Hindi News »Uttar Pradesh »Lucknow »News» Yogi Government Charged Nsa At Sugarcane Mafia

गन्ना माफियाओं पर लगेगा NSA, तीन महीने के लिए जाएंगे जेल

कुछ चीनी मिलों के बारे में किसानों के बजाए गन्ना माफियाओं से अवैध तौर पर गन्ना खरीदने की शिकायत मिल रही थी।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Nov 14, 2017, 10:12 AM IST

  • गन्ना माफियाओं पर लगेगा NSA, तीन महीने के लिए जाएंगे जेल
    +1और स्लाइड देखें
    गन्ना माफिया किसानों से कम कीमत पर गन्ना खरीद कर चीनी मिलों को बेचते थे। (फाइल)
    लखनऊ. किसानों से कम दाम पर गन्ना खरीदकर चीनी मिलों को बेचने वाले माफियाओं पर योगी सरकार NSA (रासुका) के तहत कार्रवाई करेगी। इन माफियाओं को तीन महीने के लिए जेल भेज दिया जाएगा। जिलों के सभी गन्ना अधिकारियों को उन माफियाओं की पहचान का निर्देश दिया गया है। ये आदेश प्रमुख सचिव (गन्ना एवं चीनी आयुक्त) संजय आर. भूसरेड्डी ने दिया है। काफी दिनों से मिल रही थी शिकायत
    -कुछ चीनी मिलों के बारे में किसानों के बजाए गन्ना माफियाओं से अवैध तौर पर गन्ना खरीदने की शिकायत मिल रही थी। शिकायतों में बताया गया था- गन्ना माफिया औने-पौने दामों में किसानों से गन्ना खरीद लेते हैं। इसी गन्ने को बाद में इलाके की मिलों को बेच दिया जाता है। अवैध गन्ने की इस खरीद-फरोख्त में गन्ना माफिया के साथ-साथ इलाके के चीनी मिल भी शामिल है। प्रमुख सचिव (गन्ना एवं चीनी आयुक्त) संजय आर. भूसरेड्डी ने बताया कि इससे सरकार की छवि खराब होने के साथ ही किसानों को भी नुकसान होता है। इसलिए कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं।
    तैयार होगी गन्ना माफियाओं की सूची
    -अवैध गन्ना खरीद को पूरी तरह से रोकने के लिए जिला गन्ना अधिकारी माफियाओं की सूची तैयार करेंगे। इसके साथ ही इन अफसरों को गन्ना इलाकों में रेगुलर दौरा करने का आदेश जारी किया गया है। इसके साथ ही गन्ना माफियाओं की तरफ से संचालित अवैध कांटे की वीडियोग्राफी और फोटोग्राफी कराने के लिए कहा गया है। उसके बाद उनकी पहचान कर गन्ना माफियाओं के खिलाफ रासुका लगाई जाए।
    यूपी में गन्ने का समर्थन मूल्य
    - इससे पहले 7 नवंबर को होने वाली योगी कैबिनेट में गन्ने का समर्थन मूल्य 10 रुपए बढ़ाया गया था। इसमें अगैती प्रजाति का मूल्य 315 से बढ़ाकर 325, सामान्य प्रजाति 305 से 315 और निम्न प्रजाति का 300 से बढ़ाकर 310 रुपए कर दिया।
    NSA क्या है।
    - NSA ( रासुका), इसे राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तौर पर जाना जाता है। NSA ( रासुका) के तहत संदिग्ध व्यक्तियों को हिरासत में लिया जाता है। अधिकतम 12 महीने तक संदिग्ध को जेल में रखा जा सकता है। एनएसए उन लोगों पर लगाई जाती है, जो प्रशासन की नजर में संदिग्ध हों। डीएम और एसपी NSA लगाने की संस्तुति करते हैं।
  • गन्ना माफियाओं पर लगेगा NSA, तीन महीने के लिए जाएंगे जेल
    +1और स्लाइड देखें
    गन्ना माफियाओं की वजह से किसानों को MSP भी नहीं मिल पाता था। (फाइल)
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×