--Advertisement--

201 करोड़ में बने हाईटेक बस टर्मिनल का वैदिक मंत्रोच्चार के साथ CM ने किया इनॉगरेशन, कहा- विकास के लिए परिवहन आवश्यक

इस बस अड्डे से रोजाना 750 बसें होंगी रवाना होंगी।

Dainik Bhaskar

Jun 12, 2018, 06:50 PM IST
2012 में शुरू में हुआ था बस अड्डे का काम। 2012 में शुरू में हुआ था बस अड्डे का काम।

लखनऊ. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के पहले हाईटेक बस टर्मिलन का इनॉगरेशन किया। मंगलवार को आलमबाग बस टर्मिनल का उद्घाटन वैदिक मंत्रोच्चार के साथ किया गया। इस दौरान सीएम योगी ने कहा कि आज का दिन बहुत महत्वपूर्ण है। उत्तर प्रदेशदेश का बड़ा प्रदेश है और यहां के लोगों के लिए आवागमन सुगम करने के लिए किया गया यह विकास का काम सराहनीय है। बता दें अत्याधुनिक तकनीक से लैस आलमबाग इंटरनेशनल बस अड्डा करीब 3.6 एकड़ में बना है। यह पहला ऐसा बस अड्डा होगा, जहां मेट्रो से यात्री सीधे बस टर्मिनल पर प्रवेश कर सकेंगे। आलमबाग बस स्टेशन का नाम कभी डॉक्टर भीमराव अम्बेडकर बस स्टेशन था। 2012 में जब प्रदेश में अखिलेश यादव के नेतृत्व में सपा की सरकार बनी तो इसको तोड़कर नया बस अड्डा बनना शुरू हो गया था।

क्या कहा सीएम योगी ने
- यह पहला मल्टी कनेक्शन टर्मिनल है। उत्तर प्रदेश के अंदर पहला प्रयास है। एक साल के अंदर परिवहन निगम ने बहुत बेहतर प्रयास किया है। पहले परिवहन विभाग कब बंद हो जाये पता नहीं था। एक साल में 122 करोड़ का मुनाफा परिवहन विभाग ने किया है। जिस तरह की कार्य योजना परिवहन विभाग ने बनाई है वो उत्तर प्रदेश के विकास की गति को और आगे ले जाएगा।

- हमारी सरकार बनने से पहले आवास के नाम पर उत्तर प्रदेश 17वें नम्बर पर था पर अब उत्तरप्रदेश 1 नम्बर पर है। विद्युत के कनेक्शन के लिए भी हमारी सरकार ने बड़े काम किये हैं।

- मैं इस अवसर पर उत्तर प्रदेश परिवहन निगम और मंत्री स्वतंत्र देव सिंह को और पूरी टीम को हृदय से बधाई देता हूं और अपनी शुभकामनाएं देता हूं।

- 22 करोड़ की आबादी वाले प्रदेश में जनता के आवागमन को सुगम बनाने के लिए आज जो प्रयास उत्तर प्रदेश परिवहन निगम ने निजी भागीदारी के आधार पर पूरा करके आज से लोकार्पित कर रहे हैं।
- उत्तर प्रदेश का पहला ऐसा बस टर्मिनल है जो मल्टी मॉडल टर्मिनल है। यहां पर पूरे प्रदेश के अंदर ही नहीं बल्कि देश के प्रमुख स्थानों के लिए बस की सुविधा तो प्राप्त तो होगी ही, साथी यह पहला बस स्टेशन है जो मेट्रो स्टेशन से मिला हुआ है। विकास के लिए परिवहन की बेहतर सुविधा आवश्यक है।
- गत वर्ष हमने मेट्रो की सौगात दी थी, आज आलमबाग बस अड्डे जी सौगात दी जा रही है। जल्द ही आगरा, कानपुर, मेरठ में मेट्रो मिलेगी। गोरखपुर, इलाहाबाद, झांसी में मेट्रो डीपीआर तैयार हो रहा है।
- कई जगहों पर परिवहन की बसें नहीं जाती थी। हमने राजस्थान, जम्मू, हरियाणा के साथ एमओयू कर के परिवहन के दायरे को बढ़ाया है।

21 बस अड्डों का होगा विकास

- सीएम योगी ने इस दौरान कहा कि उत्तर प्रदेश में पीपीपी पद्धति पर परिवहन निगम के 21 बस स्टेशनों का विकास किया जाएगा।
- कौशांबी (गाजियाबाद), कानपुर (झकरकटी),वाराणसी कैंट, सिविल लाइंस इलाहाबाद, विभूति खंड (गोमती नगर), बरेली (सेटेलाइट), सोहराब गेट मेरठ, ट्रांसपोर्ट नगर आगरा, अलीगढ़, मथुरा, रायबरेली, फैजाबाद, गोरखपुर आदि बस स्टेशनों का पीपीपी पद्धति से विकास किया जाएगा।

क्या है हाईटेक बस अड्डे की विशेषता
- 125 कमरों का होटल और छह मल्टी स्क्रीन।
- बैंक-पोस्ट ऑफिस के साथ खाने का है बेहतर इंतजाम।
- पूरा बस अड्डा एयर कंडीशन है।
- ड्राइवर और कंडक्टर के रुकने के लिये अलग से डारमेट्री बनी है।
- पूरी से तरह से अत्याधुनिक इस बस अड्डे पर सीसीटीवी कैमरों से निगरानी होगी।
- यूपी टूरिज्म ऑफिस, एयर टिकटिंग काउंटर, स्टॉफ के लिए 100 बेड की डारमेट्री, वाई-फाई के साथ एसी व नॉन एसी कॉनकोर्स, लगेज स्कैनर।
- यात्रियों को क्लॉक रूम की सुविधा फूड लाउंज के साथ एसी और नॉन एसी वेटिंग रूम भी है।
- 45 प्लेटफार्म, चार रिजर्व प्लेटफार्म, 50 बसों की पार्किंग की सुविधा, 200 यात्री वाहन पार्किंग की सुविधा, बसों की मरम्मत के लिये दो पिट, 17 टिकट व पूछताछ काउंटर बने हैं।
- बस अड्डे से निकलने के बाद बसें रोड पर यात्रियों को लेने के लिए ना खड़ी हो, इसके लिए भी इंतज़ाम किया गया है।
- एक मोबाइल वैन यहां पर लगाई जाएगी जो बसों को यहां पर खड़ा होने से रोकेंगी।

201 करोड़ की लागत में बनकर हुआ है तैयार
- 201 करोड़ रुपए की लागत से 3.6 एकड़ में यह बस अड्डा बना है।
- यह पहला ऐसा बस अड्डा होगा, जहां मेट्रो से यात्री सीधे बस टर्मिनल पर प्रवेश कर सकेंगे। इसके लिये एक अलग से रास्ता तैयार किया गया है, जिसको सीधे बस अड्डे के पहले तल से जोड़ा गया है।


750 बसें होंगी रोजाना रवाना
- रोडवेज के क्षेत्रीय प्रबंधक एके सिंह ने बताया कि बस टर्मिनल से यात्रियों के लिए 750 बसें मिलेंगी। इनमें सब तरह की एसी बस सेवाएं शामिल होंगी। यात्रियों को गोरखपुर, कानपुर, बनारस, इलाहाबाद तक व आगे के जिलों को जाने वाली बसें भी इसी बस टर्मिनल से मिलेंगी।
- आलमबाग बस टर्मिनल आरंभ होने के बाद चारबाग से छोटी दूरी की बसें मिलेंगी। मसलन, फैजाबाद, बाराबंकी जैसे मार्ग के लिए बसें यात्रियों को चारबाग से ही मिलेंगी।

- यूपी के अलावा यहां से राजस्थान, दिल्ली, उत्तराखंड के लिए बसें जाएंगी।

सपा कार्यकर्ताओं ने मनाया जश्न

- सीएम योगी के उद्घाटन करने से पहले ही समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने सोमवार को इसका इनॉगरेशन करते हुए जश्न मनाया और इसे सपा सरकार की एक बड़ी उपलब्धि बताई। सपा एमएलसी राजेश यादव ने कहा कि यह बस अड्डा सपा सरकार की उपलब्धि है इसलिए बस स्टेशन का उद्घाटन किया और जश्न मनाया है।

Cm Yogi inaugurate alambagh high tech bus stand news And Update
आलमबाग बस स्टैंट का नाम पहले भीमराव बस स्टैंट था। आलमबाग बस स्टैंट का नाम पहले भीमराव बस स्टैंट था।
X
2012 में शुरू में हुआ था बस अड्डे का काम।2012 में शुरू में हुआ था बस अड्डे का काम।
Cm Yogi inaugurate alambagh high tech bus stand news And Update
आलमबाग बस स्टैंट का नाम पहले भीमराव बस स्टैंट था।आलमबाग बस स्टैंट का नाम पहले भीमराव बस स्टैंट था।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..