारियों की नियुक्ति अब सीधे डायरेक्टोरेट लेवल पर बैठा आईएएस अफसर करेगा।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Nov 06, 2017, 08:52 PM IST

  • एक फैसले की तैयारी से भड़के यूपी सचिवालय कर्मचारी, इस ड‍िसीजन से ये होंगे प्रभावित
    यूपी सच‍िवालय। फाइल
    लखनऊ. यूपी सरकार जल्द ही कैबिनेट से एक प्रस्ताव पास करने जा रही है, जिसमें सचिवालय में क्लास 1 और क्लास 2 के अधिकारी और कर्मचारियों की नियुक्ति अब सीधे डायरेक्टोरेट लेवल पर बैठा आईएएस अधिकारी ही कर सकेगा। सचिवालय संघ के यादवेंद्र मिश्रा और सीधी भर्ती संघ के महासचिव अभय रंजन ने dainikbhaskar.com से बातचीत में कहा, ये मंत्रियों की ताकत को कम करने की साजिश ब्यूरोक्रेसी द्वारा की गई है। सरकार इसे समझ नहीं पा रही है। सचिवालय की ताकत को कम करके डायवर्ट करने की कोशिश...

    - सचिवालय संघ के प्रदेश यादवेंद्र मिश्रा ने सरकार और राज्यपाल को लिखे पत्र में कहा है क‍ि ब्यूरोके्रसी ने अपने अपनी पावर को बढ़ाने के लिए इस तरह के अनीतिपूर्ण निर्णय लेने के लिए प्लान बनाया है।
    - वहीं, सीधी भर्ती संघ के महासचिव अभय रंजन ने बताया, आज की डेट में जितने भी क्लास 2 और 1 के अधिकारी हैं उनसे संबंधित सभी कार्य सरकार करती है, क्योंकि राज्यपाल ही इनकी नियुक्ति प्राधिकारी होते हैं।
    - राज्यपाल के अधिकारों का प्रयोग विभागीय मंत्री करते हैं। हटाना-निकालना सब सरकार करती है जिसमें विभागीय मंत्री की सहमति जरूरी होती है। लेकिन सरकार ने कैबिनेट में प्रस्ताव का मन बनाया है कि ये सारे काम अब उनके विभागाध्यक्ष यानी डायरेक्टोरेट करेंगे।
    -उन्होंने कहा, ''हम इसी बात का विरोध कर रहे हैं, क्योंकि गैर संवैधानिक काम को जो सरकार की मंशा है उसे वापस ले। सरकार ने आईएएस संजय अग्रवाल की अध्यक्षता में एक कमेटी बनाई, जिसमें ये प्रस्ताव पर लोगों की सहमति मागी गई है। अब मंत्री के बजाय डायरेक्टोरेट काम करेंगे।''
    -''हम विरोध इस लिए कर रहे हैं, क्योंकि सचिवालय कमजोर होगा। मंत्रियों की पावर खत्म हो जाएगी, लेकिन ये ब्यूरोक्रेट्स उन्हें बेवकूफ बनाकर उनसे अपना काम करवाने में लगे हैं।''
    -''सारे आईएएस अधिकारी विभागों के डायरेक्टोरेट बनकर मौज करना चाहते हैं। ऐसे में वो कहीं भी रहकर काम करेंगे। किसी भी छोटे से पद पर रहेंगे, तो वो विभाग के डायरेक्टोरेट बने रहेंगे।''
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×