--Advertisement--

भारत बंद: कानपुर-आगरा में रोकी गयी ट्रेन, स्कूलों में हुई छुट्टी; 11 जिलों को घोषित किया गया संवेदनशील

सवर्ण संगठनों ने आगरा में ट्रेन रोक दी गयी है और बस फूंक दी गयी है।

Danik Bhaskar | Sep 06, 2018, 01:18 PM IST

लखनऊ/आगरा. एससी/एसटी कानून में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बावजूद केंद्र सरकार द्वारा बदलाव करने के खिलाफ गुरूवार को सवर्ण संगठनों द्वारा भारत बंद का एलान किया गया है। इसका असर यूपी में भी दिखने लगा है। सवर्ण संगठनों ने आगरा में ट्रेन रोक दी गयी है और बस फूंक दी गयी है। साथ ही स्कूलों में छुट्टी कर दी गयी है। वहीँ पीएम मोदी का पुतला भी फूंका गया है। हालांकि अभी भी कई जिलों में बंद का कोई ख़ास असर नहीं दिख रहा है।

खुफिया विभाग ने 11 जिलों को बताया संवेदनशील: भारत बंद के एलान को देखते हुए यूपी में अलर्ट जारी किया गया है। खुफिया विभाग की रिपोर्ट के अनुसार 11 जिले संवेंदशील हैं जिसमे लखनऊ, बिजनौर, इलाहाबाद, कासगंज, बांदा, भदोही, हरदोई, बरेली, मथुरा आजमगढ़ और मऊ जिले शामिल है। संवेदशील जिलो में पीएसी और अर्धसैनिक बलो को भी तैनात किया गया है।

आगरा में रोकी ट्रेन, पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर किया लाठीचार्ज: भारत बंद का असर अभी तक सबसे ज्यादा आगरा में ही दिखाई दे रहा है। स्कूलों में छुट्टी के आदेश जारी कर दिए गए हैं। शहर और जिले में व्यावसायिक प्रतिष्ठान बंद दिखाई दे रहे हैं। सुबह से ही पिनाहट के भदरौली स्टेशन पर सवर्ण समाज द्वारा आगरा इटावा रेलवे लाइन पर धरना दे दिया गया। इसके बाद तमाम लोगो ने हाथो में तख्तियां लेकर आगरा इटावा पैसेंजर को रोक लिया और जमकर नारेबाजी करते हुए काफी हंगामा किया। सैयां ब्लाक में एनएच 3 पर जाम लगाने के बाद गुस्साए सवर्ण समाज ने राजस्थान रोडवेज की बस में तोड़ फोड़ कर डाली।

लखनऊ में आंशिक असर: फिलहाल राजनीतिक समर्थन न होने की वजह से भारत बंद का असर राजधानी लखनऊ में पूरी तरह से दिखाई नहीं दे रहा है। कुछ व्यापारियो ने इस बंद का समर्थन किया है और कुछ इसका विरोध कर रहे है। जिससे कुछ लोगो ने अपनी दुकानों को बंद कर रखा है और कुछ लोगो ने दुकाने खोल ली है। वहीँ इंदिरा भवन के सामने बने पार्क में अखिल भारतीय क्षत्रीय कल्याण परिषद प्रदर्शन कर रहा है।

वाराणसी में लगाया गया जाम: एससी एसटी कानून के विरोध बीएचयू हैदराबाद गेट को पूर्व और वर्तमान छात्रों ने मिलकर बंद कर दिया। इतना ही नहीं छात्रों ने मार्ग को जाम भी कर दिया। एलर्ट के बावजूद छात्रों ने पीएम मोदी का पूतला फूंक दिया। पूर्व छात्र राजदीप ने बताया दमनकारी नीतियों के लिए स्वर्णो को आवाज बुलंद करना होगा। 70 प्रतिशत जिसकी आबादी हो उसे कुचला जाए, अब चुप नहीं बैठना है। दोपहर में एनएच जाम करने की योजना है। वही पहाड़िया पर हिन्दू ब्राह्मण सभा ने भी मोदी का पुतला फूंका।

कानपुर में रोकी आगरा इंटरसिटी: यहां भी सवर्ण समाज के लोगों ने पनकी स्टेशन पर जमकर हंगामा किया। बड़ी संख्या में पहुंचे लोगों ने आगरा इंटरसिटी को रोक लिया। इंजन पर चढ़ कर सवर्ण समाज के लोगों ने जमकर हंगामा किया। मौके पर पहुंची जीआरपी ने सभी को समझा बुझा कर ट्रेन से हटाया। लगभग आधे घंटे तक ट्रेन को रोक कर रखा गया।

सीतापुर में जलाया गया पीएम का पुतला: यहां पीएम का पुतला फूंका गया है। वकीलों और व्यापारियों ने मिलकर प्रदर्शन किया। साथ ही केंद्र सरकार मुर्दाबाद के नारे भी लगाए गए हैं।

हरदोई में विरोध में शामिल बीजेपी पदाधिकारी: यहां शहर की दुकानें बंद कराई गयी हैं। प्रदर्शन के कारण नुमाइश चौराहे पर जाम लगा दिया गया है। प्रदर्शन करने वालों में बीजेपी के पदाधिकारी भी शामिल दिखाई दिए। सभी को गांधी भवन में रखा गया है।