--Advertisement--

शोषण / न्यूरो सर्जन डॉ. पर दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज, छात्रा बोली- नशीली दवा देकर बनाया VIDEO



allegation on neurosurgeon doctor ravi dev of physical harassment by btech
allegation on neurosurgeon doctor ravi dev of physical harassment by btech
X
allegation on neurosurgeon doctor ravi dev of physical harassment by btech
allegation on neurosurgeon doctor ravi dev of physical harassment by btech

  • पीड़िता का आरोप है कि डा. देव ने 2013 में ऑपरेशन के दौरान उसका शारीरिक शोषण किया था
  • 2015 में साथ रहने के दौरान युवती गर्भवती हुई और डा. रवि देव के विरोध के बाद भी 2015 में उसने एक बेटे को जन्म दिया

Dainik Bhaskar

Oct 14, 2018, 09:42 AM IST

लखनऊ. राजधानी के चर्चित न्यूरो सर्जन डा. रवि देव पर इटौंजा की रहने वाली एक युवती ने दुराचार का आरोप लगाया है। इस संबंध में महिला ने महानगर कोतवाली में शारीरिक शोषण का मामला दर्ज कराया है। पीड़िता का आरोप है कि डा. देव ने 2013 में ऑपरेशन के दौरान उसका शारीरिक शोषण किया था। उन्होंने आपत्तिजनक स्थिति में वीडियो बनाया उसकी फोटो भी लीं। इस घटना के बाद डा. देव कई साल तक उन तस्वीरों को वायरल करने की धमकी देते हुए उसका शारीरिक शोषण करते रहे। 

शादी का झूठा वादा कर दिए क्लीनिक पर काम : महिला के विरोध करने पर उन्होंने शादी करने का झूठा वादा कर अपनी ही क्लीनिक पर काम दिया और एल्डिको स्थित अपने आवास पर साथ रहने को कहा। 2015 में साथ रहने के दौरान युवती गर्भवती हुई और डा. रवि देव के विरोध के बाद भी 2015 में उसने एक बेटे को जन्म दिया। इसके बाद युवती ने डाक्टर देव से किसी प्रकार का संबंध नहीं रखा। इस पर डा. देव ने पुलिस व अपने एक पत्रकार मित्र के जरिए उसे परेशान करना और धमकाना शुरू कर दिया। इससे परेशान युवती ने शनिवार को महानगर थाने में प्रार्थना पत्र देकर डा. देव, क्राइम ब्रांच में तैनात एक पुलिसकर्मी व पत्रकार के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। सीओ महानगर संतोष सिंह ने बताया कि इस मामले में एफआईआर दर्ज कर ली गई है। जल्द ही मामले की जांच शुरू की जाएगी।

बीटेक छात्रा ने ये लगाया आरोप : रिपोर्ट के मुताबिक महिला का कहना है कि वह 2013 में डा. देव के महानगर सेक्टर-सी स्थित क्लीनिक में अपने सिर में निकली गांठ को दिखाने गयी थी। डाक्टर ने जांच के उपरान्त कहा कि तुम्हारा मामला काफी बिगड़ा है। उन्होंने महानगर स्थित एक नर्सिगहोम में आपरेशन किया और कहा कि तुम्हारे सिर की ड्रेसिंग मैं खुद करूंगा। उन्होंने कहा कि हर दूसरे दिन ड्रेसिंग होगी। यह कहकर उन्होंने दो दिन बाद ड्रेसिंग की और दो दिन बाद फिर बुलाया। डाक्टर खुद ही मेरी ड्रेसिंग करते थे और इस दौरान मुझे बेहोशी का इंजेक्शन देते थे। उन्होंने मेरे साथ गलत काम किया और फोटो भी खीची। मेरे ठीक होने के चार माह तक सब ठीक रहा फिर 2014 में मुझे अल्सर हो गया। मेरी बुआ मेरे मना करने के बाद भी डा. रवि देव को दिखाने ले गयीं। जब क्लीनिक में गये तो सभी मरीजों को बाहर निकालकर मुझे केबिन में बुलाया। उन्होंने मुझे मेरी आपत्तिजनक फोटो दिखायीं और अश्लील हरकत करने लगे। उन्होंने मुझसे साथ रहने को कहा। मेरे विरोध करने पर धमकाया कि तुम्हारे जाने के बाद मैं तुम्हें बदनाम करूंगा। उनकी ज्यादतियों को ना सह सकने के कारण बुआ के साथ इटौंजा चली गयी। 

छिपकर रहने लगी पीड़िता : डाक्टर रवि देव से छिपकर रहने लगी और बच्चे को जन्म दिया। उसके जीवनयापन के लिए मैं जॉब की तलाश करने लगी। 12 अक्टूबर को मैं नौकरी की तलाश में गोमतीनगर जा रही थी, तभी रास्ते में कुकरैल बंधे वाली गली में पीएसी मुख्यालय के आगे मुझे डा. रवि देव मिले। उनके साथी ने अपने को क्राइम ब्रांच का सिपाही व पप्पू नामक पत्रकार बताया और धमकाते हुए कहा कि शराफत ने डाक्टर रवि देव की रखैल बनकर रहो। वरना तुम्हे व तुम्हारे बच्चे को मरवा दूंगा।

Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..