--Advertisement--

BJP सांसद सावित्री बाई फूले का विवादित बयान, जिन्ना को बताया महापुरुष; कहा- आजादी में था योगदान

अपनी ही सरकार पर आरक्षण खत्म करने का आरोप लगा चुकी हैं सावित्री बाई फूले।

Dainik Bhaskar

May 11, 2018, 06:14 PM IST
आरक्षण के मुद्दे पर अपनी ही सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर चुकी हैं सावित्री बाई फूले । आरक्षण के मुद्दे पर अपनी ही सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर चुकी हैं सावित्री बाई फूले ।

बहराइच. बीजेपी सांसद सावित्री बाई फूले ने विवादित बयान देते हुए मोहम्मद अली जिन्ना को महापुरुष बताया है। उन्होंने कहा कि ऐसे महापुरुष की तस्वीर जहां जरूरत हो उस जगह पर लगाई जानी चाहिए। जिन्ना इस देश के महापुरुष थे, हैं और रहेंगे। वे किसी जाति या धर्म के नहीं हैं। बता दें कि सावित्री बाई फूले गुरुवार को दलित बस्ती सलारपुर गांव में एक चौपाल को संबोधित कर रहीं थी।

- सांसद ने कहा कि देश को आजाद कराने के लिए तमाम महापुरुषों ने बलिदान दिया है। मोहम्मद अली जिन्ना महापुरुष हैं।

- आज जब बहुजन समाज अपने अधिकारों के लिए मुखर है तो असल मुद्दों, गरीबी भुखमरी से ध्यान हटाने के लिए इस मामले को उठाया जा रहा है। मैं इससे सहमत नहीं हूं।
- योगी कैबिनेट के मंत्री ओमप्रकाश राजभर के पिछड़ों की उपेक्षा के बयान को सांसद ने सही बताया है। उन्होंने कहा कि दलितों को वाजिब मान-सम्मान नहीं मिला है। दलित सांसदों को भारत का सांसद न कह कर दलित सांसद कहा जाता है। देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को भारत का राष्ट्रपति न कहकर दलित राष्ट्रपति कहा जाता है।
- 15 मई को सांसद ने बहराइच के कलेक्ट्रेट में वृहद स्तर पर आंदोलन की घोषणा की है। इसी सिलिसले में सांसद दलित बस्तियों में चौपाल आयोजित कर रही हैं।


क्या कहा था ओमप्रकाश राजभर ने

-गुरुवार को बहराइच के दौरे पर गए कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने खुद को उपेक्षा का शिकार बताते हुए योगी सरकार पर जमकर हमला बोला था। मंत्री ओमप्रकाश राजभर का कहना है कि आज अगर मैं नीची जाति का नहीं होता तो जनपद में पहुंचने के बाद अधिकारी दुम हिलाते हुए आगे पीछे नजर आते जबकि आज प्रोटोकॉल होने के बावजूद कोई अधिकारी नहीं आया और ना ही गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया।
- पीडब्ल्यूडी गेस्ट में पहुंचे कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने योगी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि आज भाजपा में जातिवाद चरम सीमा पर हावी है। नितिन गडकरी, राजनाथ सिंह से लेकर उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा तक के रिश्तेदार विभिन्न विभागों में उच्च पदों पर तैनात हैं। शासन से लेकर थानों तक जातिवाद बढञ रहा है।
-वहीं, अखिलेश यादव पर हमला करते हुए उन्होंने कहा अखिलेश यादव पहले खुद अपने कार्यकाल को देख लें कि जब उनका शासन काल था तब अपने ही चहेते और परिवार के लोगों को फायदा पहुंचाया। पुलिस भर्ती से लेकर अन्य सभी लाभ के पदों पर उन्हीं के बिरादरी के लोग काबिज थे अब वही अखिलेश जी सवाल उठा रहे हैं।
- राजभर ने योगी सरकार तुलना में मायावती के शासनकाल की तारीफ की।

कौन हैं सावित्री बाई फूले
- सावित्री बाई फूले बीजेपी बहराइच लोकसभा सीट से बीजेपी सांसद हैं।
- अपनी ही सरकार व पार्टी के कुछ वरिष्ठ नेताओं पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा था कि केंद्र सरकार आरक्षण खत्म करने की साजिश कर रही है।
- सावित्री बाई ने आरोप लगाया था कि केंद्र सरकार की नीतियों के कारण एससी-एसटी, पिछड़ा वर्ग और अल्पसंख्यक खतरे में हैं। भारतीय संविधान और आरक्षण भी खतरे में आ गया है।
- सांसद ने अपनी मांगों को सरकार के सामने रखा। इसमें प्राइवेट सेक्टर में भी आरक्षण जैसी व्यवस्था की मांग भी शामिल है।

भाजपा सांसद की चिट्‌ठी से शुरू हुआ था विवाद
-विवाद भाजपा सांसद और एएमयू कोर्ट मेंबर सतीश गौतम की चिट्‌ठी से शुरू हुआ था।
- छात्रसंघ हॉल में लगी मोहम्मद अली जिन्ना की तस्वीर पर सवाल उठाते हुए उन्होंने 26 अप्रैल को वीसी प्रो. तारिक मंसूर को पत्र लिखा।
- 30 अप्रैल को पत्र सामने आने के बाद हिंदू संगठनों ने जिन्ना की तस्वीर हटाने की मांग की। वहीं, एएमयू छात्र संघ इसे नहीं हटाने की बात कहता रहा।
- तस्वीर हटाने के लिए हिंदू युवा वाहिनी के कुछ कार्यकर्ता एएमयू कैंपस में घुस गए थे। इस दौरान हुए लाठीचार्ज में कई छात्र घायल हो गए थे।
- हिंसक घटनाओं को देखते हुए यूनिवर्सिटी की परीक्षाएं 12 तक स्थगित कर दी गई थीं।
- मंसूर ने कहा था, "यूनिवर्सिटी स्टूडेंट यूनियन के ऑफिस में 1938 से ही जिन्ना की तस्वीर लगी है। ये कोई मसला नहीं है।"

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में 1938 से जिन्ना की तस्वीर लगी हुई है। (फाइल) अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में 1938 से जिन्ना की तस्वीर लगी हुई है। (फाइल)
X
आरक्षण के मुद्दे पर अपनी ही सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर चुकी हैं सावित्री बाई फूले ।आरक्षण के मुद्दे पर अपनी ही सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर चुकी हैं सावित्री बाई फूले ।
अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में 1938 से जिन्ना की तस्वीर लगी हुई है। (फाइल)अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में 1938 से जिन्ना की तस्वीर लगी हुई है। (फाइल)
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..