--Advertisement--

पिछड़ा वर्ग सम्मेलन में केशव मौर्य का एलान; हर जिले में कर्पूरी ठाकुर के नाम से होगी रोड, संकल्प लो भाजपा को 73 से अधिक सीटें दिलाना है

पिछड़ा, दलित और गरीब जब मोदी के साथ हैं तो वह फिर से प्रधानमंत्री बनेंगे

Danik Bhaskar | Aug 09, 2018, 04:14 PM IST

लखनऊ. भाजपा 2019 के लोकसभा चुनाव को देखते हुए दलित और पिछड़ों को साधने की कोशिश में लग गई है। गुरुवार को राजधानी लखनऊ में पिछड़े वर्ग के सम्मेलन को संबोधित करते हुए डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने कहा, पिछड़ा, दलित और गरीब जब मोदी के साथ हैं तो मोदी विरोधी लोग नरेंद्र मोदी को फिर से प्रधानमंत्री बनने से नहीं रोक पाएंगे। इसके साथ ही उन्होंने घोषणा करते हुए कहा अब सभी जिलों में एक एक रोड कर्पूरी ठाकुर के नाम पर होगी।'


पिछड़ा वर्ग को एकजुट होने की जरुरत: केशव मौर्य ने कहा कि पिछड़ा वर्ग के सभी लोग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी में समाहित हैं। सम्पूर्ण पिछड़ा वर्ग को आज एकजुट होने की जरूरत है। आप लोग एक अभियान चलाइए और मोदी पर विश्वास करिए मोदी ने पिछड़ों के लिए काम बहुत किया है। गिनाने में मुझे वक्त लगेगा। 2014 से पहले पिछड़ा वर्ग बीजेपी को वोट नहीं देता था लेकिन 2014 के लोकसभा चुनाव में वोट दिया जिससे पार्टी की सरकार बनी। 2019 चुनाव के आप लोग यहां से एक संकल्प लेकर जाइए कि 73 से ज्यादा सीटें मोदीजी की झोली में डालेंगे। 5 करोड़ लोगों को सिलेंडर मिल जाना क्या आसान बात है। आज गरीबों के घर शौचालय बन रहे हैं, उनको मकान मिल रहा है मोदी गरीबों के दर्द को समझ रहे हैं और देश से भ्रस्टाचार खत्म हो रहा है। पहले के प्रधानमंत्री कहते थे एक रुपये में सिर्फ 15 पैसे ही गरीबों तक पहुंचते थे क्या ये पहले नहीं हो सकता था हो सकता था लेकिन इच्छाशक्ति का अभाव था आज मोदी जी कर रहे हैं।बीजेपी आज विश्व की सबसे बड़ी पार्टी है सांसद और विधायक सबसे ज्यादा हमारी पार्टी के हैं। सबका उत्थान करना ही बीजेपी सरकार का लक्ष्य है। मैं पिछड़े वर्ग सम्मेलन में आये सभी लोगों को चुनाव में लगने की अपील करता हूं।

वीरों कों नमन: केशव मैर्य ने कहा, लखनऊ के पास स्थित काकोरी, 9 अगस्त, 1925 को इस स्थान पर देशभक्तों ने जनता की गाढ़ी कमाई के खजाने लूटकर युवाओं में अंग्रेजों से लोहा लेने का जज्बा पैदा करने वाले शहीदों को शत शत नमन। काकोरी षड्यंत्र के सभी वीर क्रांतिकारी हमेशा देश के युवाओं के प्रेरणा स्रोत रहेंगे।