--Advertisement--

LU मारपीट केस: HC में पेश हुए डीजीपी ओपी सिंह, कोर्ट ने SSP से मांगा कार्रवाई का ब्योरा

DGP ने पूरे मामले की जांच आईजी रेंज लखनऊ को सौंपी है।

Danik Bhaskar | Jul 06, 2018, 03:48 PM IST

लखनऊ. लखनऊ विश्वविद्यालय में बुधवार को छात्रों द्वारा विश्वविद्यालय परिसर में हंगामा करने और प्रोफेसर्स के साथ मारपीट करने के मामले में शुक्रवार को डीजीपी ओपी सिंह हाईकोर्ट में पेश हुए। वह हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में जस्टिस विक्रमनाथ और जस्टिस राजेश सिंह चौहान के समक्ष पेश हुए। उनके साथ हटाए गए सीओ महानगर अनुराग सिंह और एसएसपी दीपक कुमार भी हाईकोर्ट पहुंचे। जस्टिस न्यायमूर्ति विक्रम नाथ और आरएस चौहान की खंडपीठ ने पुलिस को लापरवाही पर फटकार लगाते हुए मामले की अगली सुनवाई के लिए 16 जुलाई का वक्त दिया है।

- कोर्ट ने एसएसपी को हलफनामा दाखिल कर अब तक की कार्रवाई का ब्योरा देने का आदेश दिया है। इसके साथ ही कोर्ट ने एलयू के प्रॉक्टर से भी घटना की पूरी रिपोर्ट मांगी है। कोर्ट ने एलयू को एक रिपोर्ट के जरिए ऐसी गाइडलाइंस बनाने की सलाह दी है जिससे की विश्वविद्यालयों में इस प्रकार के उपद्रव व गुंडागर्दी पर लगाम लगाई जा सके।

- गुरुवार को कोर्ट ने मामले में स्वत: संज्ञान लेते हुए पुलिस महानिदेशक व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को तलब करते हुए स्पष्टीकरण मांगा था। कोर्ट ने कहा विश्वविद्यालय प्रशासन ने घटना होने का पहले ही अंदेशा व्यक्त कर दिया था तो फिर पुलिस ने घटनास्थल पर तत्काल पहुंच कर कार्यवाही क्यों नहीं की।

क्या है मामला: बुधवार को लखनऊ विश्वविद्यालय में बाहरी छात्रों और पूर्व छात्रों ने घुसकर जमकर हंगामा करते हुए प्रोफेसर्स के साथ मारपीट की थी। हमले में प्रॉक्टर, डीन ऑफ सोशल वर्क (DSW) और डीन सीडीसी घायल हो गए थे। हंगामे के बाद अगले आदेश तक लखनऊ विश्वविद्यालय को बंद कर दिया गया था।