--Advertisement--

राज्यपाल के पद पर पूरे किए 4 साल, राम नाईक ने कहा कानून व्यवस्था बेहतर हुई और सुधार की जरूरत

मेरे लिए सबसे ज्यादा चौथे वर्ष में ‘उत्तर प्रदेश स्थापना दिवस’ समारोह से प्रदेश को एक नई पहचान मिली है।

Danik Bhaskar | Jul 22, 2018, 08:14 PM IST

लखनऊ. राज्यपाल राम नाईक ने अपने चार साल का कार्यकाल पूरा होने पर कहा है कि प्रदेश की कानून व्यवस्था में सुधार हो रहा है। अभी इसमें और सुधार की जरूरत है। मुख्यमंत्री योगी संवेदनशीलता के साथ इस पर काम कर रहे हैं। वहीं राज्यपाल राम नाईक के चार साल पूर्ण होने पर रविवार सुबह सीएम योगी आदित्यनाथ ने भेंट की। मुख्यमंत्री ने चार वर्ष के कार्यकाल पूर्ण करने के अवसर पर राज्यपाल श्री नाईक को बधाई दी और शंकर अय्यर की लिखित पुस्तक ‘उन्नत भारत’ की प्रति भेंट की। इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने राज्यपाल को उत्तर प्रदेश के ‘नवाब ब्राण्ड’ आम भी भेंट किये।

152 पृष्ठ का रिपोर्ट कार्ड किया ज़ारी : राज्यपाल रामनाईक ने रविवार को पत्रकार वार्ता में ये बातें कहीं। उन्होंने चार साल का अपना कार्यकाल पूरा करने पर 152 पृष्ठ का रिपोर्ट कार्ड किया ज़ारी किया। राज्यपाल ने यह भी कहा कि पिछली सरकार के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से उनके अच्छे संबंध हैं। राज्यपाल ने कहा कि इस सरकार में कानून व्यवस्था की कोई बात होती है तो वह सीएम से बात करते हैं। जैसे जब जेल में हत्या हुई तो उन्होंने सीएम से इस घटना के बारे में जानकारी ली।

राज्यपाल ने सीएम योगी को लिखे 450 पत्र: राज्यपाल ने उन्होंने तमाम विषयों पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को 450 पत्र लिखे। जबकि 36 पत्र राष्ट्रपति को लिखे गये। उपराष्ट्रपति, केंद्रीय मंत्रियों व अन्य राज्य के राज्यपालों को 155 पत्र लिखे गए। इस साल उन्होंने राजभवन में 6,724 लोगों से मुलाक़ात की। 35, 977 लोगों ने पत्र लिखकर अपनी बात कही। जहां तक कार्यक्रमों की बात है तो उन्होंने लखनऊ से बाहर 109 कार्यक्रमो में भाग लिया । लखनऊ में आयोजित 191 कार्यक्रमो में भाग लिया। 808 सिद्धदोष बंदियों की रिहाई की याचिकाओ में 79 कैदियो की रिहाई के निर्देश दिए। राज्य विधान मंडल में पारित 42 विधेयक में से उन्होंने केवल 24 विधेयक पर मोहर लगाया बाकी 18 विधेयक राष्ट्रपति को भेजा है। जिसपर निर्णय राष्ट्रपति करेंगे।


इस वर्ष 6,724 नागरिकों से मिले राज्यपाल : चार साल के कार्यकाल का रिपोर्ट जारी करते हुए राज्यपाल ने बताया कि इस वर्ष 2017-18 में उन्होंने 6,724 नागरिकों से राजभवन में मुलाकात की तथा 35,977 पत्र उन्हें जनता ने विभिन्न माध्यमों से प्रेषित किए, जिन पर राजभवन द्वारा नियमानुसार कार्यवाही की गई। चार वर्ष में कुल 24,968 नागरिक मिले और 1,82,536 पत्र मिले। राज्यपाल ने राजभवन में 50 सार्वजनिक कार्यक्रम हुए, लखनऊ में 191 सार्वजनिक कार्यक्रमों, लखनऊ से बाहर प्रदेश में 109 सार्वजनिक कार्यक्रमों और उत्तर प्रदेश से बाहर 28 सार्वजनिक कार्यक्रमों में भाग लिया।