--Advertisement--

देश नया पीएम चाहता है; हमारे पास मोदी के मुकाबले कौन होगा, चुनाव बाद बताएंगे- अखिलेश

अखिलेश ने कहा- हम बीजेपी से सीख लेंगे, 45 दलों के साथ सरकार चला लेंगे

Dainik Bhaskar

Aug 09, 2018, 11:33 AM IST
former cm of up akhilesh yadav interview under bhasker mahabharat 2019

नई दिल्ली/ लखनऊ. समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव का कहना है कि 2019 के लोकसभा चुनाव में भाजपा को सत्ता से बाहर करने के लिए सपा महागठबंधन के लिए तैयार है। लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मुकाबले चेहरा कौन होगा, यह चुनाव के बाद पता चलेगा। भविष्य के महागठबंधन सहित कई ज्वलंत मुद्दों पर भास्कर के विजय मनोहर तिवारी ने उनसे बात की।

Q. महागठबंधन का चेहरा कौन होगा- राहुल, माया, ममता या आप?

A. हमारा मुकाबला भाजपा से है। भाजपा जमीन पर फेल है। जीएसटी और नोटबंदी से जनता काे और अर्थव्यवस्था को नुकसान हुआ। लोग भाजपा की

रीति-नीति से खुश नहीं हैं। देश नया प्रधानमंत्री चाहता है। वो कौन होगा, यह चुनाव के बाद तय हो जाएगा।

Q. नया प्रधानमंत्री क्यों? आपकी नजर में वह कौन हो सकता है?

A. हमारे प्रधानमंत्री बिना रणनीति के विदेश घूमे। लाभ क्या मिला देश को? भाजपा बताए जहां-जहां पीएम गए वहां कहीं किसान खुदकुशी कर रहे हैं? इतनी

बेरोजगारी हो कहीं बता दो? भारत को कोई लाभ नहीं हुआ। भाजपा भी खाली हाथ है।

Q. क्या राहुल टक्कर दे सकते हैं मोदी को? आपके पास मोदी की टक्कर का है कौन?

A. इस बार गरीब, किसान नाराज हैं। मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र में किसानों की खुदकुशी की घटनाएं सबसे ज्यादा हुईं। सवाल व्यक्ति का नहीं है। युवा, किसान,

व्यापारी सब तो नाराज हैं।

Q. मगर लड़ने के लिए एक अदद चेहरा भी तो चाहिए? चेहरे के सामने चेहरा…

A. हमारा मुद्दा है बेरोजगारी। विश्व स्तर का इन्फ्रास्ट्रक्चर देश में भी हो। मंहगाई मुद्दा है। जीएसटी का गलत क्रियान्वयन हमारा मुद्दा है।

Q. क्या मायावती गेम चेंजर होंगी?

A. आप भी जानते हैं कि गेम चेंजर कौन है। अगर मायावतीजी हैं तो आप कितनी बड़ी बात कह रहे हैं। मतलब आप लोग बात समझ गए हैं।

Q. अखिलेश-राहुल की दोस्ती उत्तराखंड, मध्यप्रदेश, राजस्थान में क्यों नहीं?

A. हमारा संगठन कांग्रेस और बसपा के साथ गठबंधन के लिए तैयार है। हमें अपनी साइकिल से लगाव है। फिलहाल कोशिश अपने संगठन को फैलाने की है।

मध्यप्रदेश भी हमारे टारगेट पर है, जहां हम ताकत बढ़ा रहे हैं।

Q. नोटबंदी, जीएसटी से परेशानी के बावजूद उत्तरप्रदेश, गुजरात भाजपा जीत गई?

A. हम समझाकर समझा नहीं पा रहे हैं और वो बहकाकर बहकाते रहे हैं। प्रधानमंत्री का पहला भाषण था कि कालाधन वापस आएगा। भ्रष्टाचार खत्म होगा।

आतंक पर रोक लगेगी। मैं जानना चाहता हूं कि सच्चाई क्या है? मैंने तब भी कहा था कि नोटबंदी से भ्रष्टाचार खत्म नहीं होता है। लेनदेन ठीक होने से होगा।

Q. मोदी सफल हैं मगर विपक्ष भी तो कमजोर है। ऐसे में कांग्रेस की अगुआई में गठबंधन कामयाब हो पाएगा?

A. भाजपा इसलिए सफल है कि वो झूठ बोलने, बहकाने और मुद्दों से ध्यान हटाने में कुशल है। यह ताकत विपक्ष के पास नहीं है।

Q. विपक्ष को कमजोर नहीं मानते आप?

A. मुद्दों से ध्यान हटाने की कूवत विपक्ष के पास नहीं है। विपक्ष ने दिखाया है कि भाजपा कामयाब नहीं हो रही है। उत्तरप्रदेश बड़ा उदाहरण है, जहां मुख्यमंत्री से

लेकर प्रधानमंत्री तक ने प्रचार किया लेकिन मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष अपनी ही सीटों पर हारे। जनता अब इनके बहकावे में नहीं आने वाली है।

Q. महागठबंधन सफल हुआ ताे आपकी भूमिका क्या होगी?

A. हमारा सपना सिर्फ इतना है कि साइकिल हमारी हो जाए। हम चाहते हैं कि मध्यप्रदेश में भी हमारी साइकिल हो। आस-पास जहां हमारी ताकत है, वहां

साइकिल समाजवादियों की हो जाए।

Q. मोदी की किस एक बात से प्रभावित हैं, कौन सी चीज उन्हें लोकप्रिय बनाती है?

A. इतने कॉन्फिडेंस से झूठ बोलना उनसे हमें सीखना है। हम भी कबीरदासजी के दोहे उनकी तरह पढ़ना चाहते हैं टेलीप्रिंटर के साथ। उनकी ये बातें मुझे बड़ी

अच्छी लगती हैं।

Q. मोदी सरकार को दस में से कितने नंबर देंगे?

A. प्रधानमंत्री हमारे ही कामों का उद्घाटन और शिलान्यास करें तो नंबर हम नहीं देना चाहते। जनता नंबर देगी।

Q. चुनाव आज भी जाति, धर्म और क्षेत्र के इर्द-गिर्द होते हैं। विकास और आर्थिक मुद्दों पर नहीं। इसकी क्या वजह है?

A. यह सवाल भाजपा से होना चाहिए। मेरी नजर में सबसे ज्यादा जातिवादी पार्टी कोई है तो वो भाजपा है। उत्तरप्रदेश में मैंने नारा दिया था कि काम बोलता

है। आगरा-लखनऊ हाईवे जैसी देश में दूसरी सड़क बता दीजिए, जिस पर लड़ाकू विमान उतारे जा सकते हों। प्रधानमंत्री कोरिया के राष्ट्रपति के साथ जिस प्लेन में

बैठे थे वो भी समाजवादी सरकार की देन थी। जिस प्लांट का उद्घाटन उन्होंने किया वह इन्वेस्टमेंट भी हमारे समय का था। एक्सप्रेस-वे का शिलान्यास किया। हम

काम पर वोट मांग रहे थे।

Q. गठबंधन से अस्थिर सरकार की आशंका नहीं होगी?

A. यह तो बहुत अच्छी बात है। भाजपा 47 दलों के साथ सरकार चला रही है। हम भी हैं मैदान में। अभी 5-6 हैं। गुंजाइश 40 की और है। हम भी भाजपा से

कुछ सीख लेंगे। 45 दलों के साथ सरकार चला लेंगे।

Q. क्या गठबंधन के दल मुकाबला कर पाएंगे?

A. ये चुनाव गरीब, किसान और परेशान आदमी लड़ेगा। जिसे जन-धन अकाउंट में 15 लाख रुपए का इंतजार है। बैंक उनके अकाउंट बंद कर रहे हैं। कर्ज माफी

की बात की। उत्तरप्रदेश में बीस पैसे के कर्ज माफ हुए। यह कर्ज माफी है? उत्तरप्रदेश में पांच करोड़ अकाउंट को केंद्र की योजनाओं के फायदे का इंतजार है।

मध्यप्रदेश में गोली से किसान मरे। यही जनता मुकाबला करेगी।

Q. पासवान और अठावले गरीब सवर्णों को आरक्षण के हिमायती हैं। आर्थिक आधार पर आरक्षण पर आप क्या कहेंगे?

A. भाजपा ने भी सुप्रीम कोर्ट में एफिडेविट दिया है। मैं भाजपा से कहना चाहता हूं कि आप जनता को नाराज मत कीजिए। आधार पर कितना खर्च किया है?

कांग्रेस ने शुरू किया, भाजपा ने जारी रखा। मैं कहता हूं हम सबको गिन लो आप। आबादी के हिसाब से सबको हक और सम्मान मिलना चाहिए। यही हमारा

संविधान कहता है। हम संविधान के बाहर नहीं जाना चाहते।

Q. सपा छोड़कर कांग्रेस गए कुछ सांसद घर वापसी के लिए तैयार हैं? क्या आप इनके स्वागत के लिए तैयार हैं?

A. हमारे दरवाजे सबके लिए खुले हैं। मैंने सुना है कि भाजपा 75 साल पार वालों को टिकट नहीं देगी। जिन्हें टिकट नहीं मिल रहा है आएं हमारे पास। हम कम

उम्र के लोगों को भी ज्यादा टिकट देते हैं और ज्यादा उम्र के हैं तो उन्हें भी हम टिकट देते हैं।

X
former cm of up akhilesh yadav interview under bhasker mahabharat 2019
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..