Hindi News »Uttar Pradesh »Lucknow »News» Expert Says About NTPC Boiler Blast Case In Unchahar Plant

सीएम बोले- NTPC हादसे में FIR दर्ज हो, DGP ने कहा- कोई तहरीर तो दे, Experts बोले ये

4 नवंबर को सीएम योगी के दिए आदेश के बाद भी अभी तक कोई एफआईआर नहीं हुई है।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Nov 06, 2017, 09:55 PM IST

  • सीएम बोले- NTPC हादसे में FIR दर्ज हो, DGP ने कहा- कोई तहरीर तो दे, Experts बोले ये
    +4और स्लाइड देखें
    सीएम योगी ने मॉरीशस से लौटने के बाद एफआईआर दर्ज करने के आदेश द‍िए थे।
    लखनऊ.मॉरीशस से लखनऊ पहुंचने के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने रायबरेली एनटीपीसी हादसे में 34 लोगों की मौत के मामले में एफआईआर दर्ज करने की बात कही थी। हालांक‍ि, 4 नवंबर को सीएम के दिए आदेश के बाद भी अभी तक कोई एफआईआर नहीं हुई है। आखिर सीएम ने एफआईआर करने की बात किससे कही? वहीं, एनटीपीसी हादसे के मामले में डीजीपी सुलखान सिंह ने कहा, ''यूपी पुलिस एफआईआर करने के लिए तैयार है, लेक‍िन कोई तहरीर तो दे। अगर किसी भी तरह का कोई एनटीपीसी हादसे का पीड़ित, अधिकारी या जांच अधिकारी एफआईआर कराता है तो हम एफआईआर करेंगे। यूपी पुलिस सोमोटो (खुद संज्ञान लेकर) एफआईआर नहीं कर सकती है।'' आगे पढ़‍िए क्या कहते हैं एक्सपर्ट...

    - dainikbhaskar.com से बातचीत में एक्स डीजीपी एके जैन ने बताया, एफआईआर तो हादसे का कोई भी पीड़ित करा सकता है। लेक‍िन सेंट्रल गवर्मेंट की अंडरटेकिंग में एनटीपीसी हैं ऐसे में वहां के जीएम एफआईआर लिखाए या फिर सिक्युरिटी इंचार्ज करा सकते हैं। क्योंकि यूपी पुलिस अपनी तरह से एफआईआर करेगी तो कंट्रोवर्सी हो सकती है। एफआईआर अगर हो जाए तब भी यूपी पुलिस की जांच पर ऊंगली उठेगी।
    -उन्होंने कहा, एनटीपीसी के उच्च अधिकारी को जांच करने को दिया गया है। उन्हें 30 दिन में जांच रिपोर्ट देने की बात कही गई है। जब कोई दोषी पाया जाएगा तब एफआईआर होगी। इसके बाद उस पर कार्रवाई हो सकती है।
    -वैसे कोई भी जांच यह साबित नहीं कर पाएगा कि किस आदमी की वजह से यह हादसा हुआ। फिलहाल इस मामले में 304ए (गैर इरादतन हत्या) के तहत ही एफआईआर होगी।
    -इस मामले में कोई भी एनटीपीसी का जिम्मेदार अधिकारी जांच पूरी होने से पहले एफआईआर करा सकता है। अगर यूपी पुलिस एफआईआर कर भी लेती है तभी वह असली दोषी को नहीं तलाश पाएगी।

    क्या एनटीपीसी नहीं चाहता एफआईआर
    - माना जा रहा है कि केंद्र, राज्य सरकार और एनटीपीसी प्रशासन नहीं चाहता है कि मामले की जांच पुलिस करे। अगर पुलिस ने जांच की तो चीजें लीक हो सकती हैं। ऐसे में सबका जोर विभागीय जांच पर ही है।
    - जानकार बताते हैं कि नियम के मुताबिक एफआईआर के लिए पुलिस को लिखित शिकायत की जरूरत नहीं होती है।
    एनटीपीसी के सभी कर्मचारी ने दिया एक दिन की सैलरी
    -ऊंचाहार के एनटीपीसी में हुए हादसे में मृतक के परिजनों को एनटीपीसी के सभी अधिकारियों और कर्मचारियों ने अपनी एक दिन की सैलरी दी है।
    -एनटीपीसी के भारत भर के 23 हजार कर्मचारि‍यों ने अपनी एक दिन की सैलरी देते हुए 6 करोड़ रुपए मृतक के परिजनों को द‍िया जाएगा।


    क्या था मामला
    - बता दें, 1 नवंबर को रायबरेली के ऊंचाहार के NTPC प्लांट में बॉयलर ब्लास्ट हो गया था। बॉयलर फटने से अब तक 34 लोगों की मौत हो गई है, जबक‍ि 80 से ज्यादा लोग घायल हैं।
    आगे की स्लाइड्स में देख‍िए एनटीपीसी में हुए हादसे की फोटोज...
  • सीएम बोले- NTPC हादसे में FIR दर्ज हो, DGP ने कहा- कोई तहरीर तो दे, Experts बोले ये
    +4और स्लाइड देखें
  • सीएम बोले- NTPC हादसे में FIR दर्ज हो, DGP ने कहा- कोई तहरीर तो दे, Experts बोले ये
    +4और स्लाइड देखें
  • सीएम बोले- NTPC हादसे में FIR दर्ज हो, DGP ने कहा- कोई तहरीर तो दे, Experts बोले ये
    +4और स्लाइड देखें
  • सीएम बोले- NTPC हादसे में FIR दर्ज हो, DGP ने कहा- कोई तहरीर तो दे, Experts बोले ये
    +4और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×