कुंभ में 'रबड़ी बाबा' की मची है धूम; आंखों पर काला चश्मा-तन पर है भस्म का पहरा, लोगों को खिला रहे स्पेशल 'रबड़ी' / कुंभ में 'रबड़ी बाबा' की मची है धूम; आंखों पर काला चश्मा-तन पर है भस्म का पहरा, लोगों को खिला रहे स्पेशल 'रबड़ी'

prayagraj news: रोज 50 किलो दूध की रबड़ी बनाकर बाबा करते हैं ये दावा

Jan 24, 2019, 12:47 PM IST

प्रयागराज (Kumbh Mela 2019). कुंभ नगरी प्रयागराज (Prayagraj Kumbh) में इस बार देश-विदेश से साधु-संत आए हैं। हर कोई अपने अनोखे अंदाज से श्रद्धालुओं को अट्रैक्ट कर रहा है। ऐसे ही हैं महंत गिरी जी महाराज, जो इन दिनों लोगों के बीच 'रबड़ी वाले बाबा' (Rabri Baba) नाम से फेमस हैं। दिन हो या रात, आंखों पर काला चश्मा लगाए ये बाबा भगवान को भोग लगाने के बाद प्रसाद के रूप में पूरी रबड़ी मेले में आए लोगों में बांट देते हैं। बाबा के मुताबिक, वे रोजाना 50 किलो दूध की रबड़ी बनाते हैं।

बाबा स्पेशल रबड़ी खिलाकर करते हैं ये दावा

कुंभ नगरी में इनका भी टेंट है। यहां वे बड़ी-सी कढ़ाई में सिर्फ रबड़ी बनाते रहते हैं। रोजाना एक ही काम करते देख लोग इन्हें अब 'रबड़ी वाले बाबा' नाम से बुलाने लगे हैं। बाबा का कहना है कुंभ में रबड़ी खिलाकर वे लोगों के साथ खुशियां बांटने का काम कर रहे हैं। इसके लिए वे मां महाकाली को अपनी प्रेरणास्रोत बताते हैं। बाबा का दावा है कि इस रबड़ी से असाध्य रोग भी ठीक हो सकते हैं। हालांकि, उनकी इस बात में कितना दम है यह तो नहीं पता लेकिन श्रद्धालुओं व देश-विदेश में वे जरूर फेमस हो गए हैं।

कौन हैं रबड़ी वाले बाबा ? (Know who is Rabri Baba)

47 वर्षीय महंत गिरी जी महाराज (Mahant Giri Ji Maharaj) नागा साधु हैं। 18 साल की उम्र में सांसारिक सुखों का त्याग कर वे चारधाम की यात्रा का संकल्प लिए उत्तराखंड से निकले थे। वे खुद को उत्तर गुजरात के सिद्धपुर पाटन स्थित महाकाली बीड़ शक्तिपीठ से बताते हैं। श्री पंचायती अखाड़ा महानिर्वाणी के दिगम्बर देव गिरि बाबा अब रबड़ी वाले बाबा नाम से कुंभ में धूम मचा रहे हैं।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना