--Advertisement--

बाहरी छात्रों ने कैंपस में घुसकर की मारपीट, प्रॉक्टर और दो डीन घायल; 12 साल में हंगामे के कारण दूसरी बार बंद हुआ लखनऊ विश्वविद्यालय

हंगामे के बाद प्रॉक्टर, DSW और डीन सीडीसी घायल हो गए हैं। विश्वविद्यालय में कॉउंसलिंग रोक दी गई है।

Danik Bhaskar | Jul 04, 2018, 06:46 PM IST

लखनऊ. लखनऊ विश्वविद्यालय में बुधवार को बाहरी छात्रों और पूर्व छात्रों ने घुसकर जमकर हंगामा करते हुए शिक्षकों के साथ मारपीट की। हमले में प्रॉक्टर, डीन ऑफ सोशल वर्क (DSW) और डीन सीडीसी घायल हो गए हैं। हंगामे के बाद अगले आदेश तक लखनऊ विश्वविद्यालय को बंद कर दिया गया है इसी के साथ विश्वविद्यालय में एडमिशन के लिए चल रही काउंसिलिंग को भी रोक दिया गया है। इससे पहले 2006 में लिंगदोह कमेटी की सिफारिश पर चुनाव करने को लेकर हुए विवाद के कारण 1 महीने तक विश्वविद्यालय बंद रहा था।

7 दिनों से प्रदर्शन कर रहे हैं समाजवादी छात्र: विश्वविद्यालय में समाजवादी छात्रसभा का बीते सात दिनों से प्रदर्शन चल रहा था। बताया जा रहा बाहरी छात्र उनके प्रदर्शन में शामिल होने आए और काउंसिलिंग के दौरान हंगामा करते हुए मारपीट शुरू कर दी। मामले में विश्वविद्यालय प्रशासन का कहना है कि पुलिस सहयोग नहीं कर रही है।
- लखनऊ विश्विद्यालय की तरफ से ट्वीट कर मुख्यमंत्री और डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा को इस हमले की जानकारी दी गई है। ट्वीट में कहा गया है कि लखनऊ विश्वविद्यालय के प्रोफेसर्स पर कैंपस के अंदर असामाजिक तत्वों और बाहरी लोगों द्वारा हमला किया गया है।

विश्वविद्यालय में पुलिस तैनात: घटना के बाद विश्विद्यालय में पुलिस तैनात कर दी गई है। पुलिस ने कई लोगों को हिरासत में लिया है। मामले में कुलपति प्रो.एसपी सिंह ने कहा, उन पर भी बाहरी लोगों ने हमला किया है कई शिक्षकों को चोटें आई हैं। जब तक हालात नहीं सुधरते विश्वविद्यालय बंद रहेगा।