--Advertisement--

लखनऊ यूनिवर्सिटी में दीक्षांत समारोह का खर्च हुआ आधा, आज जारी होगी मेडलिस्ट की सूची

दीक्षांत समारोह में स्पेशल गेस्ट के तौर पर डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा शामिल होंगे।

Dainik Bhaskar

Nov 17, 2017, 08:45 AM IST
दीक्षांत समारोह में डिप्टी सी दीक्षांत समारोह में डिप्टी सी

लखनऊ. लखनऊ यूनिवर्सिटी(एलयू) के दीक्षांत समारोह का बजट पिछले साल की तुलना में आधा कर दिया गया है। समारोह की तैयारियों को लेकर गुरुवार को हुई बैठक में एलयू वीसी ने खर्च पर कटौती समेत कई फैसले लिए हैं। मुख्य पंडाल समेत और दूसरे खर्च में कटौती कर दी है। अब सिर्फ 13 लाख में तैयार होगा पंडाल...

-पिछले साल जहां मुख्य पंडाल पर 25 लाख खर्च किए गए थे, वहां इस बार 13 लाख में ही पंडाल लगवाया जाएगा। इसके साथ ही गेस्ट की संख्या को आधा कर दिया गया है।
आर्ट्स कॉलेज के स्टूडेंट्स को कैम्पस सजाने की मिली जिम्मेदारी
वीसी प्रो. एसपी सिंह के मुताबिक, अभी तक पोस्ट के हिसाब से भेजे जाते हैं। ऐसे में किसी के पास एक से अधिक पद होने पर, प्रत्येक पोस्ट के अनुसार निमंत्रण भेजा जाता था।
- इस व्यवस्था को खत्म कर अब एक व्यक्ति को एक ही कार्ड भेजा जाएगा। कैंपस सजाने का जिम्मा पिछली बार की तरह इस बार भी आर्ट्स कॉलेज के स्टूडेंट्स को दिया गया है।

डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा होंगे स्पेशल गेस्ट

- वीसी के मुताबिक इस बार धर्मगुरुओं और आर्ट ऑफ लिविंग संस्था, सहज योग, योगिदानंद आश्रम, ईश्वरी विवि के प्रतिनिधि और विवेकानंद संस्थान से लोगों को भी गेस्ट की सूची में शामिल किया जाएगा। स्पेशल गेस्ट के रूप में डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा शामिल होंगे।

आज जारी होगी मेडल सूची
- मेडल पाने वाले स्टूडेंट्स की सूची आज जारी कर दी जाएगी। एग्जाम कंट्रोलर प्रो. एके शर्मा के मुताबिक मेडल पाने वाले स्टूडेंट्स सूची तैयार हो गई है। चेक करने के बाद इसे वेबसाइट पर अपलोड कर दिया जाएगा। स्टूडेंट्स को आपत्ति दर्ज करवाने का समय दिया जाएगा।

60 साल से किसी को नहीं मिला जीएस थापर मेडल
-एलयू में दीक्षांत समारोह हर साल होता है जिसमें हर मेडल पर कई कैंडिडेट्स उसे पाने में जुटे रहते हैं, लेकिन 'जीएस थापर मेडल' को 60 साल से कोई स्कॉलर ही नहीं मिला। जूलॉजी विभाग के फाउंडर मेम्बर जीएस थापर के नाम पर यह मेडल 65 साल पहले शुरू किया गया था। यह मेडल जूलॉजी के विषय हेल्मेंथॉलजी में डीएससी(डॉक्टरेट ऑफ साइंस) करने वाले स्कॉलर को बेस्ट थीसिस के लिए दिया जाता है, लेकिन 60 सालों में किसी ने इस मेडल के लिए आवेदन ही नहीं किया। यही वजह है कि अब यह मेडल लखनऊ यूनिवर्सिटी की लिस्टस से भी गायब हो चुका है। हालांकि, एलयू के ऑर्डिनेंस में अब भी इस मेडल की जानकारी है।


एलयू प्रशासन का पक्ष
-एलयू के एग्जाम कंट्रोलर प्रो. एके शर्मा, के मुताबिक़ ऑर्डिनेंस में इसका प्रावधान है, लेकिन कोई इस विषय से डीएससी करता ही नहीं है। इसलिए यह मेडल दीक्षांत समारोह में कभी नहीं दिया जाता है। अगर भविष्य में कोई करेगा तो उसे यह मेडल दिया जाएगा।

X
दीक्षांत समारोह में डिप्टी सीदीक्षांत समारोह में डिप्टी सी
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..