--Advertisement--

उन्नाव से भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर गिरफ्तार, सीबीआई ने

गुरुवार को सेंगर के खिलाफ पुलिस ने एफआईआर तो दर्ज कर ली थी, लेकिन गिरफ्तार करने से मना कर दिया था।

Dainik Bhaskar

Apr 13, 2018, 05:31 AM IST
विधायक कुलदीप सेंगर काे हिरासत में लेने के बाद सीबीआई के लखनऊ स्थित आॅफिस ले जाया गया। विधायक कुलदीप सेंगर काे हिरासत में लेने के बाद सीबीआई के लखनऊ स्थित आॅफिस ले जाया गया।

  • कुलदीप सिंह सेंगर के खिलाफ धारा 363, 366, 376, 506 और पॉस्को एक्ट के तहत केस दर्ज किया गया।
  • शुक्रवार तड़के सीबीआई ने आरोपी भाजपा विधायक को लखनऊ स्थित पुश्तैनी घर से हिरासत में लिया।​

लखनऊ. उन्नाव गैंगरेप मामले में आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को 16 घंटे की पूछताछ के बाद सीबीआई ने शुक्रवार देर शाम को अरेस्ट कर लिया। उन्हें शनिवार सुबह कोर्ट में पेश किया जाएगा। इससे पहले, इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सीबीआई को सेंगर को हिरासत में रखने के बजाय गिरफ्तार करने की नसीहत दी थी। सुनवाई के दौरान कोर्ट ने सीबीआई से कहा था कि वो जांच पर नजर रखेगी। इस मामले में सीबीआई को कोर्ट को 2 मई तक प्रोग्रेस रिपोर्ट भी सौंपनी है।

सेंगर को सुबह 5 बजे हिरासत में लिया था सीबीआई ने

- इससे पहले शुक्रवार तड़के 5 बजे सीबीआई ने आरोपी भाजपा विधायक को लखनऊ स्थित उनके पुश्तैनी घर से हिरासत में लिया था। जांच एजेंसी ने मामले में 3 एफआईआर दर्ज की हैं। पीड़िता ने सेंगर के खिलाफ पहली शिकायत पिछले साल 4 जून को की थी। यूपी पुलिस ने सेंगर के खिलाफ एफआईआर तो दर्ज कर ली थी, लेकिन सबूत नहीं होने की बात कहते हुए गिरफ्तारी से इनकार कर दिया। उधर, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि ऐसे मामलों में सरकार की जीरो टॉलरेंस नीति है।

होटल और थाने पहुंची सीबीआई टीम

- इसके अलावा सीबीआई टीम शुक्रवार को उन्नाव उस होटल में पहुंची, जहां पीड़ित परिवार को रखा गया है। यहां परिवार की सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। खाना में किसी तरह की कोई मिलावट न हो पाए, इसके लिए उन्हें अच्छी तरह जांच कर खाना दिया जा रहा है।

किन धाराओं में सेंगर के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई?

- कुलदीप सिंह सेंगर के खिलाफ धारा 363, 366, 376, 506 और पॉस्को एक्ट के तहत केस दर्ज किया गया।

हाईकोर्ट ने पूछा था- अब तक विधायक की गिरफ्तारी क्यों नहीं हुई

- इस केस में एक वकील की चिट्ठी को जनहित याचिका मानते हुए इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सरकार से जवाब मांगा था।

- बुधवार देर रात योगी सरकार ने उन्नाव रेप केस और पीड़ित के पिता की मौत की जांच सीबीआई को सौंपने की सिफारिश की थी।

किसी भी अपराधी को बख्शा नहीं जाएगा: सीएम
- योगी आदित्यनाथ ने कहा, ''इस मामले में सरकार की जीरो टॉलरेंस है। हमने तत्काल एसआईटी गठित कर कार्रवाई शुरू की। इस मामले में सीबीआई जांच के लिए भी सिफारिश की। अपराध और भ्रष्टाचार में शामिल किसी भी शख्स को बख्शा नहीं जाएगा।''

तीन रिपोर्ट मिलने के बाद सरकार ने लिए थे ये फैसले

सरकार ने एसआईटी, जेल डीआईजी और उन्नाव जिला प्रशासन से भी रिपोर्ट मांगी थी। तीनों रिपोर्ट मिलने के बाद गृह विभाग ने बुधवार देर रात फैसले लिए थे।

1) पीड़ित परिवार की हिफाजत: पीड़िता के परिवार को सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी।

2) तीन डॉक्टरों पर कार्रवाई होगी: जेल अस्पताल के 3 डॉक्टर डॉ. मनोज कुमार (आर्थोसर्जन), डॉ. जीपी सचान (सर्जन) और डॉ. गौरव अग्रवाल (ईएमओ) के खिलाफ लापरवाही बरतने के आरोप में कार्रवाई के आदेश दिए गए।

3) तीन अफसर सस्पेंड: पीड़िता के पिता के इलाज में लापरवाही बरतने के आरोप में उन्नाव जिला अस्पताल के 2 डॉक्टर डॉ. डीके द्वेदी (सीएमएस) और डॉ. प्रशांत उपाध्याय (ईएमओ) को सस्पेंड किया गया। सीओ सफीपुर कुंवर बहादुर सिंह को मामले में लापरवाही बरतने के आरोप में सस्पेंड किया गया है।

देर रात एसएसपी के बंगले पर पहुंचे थे सेंगर

इससे पहले कुलदीप सेंगर बुधवार और गुरुवार रात 11:45 बजे अपने कई समर्थकों के साथ लखनऊ में एसएसपी के बंगले पर स्थित कैम्प ऑफिस पहुंचे थे। अनुमान था कि वे सरेंडर करने पहुंचे हैं, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। वहां से लौटते वक्त सेंगर के समर्थकों ने मीडिया से मारपीट भी की।

क्या है पूरा मामला

  • मामला पिछले साल 4 जून का है। 17 साल की किशोरी की मां ने विधायक कुलदीप सिंह सेंगर समेत कुछ लोगों के खिलाफ रेप की शिकायत की थी।
  • 3 अप्रैल को विधायक के भाई अतुल ने मुकदमा वापस लेने का दबाव बनाया।
  • 8 अप्रैल रविवार को पीड़िता ने परिवार समेत मुख्यमंत्री आवास के बाहर आत्मदाह की कोशिश की, लेकिन पुलिस ने उन्हें रोक दिया था।।
  • 9 अप्रैल को पीड़िता के पिता की उन्नाव जेल में मौत हो गई। महिला ने उन्नाव में परिवार के खिलाफ कई झूठे मुकदमे दर्ज कराए जाने का भी आरोप लगाया था।
  • मामले में माखी थाने के एसओ समेत 6 कॉन्स्टेबल पहले ही सस्पेंड किए जा चुके हैं।
पीड़िता के पिता के साथ मारपीट के आरोप में विधायक का भाई अतुल पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है। -फाइल पीड़िता के पिता के साथ मारपीट के आरोप में विधायक का भाई अतुल पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है। -फाइल
X
विधायक कुलदीप सेंगर काे हिरासत में लेने के बाद सीबीआई के लखनऊ स्थित आॅफिस ले जाया गया।विधायक कुलदीप सेंगर काे हिरासत में लेने के बाद सीबीआई के लखनऊ स्थित आॅफिस ले जाया गया।
पीड़िता के पिता के साथ मारपीट के आरोप में विधायक का भाई अतुल पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है। -फाइलपीड़िता के पिता के साथ मारपीट के आरोप में विधायक का भाई अतुल पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है। -फाइल
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..