Hindi News »Uttar Pradesh »Lucknow »News» Highcourt Group D Recruitment Paper Leaked In Uttar Pradesh

हाईकोर्ट ग्रुप- D भर्ती पेपर लीक, STF ने 13 लोगों को किया अरेस्ट

गोरखपुर के एक सेंटर में परीक्षा करा रहे कॉलेज मैनेजर ने ही पेपर की फोटो खींचकर वॉट्सऐप से गैंग सरगना को भेज दी थी।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Nov 13, 2017, 09:05 AM IST

हाईकोर्ट ग्रुप- D भर्ती पेपर लीक, STF ने 13 लोगों को किया अरेस्ट
लखनऊ. इलाहाबाद हाई कोर्ट की तरफ से आयोजित की गई ग्रुप-डी भर्ती परीक्षा का पेपर रविवार को लीक हो गया। गोरखपुर के एक सेंटर में परीक्षा करा रहे कॉलेज मैनेजर ने ही पेपर की फोटो खींचकर वॉट्सऐप से गैंग सरगना को भेज दी। एसटीएफ ने गैंग लीडर, छह सॉल्वरों और चार अभ्यर्थियों समेत 16 लोगों को अरेस्ट किया है। ASP एसटीएफ अरविंद चतुर्वेदी ने बतााया, "हाईकोर्ट ग्रुप-डी भर्ती परीक्षा का पेपर लीक करने वाले गैंग की सूचना 10 नवंबर को मिली थी।'' ऐसे कराते थे पेपर लीक
-एसटीएफ सूत्रों के अनुसार, पेपर लीक में गोरखपुर में दो केंद्रों के मैनेजर, कुछ दलाल और कैंडिडेट्स शामिल हैं। इसकी जानकारी मिलने पर परीक्षा करवा रही चेन्नै की एजेंसी सतव्रत से संपर्क कर संदिग्धों की सूची निकलवाई गई। इसी दौरान एसटीएफ ने गैंग लीडर सिराजुद्दीन को गोरखपुर में पकड़ लिया। पूछताछ में उसने बताया, "शाहपुर में गंगानगर के बापू इंटर कॉलेज में राम प्रवेश की जगह अमित कुमार नाम का सॉल्वर परीक्षा दे रहा है। अमित को रंगे हाथ पकड़ लिया गया।"
-सिराजुद्दीन से ही यह भी पता चला कि बी.एम. मेमोरियल पब्लिक कॉलेज के मैनेजर संजय सिंह ने उसके मोबाइल पर ग्रुप-डी परीक्षा का पेपर वॉट्सऐप से उसे भेजा था। उसकी निशानदेही पर मैनेजर संजय सिंह और कक्ष निरीक्षक अभिषेक सिंह को पकड़ा गया।
STF ने 16 लोगों को किया अरेस्ट
- लखनऊ से रवि शंकर तिवारी (सरगना), जयकेश मिश्र, अच्युता नंद पांडेय को अरेस्ट किया गया। इनके पास से एक कार, 7 इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस लगी बनियान, 6 ब्लू टूथ डिवाइस आदि सामान बरामद किया गया।
- वहीं, गोरखपुर से संजय सिंह (कॉलेज मैनेजर), अभिषेक सिंह ( कक्ष निरीक्षक), राहुल कुमार, अमित कुमार, गोविंद कुमार, चंदन, मुबारक अली, रामप्रवेश, सिराजुद्दीन, संदीप कुमार, रजीउल्लाह, मन्नु और श्याम सिंह अरेस्ट हुए।
ऐसे लगाते थे परीक्षा में सेंध
1. OMR सीट को कई जगह पर खाली छोड़ा जाए। कॉलेज मैनेजर से सांठ-गांठ कर खाली जगहों पर जवाब भरे जाएं।
2. कैंडिडेट्स की जगह सॉल्वर बैठाए।
3.एग्जाम सेंटर व्हाट्स एप्प के जरिए पेपर लीक। सॉल्वर पेपर को सॉल्व कर ब्लू ट्रूथ से अंदर भेज दें।
परीक्षा में पास कराने के नाम पर वसूले 4 लाख
- 4386 पदों के लिए हुई इस परीक्षा में 50 हजार से ज्यादा लोग शामिल हुए थे। बताया जा रहा है कि परीक्षा में पास कराने के नाम पर 4 लाख रुपए तक वसूले गए थे।
दारोगा भर्ती पेपर लीक मामले में 7 लोग हुए थे अरेस्ट
- इससे पहले 23 अगस्त 2017 को यूपी एसटीएफ ने दारोगा भर्ती पेपर लीक मामले में 7 साइबर एक्सपर्ट को अरेस्ट किया था। उससे पहले यूपी पुलिस ने सब इंस्पेक्टर, नागरिक पुलिस (पुरुष-महिला) और समकक्ष पदों पर सीधी भर्ती-2016 की ऑनलाइन परीक्षा को कैंसिल कर दिया था। सोशल मीडिया पर पेपर लीक होने और वेबसाइट को हैक किए जाने की खबर आने के बाद उत्तर प्रदेश पुलिस भर्ती एवं प्रोन्नति बोर्ड ने ये फैसला लिया था। एग्जाम कराने वाली कंपनी के खिलाफ साइबर सेल में एफआईआर दर्ज कराई है। बताया गया कंपनी का सिस्टम हैक करके पेपर लीक किया गया है।
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×