अयोध्या / मंदिरों से दुरूस्त है देश के कई शहरों की हालत; भव्य राम मंदिर से अयोध्या की गरीबी भी दूर होगी



Ayodhya Ram Mandir: Poverty in Ayodhya will be removed after grand Ram temple Is built
X
Ayodhya Ram Mandir: Poverty in Ayodhya will be removed after grand Ram temple Is built

  • अर्थशास्त्रियों का दावा- ‘हैपिनेस इंडेक्स’भी होगा बेहतर 
  • मंदिर निर्माण से आर्थिक विकास होगा और लोगों को रोजगार मिलेगा

Dainik Bhaskar

Nov 19, 2019, 03:58 PM IST

लखनऊ (विजय उपाध्याय). अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि पर विशाल और भव्य मंदिर बनने का रास्ता साफ हो गया है। राम मंदिर बनने के बाद अयोध्या में पूरी तरह से बदलाव देखने को मिलेगा। अर्थशास्त्रियों का दावा है कि भव्य मंदिर का निर्माण होने से न सिर्फ अयोध्या की गरीबी दूर होगी बल्कि रोजगार मिलने के साथ ही यहां का हैपिनेस इंडेक्स भी दुरुस्त होगा।

 

भव्य राम मंदिर बनने से क्या होगा, इस सवाल का जवाब देते हुए बाबा साहब विश्वविद्यालय के अर्थशास्त्र विभाग के डीन प्रो.एनएमपी वर्मा कहते हैं, ''अयोध्या की गरीबी दूर होगी। रोजगार मिलेगा, आर्थिक विकास होगा, ‘हैपिनेस इंडेक्स’ दुरूस्त होगा। दुनिया सिर्फ समृद्धि नहीं चाहती खुश रहना भी चाहती है। इसीलिए मंदिरों में ध्यान और योग सिर्फ सामान्य आदमी ही नहीं दुनिया के सबसे धनी लोग भी करते हैं। एप्पल के संस्थापक स्टीव जॉब्स ने उत्तराखंड के मंदिर में काफी समय बिताए। फेसबुक के संस्थापक मार्क जुकरबर्ग हिन्दू मंदिरों को मन की शांति और क्रियेटिविटी के लिए महत्वपूर्ण मानते हैं।''

 

मंदिर को ‘सर्विस इंडस्ट्री’की तरह देख सकते हैं
प्रो. वर्मा कहते हैं कि देश के मंदिरों का मानवता व आर्थिक विकास के अर्थशास्त्र में अलग से अध्ययन की जरूरत है। देश के प्रमुख 15 मंदिरों की सालाना आय 2500 करोड़ के आसपास अनुमानित की जाती है। मंदिर को ‘सर्विस इंडस्ट्री’की तरह देख सकते हैं। जहां रोजगार भी है, खुशी भी है। ईको फ्रेंडली भी है। देश के कई शहर तो किसी एक मंदिर में दर्शन के लिए जाने वाले श्रद्धालुओं के बलबूते फलफूल रहें है। इनमें मुस्लिम धर्म की दरगाह वाले शहर भी शामिल है। भव्य मंदिर बनने के बाद अयोध्या में दर्शनार्थियों की संख्या बढ़ेगी। फूलमाला प्रसाद के साथ नये होटल, सड़के, टैक्सी सहित दैनिक जरूरतों की खपत बढ़ेगी।

 

अयोध्या का हर तरह से विकास होगा
डा.आरएमएल अवध विश्वविद्यालय के वीसी प्रो. मनोज दीक्षित ने कहा, भगवान वेंकटेश्वर का मंदिर का प्रबंधन देखने वाला तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम् ट्रस्ट 3 अस्पताल ,8 विश्वविद्यालय व कालेज का संचालन करता है। तीर्थयात्रियों के लिए बस सेवायें, भोजन और आवास सहित विभिन्न सेवाएं देता है। 

 

उन्होंने श्री वैष्णोमाता श्राइन बोर्ड भी शिक्षा, सामाजिक और आर्थिक विकास की सामाजिक जिम्मेदारियों को पूरा करते हुए सुपर स्पैसियाल्टी कैंसर हास्पिटल और टैक्नीकल यूनिवर्सिटी स्थापित की है। श्राइन बोर्ड ‘स्पिरिच्युल ग्रोथ सेंटर, श्री विद्या संस्कृत गुरूकुल केंद्र का निर्माण भी करवा रहा है। दीक्षित ने कहा कि आने वाले समय में यह अब अयोध्या में भी संभव होगा।

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना