--Advertisement--

आईपीएस सुरेंद्र दास का हुआ अंतिम संस्कार, भाई ने दी मुखाग्नि; पत्नी पर लगा मानसिक उत्पीड़न का आरोप



Danik Bhaskar | Sep 10, 2018, 02:21 PM IST
बीते बुधवार से रविवार तक 4 दिन म बीते बुधवार से रविवार तक 4 दिन म

लखनऊ. आईपीएस सुरेंद्र दास का अंतिम संस्कार सोमवार को लखनऊ में बैकुंठ धाम में हुआ। सुरेंद्र दास को उनके भाई नरेन्द्र दास ने मुखाग्नि दी। इस मौके पर डीजीपी ओपी सिंह समेत तमाम बड़े अधिकारी मौजूद रहे। सुरेंद्र दास को राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गयी।

4 दिन मौत से लड़ने के बाद हुई थी मौत: बीते बुधवार से रविवार तक 4 दिन मौत से लड़ने के बाद सुरेंद्र दास की मौत हुई थी। रविवार को कानपुर से दिवंगत आईपीएस का शव उनके घर एकता नगर पहुंचा। जहां पड़ोसियों के साथ साथ शहर में मौजूद बड़े बड़े अधिकारी शोक जताने उनके घर पहुंचे। वहीँ सुरेंद्र दास के बड़े भाई नरेंद्र दास ने आईपीएस की पत्नी रवीना पर कई गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि उनके खिलाफ तहरीर दूंगा।

परिवार से अलग करना चाहती थी बहु: भाई नरेंद्र दास ने बताया कि मेट्रीमोनियल वेबसाईट के जरिये 9 अप्रैल 2017 को सुरेंद्र की शादी रवीना से हुई थी। जिस दिन विदा कर वह घर आई बस एक घंटे रुकी और फिर कार मंगा कर अपने मायके चली गयी। यही नहीं रिसेप्शन पार्टी में भी सीधे शाम को रवीना पहुंची थी। वह परिवार से सुरेंद्र को अलग करना चाहती थी। उसने मेरे भाई को इतना प्रताड़ित किया कि वह कई महीनो से न तो मुझसे और न ही मां से फोन पर बात कर सकता था। शादी के बाद से ही अगर सुरेंद्र घर पर बात करता तो फिर झगड़ा होता था। नरेंद्र दास ने बताया कि सुरेंद्र उससे तलाक लेना चाहता था। उन्होंने कहा मैं अपने भाई की मौत की एफआईआर लिखवाऊंगा।

शव के पास 20 मिनट रुकी पत्नी फिर चली गयी मायके: वहीं शाम को जब आईपीएस का शव घर पहुंचा तो महज 20 मिनट के लिए उनकी पत्नी रवीना भी पहुंची। उसके थोड़ी देर बाद ही वह अपने परिजनों के साथ चली गयी।

रविवार को हुई थी आईपीएस की मौत: आपको बता दे कि बीते बुधवार को आईपीएस सुरेंद्र दास ने कानपुर में सल्फास की गोली खाकर सुसाइड किया था। उन्हें रीजेंसी हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया था जहां रविवार को उन्होंने 12 बजकर 19 मिनट पर दम तोड़ दिया था।