Hindi News »Uttar Pradesh »Lucknow »News» MLA Raghuraj Pratap Singh Alias Raja Bhaiya Cooks Food In Earthen Stove

करोड़ों का मालिक है ये नेता, पर खाता है सिर्फ मिट्टी के चूल्हे में बना खाना

बर्थडे पर राजा भैया ने खुद बताया अपनी लाइफ से जुड़ा यह फैक्ट।

उज्ज्वल सिंह | Last Modified - Oct 31, 2017, 04:41 PM IST

  • करोड़ों का मालिक है ये नेता, पर खाता है सिर्फ मिट्टी के चूल्हे में बना खाना
    +9और स्लाइड देखें
    रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया कुंडा से MLA हैं।
    लखनऊ. यूपी की राजनीति में अलग पहचान रखने वाले रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया ने 31 अक्टूबर को बर्थडे सेलिब्रेट किया। इस मौके पर DainikBhaksar.com ने राजा भैया और उनके खास करीबियों से बात की। इस बातचीत में उन्होंने अब तक की कई अनसुनी बातें शेयर की।

    कौन हैं राजा भैया?

    - भदरी रियासत के राजकुमार रघुराज प्रताप सिंह "राजा भैया" का जन्म 31 अक्टूबर 1967 को प्रतापगढ़ के कुंडा में हुआ था। इसी क्षेत्र से वे विधायक भी हैं।
    - अखिलेश सरकार में मंत्री रहे राजा भैया के पिता उदय प्रताप सिंह अपनी कट्टर हिंदू छवि के लिए जाने जाते हैं। राजा भैया के दादा बजरंग बहादुर सिंह हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल रहे।
    - राजा भैया ने लखनऊ यूनिवर्सिटी से लॉ में ग्रैजुएशन किया है। इसी यूनिवर्सिटी से इन्होंने मिलिट्री साइंस और इंडियन मेडिवल हिस्ट्री में ग्रैजुएशन की डिग्री भी ली है।

    मिट्टी के चूल्हे पर बना भोजन खाते हैं...

    - राजा भैया बताते हैं, "हम चाहे कुंडा में बनी बेंती कोठी में रहें या लखनऊ के सरकारी आवास में, हमारा खाना सिर्फ मिट्टी के चूल्हे पर पकता है। मुझे सिर्फ उसी का स्वाद पसंद है।"
    - इनके करीबी डॉ. कैलाश नाथ ओझा बताते हैं, "इन्होंने लखनऊ में मिले सरकारी आवास में भी मिट्टी का चूल्हा बनवाया है। रोटी से लेकर दाल-सब्जी तक मिट्टी के चूल्हे पर ही बनती है।"
    - राजा भैया नॉनवेज के खास शौकीन हैं। इसके लिए उन्होंने स्पेशियली मिट्टी के बर्तन रखे हैं जो मिट्टी के चूल्हे पर चढ़ते हैं।
    आगे की स्लाइड्स में पढ़ें राजा भैया से जुड़े ऐसे ही और भी अनसुने फैक्ट्स ...
  • करोड़ों का मालिक है ये नेता, पर खाता है सिर्फ मिट्टी के चूल्हे में बना खाना
    +9और स्लाइड देखें
    संजय दत्त के साथ राजा भैया।
    पिता के गुरु से अनुमति लेकर रखा था राजनीति में कदम
    - राजा भैया के चचेरे भाई व प्रतापगढ़ के एमएलसी अक्षय प्रताप सिंह बताते हैं, "जब राजा भैया पढ़ाई पूरी कर कुंडा आए तो उस समय राजनीति में इनका कोई दखल नहीं था। इनके पास क्षेत्र के सैकड़ों लोग रोजाना अपनी समस्याएं लेकर आते थे। लोगों की दिक्कत देखकर इन्होंने सोचा कि प्रॉब्लम्स सॉल्व करने के लिए राजनीति में एंट्री जरूरी है।"
    - "इन्होंने काफी हिम्मत कर अपने पिता से चुनाव लड़ने की अनुमति मांगी, लेकिन उन्होंने साफ तौर पर मना कर दिया। जब ये रोज पॉलिटिक्स में आने की बात करने लगे तो इनके पिता ने कहा- आप बंगलुरु में हमारे गुरुजी के पास जाइए और उनसे आदेश लीजिए। अगर वह परमिशन देंगे तो आप चुनाव लड़ सकते हैं।"
    - "राजा भैया ने वही किया। गुरुजी की परमिशन के बाद ही राजा भैया 1993 में फर्स्ट टाइम निर्दलीय चुनाव में उतरे थे और विजयी रहे थे। तब से इनका विजय रथ जारी है।"
  • करोड़ों का मालिक है ये नेता, पर खाता है सिर्फ मिट्टी के चूल्हे में बना खाना
    +9और स्लाइड देखें
    घुड़सवारी करते राजा भैया।
    छह साल की उम्र में पहली बार की थी घुड़सवारी
    - राजा भैया ने पहली बार 6 साल की उम्र में घुड़सवारी की थी। उनके पिता उदय प्रताप सिंह चाहते थे कि उनका बेटा ब्रेवरी वाले ही काम ज्यादा करे। उनके यहां एक दर्जन से अधिक घोड़े थे। इनकी कोठी पर घोड़ों की देखभाल करने वाले केदार यादव बताते हैं, "एक बार ये घोड़े पर बैठने की जिद पर अड़ गए। तब वे सिर्फ 6 साल के थे। उस दिन वे काफी देर तक घोड़े पर घूमते रहे। उन्हें बहुत मजा आया कि यह उनका एक शौक बन गया। घुड़सवारी करते हुए कई बार गिरे भी, पसलियां भी टूटीं, लेकिन शौक नहीं गया। आज वे एक बेहतरीन घुड़सवार हैं।"
  • करोड़ों का मालिक है ये नेता, पर खाता है सिर्फ मिट्टी के चूल्हे में बना खाना
    +9और स्लाइड देखें
    राजा भैया
    पिता ने आज तक नहीं दिया वोट
    - राजा भैया के राजनैतिक सफर की शुरुआत से साथ रहे डॉ. कैलाश नाथ ओझा ने बताया, "राजा उदय प्रताप सिंह स्वाभिमानी हैं। उन्होंने आज तक राजा भैया के लिए किसी से वोट नही मांगा। क्षेत्र में अलग छाप होने के बावजूद वह आज तक राजा भैया के चुनाव प्रचार में कभी साथ नहीं रहे। कहा यह भी जाता है कि वह कभी वोट देने भी नहीं जाते।"
  • करोड़ों का मालिक है ये नेता, पर खाता है सिर्फ मिट्टी के चूल्हे में बना खाना
    +9और स्लाइड देखें
    राजा भैया के बचपन की एक फोटो।
    पहली बाइक बुलेट और ओमनी थी पहली कार
    - महंगी गाड़ियों के शौक़ीन राजा भैया की पसंदीदा बाइक हमेशा से ही बुलेट रही है। उन्होंने पहली बार 12 साल की उम्र में इसकी सवारी की थी। इन्होंने तभी पिता की जीप व फिएट कार चलाना भी सीखा था।
    - राजा भैया की पहली खुद की कार ओमनी वैन थी।
  • करोड़ों का मालिक है ये नेता, पर खाता है सिर्फ मिट्टी के चूल्हे में बना खाना
    +9और स्लाइड देखें
    अपनी लग्जरी कार के साथ राजा भैया।
    महंगी कार और हथियारों का है शौक
    - राजा भैया लग्जरी गाड़ियों और हथियारों के शौकीन हैं। इनके बेड़े में आज लैंड रोवर, लैंड क्रूजर, बीएमडब्ल्यू जैसी गाड़ियां हमेशा रहती हैं।
    - इन्हें निशानेबाजी भी अच्छी लगती है। इनके एफिडेविट के मुताबिक इनके पास दो रिवॉल्वर और चार गन हैं, जिनकी कंबाइन्ड प्राइस लगभग 4 लाख रुपए है।
  • करोड़ों का मालिक है ये नेता, पर खाता है सिर्फ मिट्टी के चूल्हे में बना खाना
    +9और स्लाइड देखें
    दोनों बेटों के साथ राजा भैया।
  • करोड़ों का मालिक है ये नेता, पर खाता है सिर्फ मिट्टी के चूल्हे में बना खाना
    +9और स्लाइड देखें
    चुनाव प्रचार के दौरान एक गुमटी में चाय पीते राजा भैया।
  • करोड़ों का मालिक है ये नेता, पर खाता है सिर्फ मिट्टी के चूल्हे में बना खाना
    +9और स्लाइड देखें
    राजा भैया (सबसे राइट) पूर्व PM चंद्रशेखर के साथ एक मैरिज फंक्शन के दौरान।
  • करोड़ों का मालिक है ये नेता, पर खाता है सिर्फ मिट्टी के चूल्हे में बना खाना
    +9और स्लाइड देखें
    रॉयल एन्फील्ड के साथ राजा भैया।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×