Hindi News »Uttar Pradesh »Lucknow »News» Effect Of Smog In UP

दिल्ली के बाद यूपी में स्मॉग का असर, 250 मरीज पहुंचे हॉस्पिटल, 4-5 दिनों तक बना रहेगा खतरा

लखनऊ में स्मॉग का असर दिखाई देने लगा है।

DaininBhaskar.com | Last Modified - Nov 13, 2017, 06:04 PM IST

  • दिल्ली के बाद यूपी में स्मॉग का असर, 250 मरीज पहुंचे हॉस्पिटल, 4-5 दिनों तक बना रहेगा खतरा
    +2और स्लाइड देखें
    फाइल ।
    लखनऊ. राजधानी में एक बार फिर से स्मॉग का असर दिखाई देने लगा है। स्मॉग की वजह से सरकारी हॉस्पिटलों में सोमवार को 250 से ज्यादा सांस के पेशेंट ओपीडी में डॉक्टर को दिखाने के लिए पहुंचे। इनमें बच्चे, बुजुर्ग और युवा शामिल थे। इसमें से 70 पेशेंट को एडमिट कर लिया गया, बाकि को कंसल्टेशन के बाद वापस भेज दिया गया। मौसम विभाग के अधिकारियों का कहना है कि स्मोग अभी चार से पांच दिनों तक ऐसे ही बना रहेगा। लोगों को सावधानी बरतने की जरूरत है
    सिविल की ओपीडी में पहुंचे 70 पेशेंट
    -सिविल हॉस्पिटल में सोमवार को चेस्ट डिपार्टमेंट की ओपीडी में 70 पेशेंट आए। चेस्ट फिजिशियन डॉ. आरसी प्रसाद के मुताबिक आम दिनों में 30 से 40 पेशेंट आते हैं। बीते चार पांच दिन से 80 से 100 पेशेंट रोज आ रहे हैं। इसमें भी ज्यादातर बच्चे और बुजुर्ग हैं। स्मॉग की यही स्थिति रही तो मरीजों की संख्या में और भी वृद्धि हो सकती है।
    बलरामपुर की ओपीडी में 220 मामले
    -बलरामपुर हॉस्पिटल में सोमवार को चेस्ट विभाग की ओपीडी में 100 पेशेंट आए। इनमें से ज्यादातर पेशेंट को अस्थमा, सांस लेने में जकड़न और आंखों में जलन की प्रॉब्लम थी। चेस्ट स्पेशलिस्ट डॉ आनंद गुप्ता ने बताया कि स्मॉग की वजह से मरीजों की संख्या बढ़ रही है। ऐसे मौसम में लोगों को सावधानी बरतने की जरुरत है।
    -लोहिया हॉस्पिटल के डायरेक्टर डॉ. डीएस नेगी के मुताबिक सोमवार को हॉस्पिटल में सांस के 80 से ज्यादा मरीज आए। बीते 3 दिनों में सांस के पेशेंट की संख्या बढ़ी है। इनमें अधिकतर अस्थमा, खांसी और एलर्जी के हैं।

    ये है स्मॉग की वजह
    -मौसम विभाग के डॉयरेक्टर जेपी गुप्ता के मुताबिक कोहरा और प्रदूषण दोनों की वजह से स्मोग फिर से वापस आ गया है। अगले चार से पांच दिनों तक स्मोग ऐसे ही बना रहेगा। ऐसे मौसम में लोगों को सावधानी बरतने की जरुरत है।

    ये है प्रदूषण की वजह
    -यूपी पोल्यूशन कंट्रोल बोर्ड के इन्व्यारमेंटल ऑफिसर अशोक कुमार तिवारी के मुताबिक़ पंजाब में किसान फसलों की कटाई के बाद खेत साफ करने के लिए बड़ी मात्रा में पराली( फसल का अवशेष) जला रहे हैं। इसके कारण पंजाब से उठने वाली हवा नोएडा और दिल्ली में प्रदूषण फैलाने का काम कर रही है। वहीं, लखनऊ में बढ़ती वाहनों की संख्या उससे उठने वाला धुंआ, तेजी से हो रहा कंस्ट्रक्टशन और वर्कशॉप प्रदूषण की वजह बना हुआ है।


    प्रदूषण से हो सकती है ये बीमारियां
    -केजीएमयू के पल्मोनरी मेडिसिन डिपार्टमेंट के डॉक्टर प्रो. संतोष कुमार के मुताबिक फैक्ट्रियों से निकलने वाले धुंए में सल्फर डाई ऑक्साइड और नाइट्रोजन जैसी कई हानिकारक गैस और लेड पाई जाती है।
    -यदि कोई व्यक्ति डायरेक्ट या इनडायरेक्ट इन गैसों के सम्पर्क में आता है तो उसका लंग्स और स्किन दोनों पर इन गैसों का बैड इफेक्ट पड़ सकता है। लंग्स में इन्फेक्शन होने के साथ टीबी की बीमारी और स्किन से रिलेटेड बीमारी हो सकती है। वहीं, लेड की वजह से कैंसर होने के चांसेज बढ़ जाते हैं।

    बरते यें सावधानी
    -भीड़-भाड़ वाले स्थानों पर जाने से बचें।
    -खांसते या छींकते टाइम नाक और मुंह पर कपड़ा रखे।
    -खुले में ना थूकें।
    -कोहरे में ज्यादा देर तक ना टहले।
    ये हैं देश के सात सबसे ज्यादा प्रदूषित शहर
    -गाजियाबाद- 498 माइक्रोग्राम
    नोएडा- 492 माइक्रोग्राम
    रोहतक – 471 माइक्रोग्राम
    फरीदाबाद -468 माइक्रोग्राम
    दिल्ली- 460 माइक्रोग्राम
    गुडगाँव -460 माइक्रोग्राम
    -मुरादाबाद – 440 माइक्रोग्राम

    क्या कहना है मौसम विभाग का
    -मौसम विभाग के डॉयरेक्टर जेपी गुप्ता ने बताया, "अगले चार से पांच दिनों तक स्मोग बना रहेगा, उसके बाद मौसम साफ होने की संभावना है। अभी कोहरा और स्मॉग का मिलाजुला असर दिखने को मिल रहा है। रेन फॉल होने की अभी कोई संभावना नहीं है लोगों को सावधानी बरतने की जरुरत है।"

    कैसे कंट्रोल हो सकता है पॉल्यूशन
    -कारखानों को शहरी क्षेत्र से दूर किया जाना चाहिए। फैक्ट्री में नयी तकनीक का इस्तेमाल हो जिससे धुएं का ज्यादातर भाग अवशोषित हो जाएं।
    -तेज़ी से शहरीकरण की प्रक्रिया को रोकने के लिए गांवों और कस्बों में ही रोजगार के साधन या कुटीर उद्य़ोग लगाने को प्रोत्साहन दिया जाना चाहिए।
    -पेड़ों की अंधाधुंध कटाई रोकी जानी चाहिए। आम लोगों, जिला प्रशासन और समाजसेवी संगठनों को नियमित रूप से वृक्षारोपण कराना चाहिए।
  • दिल्ली के बाद यूपी में स्मॉग का असर, 250 मरीज पहुंचे हॉस्पिटल, 4-5 दिनों तक बना रहेगा खतरा
    +2और स्लाइड देखें
  • दिल्ली के बाद यूपी में स्मॉग का असर, 250 मरीज पहुंचे हॉस्पिटल, 4-5 दिनों तक बना रहेगा खतरा
    +2और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×