आंबेडकरनगर / आशीष के बचाव में उतरे परिजन, पूरे घटनाक्रम को बताया राजनीतिक साजिश

दिल्ली के होटल के सामने बवाल का फोटो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ दिल्ली के होटल के सामने बवाल का फोटो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ
X
दिल्ली के होटल के सामने बवाल का फोटो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआदिल्ली के होटल के सामने बवाल का फोटो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ

  • परिजनों का दावा, दो दिन में सरेंडर कर देगा आशीष
  • पूर्व विधायक पवन पांडेय व मामा अशोक बुधवार को बचाव की मुद्रा में नजर आए

Oct 17, 2018, 06:03 PM IST

आंबेडकरनगर. पूर्व बसपा सांसद राकेश पांडेय के बड़े पुत्र आशीष पांडेय द्वारा दिल्ली के हयात होटल के सामने पिस्टल लहराने के मामले में अब परिवारीजन बचाव में उतर आए हैं। आशीष के चाचा पूर्व विधायक पवन पांडेय व मामा अशोक पांडेय ने पूरे घटनाक्रम को साजिश बताया है। कहा कि आशीष निर्दोष है। पूर्व विधायक ने कहा कि आशीष कानून का पालन करेंगे और दो दिन के भीतर सरेंडर कर देंगे। हालांकि अभी तक आशीष के पिता पूर्व सांसद राकेश पांडेय व भाई विधायक रीतेश का कोई बयान नहीं आया है।

रघुराजीपुरम स्थित पूर्व सांसद का आवास

एलआईसी गली में पसरा सन्नाटा: लखनऊ में रहकर बिजनेस कर रहे आशीष पांडेय ने अपने कारोबार को बुलंदियों तक पंहुचाया। हालांकि इस दौरान उन पर मंहगी गाड़ियों व असलहों का शौक हावी रहा। जिससे वह जिले के लोगों में काफी चर्चित रहे। लेकिन घटना के बाद से पूर्व सांसद के अकबरपुर एलआईसी गली में बने आवास का गेट बन्द है। गली में पूरी तरह सन्नाटा है। 
 

बचाव की मुद्रा में आए परिजन: आशीष पांडेय के चाचा पूर्व विधायक पवन पांडेय व उनके मामा अशोक पांडेय बुधवार को बचाव की मुद्रा में दिखे। पवन पांडेय ने कहा कि सब कुछ एक राजनीतिक साजिश के तहत किया जा रहा है। आशीष ने पिस्टल नही लहराई है। वह टॉयलेट से आवाज आने पर गया था। अपनी सुरक्षा के लिए पिस्टल हाथ में लेना अपराध नहीं है। 
 

आरोपी आशीष पांडेय

आ रही साजिश की बू: पूर्व विधायक ने कहा कि रॉबर्ट बाड्रा ने जिस तरीके से मामले को तूल दिया है, उससे राजनीतिक साजिश की बू आ रही है। दूसरी तरफ मामा अशोक पांडेय ने सोशल मीडिया पर आशीष के घटनाक्रम को राजनीतिक साजिश बताया है। 

 

निरस्त होगा पिस्टल का लाइसेंस: इस प्रकरण में एडीजी लॉ एंड ऑर्डर आनंद कुमार ने कहा कि यह केस दिल्ली में रजिस्टर है। आशीष के लखनऊ में छिपने की आशंका को देखते हुए दिल्ली पुलिस ने यहां छापेमारी की है। पुलिस व एसटीएफ भी गिरफ्तारी के प्रयास में जुटी है। जहां तक असलहे की बात है, साल 1999 में नॉन प्रोहिबिटिड बोर की पिस्टल का लाइसेंस जारी किया गया था। जिससे निरस्तीकरण की कार्रवाई आंबेडकर नगर के एसपी व जिलाधिकारी द्वारा की जा रही है। यदि कोई भी इस घटना में उसके साथ लिप्त होगा तो उसका भी लाइसेंस निरस्त किया जाएगा।  

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना