सीबीआई ने रेलवे की फर्जी वेबसाइट बनाकर बेरोजगार युवकों को ठगने वाले 8 लोगों को किया गिराफ्तार / सीबीआई ने रेलवे की फर्जी वेबसाइट बनाकर बेरोजगार युवकों को ठगने वाले 8 लोगों को किया गिराफ्तार

Dainikbhaskar.com

Jul 23, 2018, 08:08 PM IST

रेलवे बोर्ड ने 28 मार्च 2018 को सीबीआई को लेटर लिखकर फर्जी वेबसाइट पर नौकरी देने की मामले की जानकारी दी थी।

cbi arrests 8 accused in a fake railway recruitment case

लखनऊ.सीबीआई की स्पेशल टीम ने फर्ज़ी रेलवे रिक्रूटमेंट बोर्ड बना भर्ती करने के मामले में यूपी समेत तीन राज्यों से 8 जालसाजो को गिरफ्तार किया हैं। यूपी में लखनऊ से दो आगरा से एक, राजस्थान के चोमू से दो सोनीपत से और नई दिल्ली से दो की गिरफ़्तारी की गई हैं। यह जालसाज रेलवे रिक्रूटमेंट बोर्ड के नाम से फर्जी वेबसाइट बना कर भर्तियां कर रहे थे। सीबी आई को इनके पास फर्जी प्रमाण पत्र और अन्य फर्जी दस्तावेज मिले हैं।  
 

सेलेक्टेड कैंडिडेट से तय था  3 से 5 लाख रूपए  :  बताया जा रहा है कि इस गैंग ने रेलवे रिक्रूटमेंट कंट्रोल बोर्ड के नाम से फर्जी वेबसाइट बना कर रेलवे में ग्रुप सी और डी ग्रेड में नौकरी दिलाने के लिए आवेदन मंगवाएं। जिसके बाद सेलेक्टेड उम्मीदवार से 3 से 5 लाख रुपये लिए जा रहे थे। यह खुलासा सीबीआई की पूछताछ में हुआ हैं। रेलवे बोर्ड ने 28 मार्च 2018 को सीबीआई को लेटर लिखकर फर्जी वेबसाइट पर नौकरी देने की मामले की जानकारी दी थी।


चारबाग रेलवे स्टेशन पर कराई गई प्रैक्टिकल ट्रेनिंग : यूपी के लखनऊ चारबाग स्टेशन पर कुछ उम्मीदवारों को बाकायदा रिजेक्ट भी क्या, उम्मीदवारों का बाकायदा सरकारी अस्पताल से मेडिकल सर्टिफिकेट भी बनवाने के लिए भेजा। यही नहीं देहरादून के एक इंस्टीट्यूट से ट्रेंनिग भी करवाई और पहले बैच के 11 चुने हुए उम्मीदवारों को एक हफ्ते तक लखनऊ के चारबाग रेलवे स्टेशन पर बाकायदा एक रेलवे कांट्रेक्टर के कमरे पर प्रैक्टिकल ट्रेनिंग भी दी गई।

 

26 जुलाई तक पुलिस कस्टडी : सीबीआई ने इस गैंग का भंडाफोड़ करते हुए रेलवे के इस फर्जी भर्ती घोटाले में शामिल 8 लोगों को गिरफ्तार किया है। सीबीआई ने जिन लोगों को गिरफ्तार किया है आगरा के रहने वाले संतोष सिंह, लखनऊ से श्रीकांत गुप्ता, नितिन सिंह, राजस्थान (चौमू) निवासी भीमा राव, धर्मेंद्र कुमार सैनी, हरियाणा (सोनीपत) निवासी  राजेश शर्मा, दिल्ली निवासी सोनू वर्मा और मनीष परमार शामिल हैं। इसके अलावा सीबीआई देश के कई शहरों में छापेमारी भी कर रही है। सीबीआई को शक है कि इस गैंग ने भारी तादाद में बेरोजगार युवकों को रेलवे में सरकारी नौकरी देने के नाम पर करोड़ों का चूना लगाया है। गिरफ्तार आरोपियों को पहले दिल्ली की एक कोर्ट के समक्ष पेश किया गया जिसके बाद उन्हें 26 जुलाई तक पुलिस कस्टडी में भेज दिया गया था। 

X
cbi arrests 8 accused in a fake railway recruitment case
COMMENT