• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • Lucknow Varanasi Coronavirus Lockdown Live | Uttar Pradesh Coronavirus (COVID 19) Lockdown (Curfew) In Varanasi Lucknow Gorakhpur Mirzapur Ghaziabad Jaunpur Agra Mau Latest News Updates

यूपी: 21 दिन के लॉकडाउन का पहला दिन / जौनपुर में गांववालों ने बनाई लक्ष्मण रेखा, पीलीभीत में संक्रमित मां से बेटे को हुआ कोरोना

जौनपुर के काजीपुर गांव के बाहर टांगा गया लॉकडाउन का बैनर।  जौनपुर के काजीपुर गांव के बाहर टांगा गया लॉकडाउन का बैनर। 
मऊ में बेवहज बाहर निकले युवक को पुलिस ने दीवार से चिपका कर सजा दी। मऊ में बेवहज बाहर निकले युवक को पुलिस ने दीवार से चिपका कर सजा दी।
X
जौनपुर के काजीपुर गांव के बाहर टांगा गया लॉकडाउन का बैनर। जौनपुर के काजीपुर गांव के बाहर टांगा गया लॉकडाउन का बैनर। 
मऊ में बेवहज बाहर निकले युवक को पुलिस ने दीवार से चिपका कर सजा दी।मऊ में बेवहज बाहर निकले युवक को पुलिस ने दीवार से चिपका कर सजा दी।

  • कोरोनावायरस के अब तक उत्तर प्रदेश में 38 मामले सामने आ चुके हैं, 11 इलाज के बाद ठीक भी हुए
  • सीएम ने दिया भरोसा- घर घर तक पहुंचाएंगे राशन, दूध व अन्य जरूरी सामान

दैनिक भास्कर

Mar 25, 2020, 07:20 PM IST

लखनऊ. कोरोनावायरस के चलते पूरा देश 21 दिन यानी 14 अप्रैल तक के लिए लॉकडाउन कर दिया गया है। उत्तर प्रदेश में कोरोना बीमारी को आपदा घोषित कर दिया गया है। प्रदेश में अब तक संक्रमण के 38 मामले आए हैं। बीते 24 घंटे के भीतर 5 नए केस आए हैं। लॉकडाउन के बीच बुधवार को नवरात्र के पहले दिन लोग मास्क लगाकर सब्जी, दूध व फल खरीदने के लिए दुकानों पर पहुंचे। मुख्यमंत्री योगी ने प्रदेशवासियों को भरोसा दिलाया है कि दूध, सब्जी और जरूरी लोगों के घरों तक पहुचाएंगे। लोग घर से न निकलें। 10 हजार से अधिक गाड़ियों, जिसमें पुलिस के जवान, एंबुलेंस के द्वारा सब्जी, राशन और दूध घर-घर पहुंचाए जाएंगे। लेकिन, कुछ लोग हैं, जो मानने को तैयार नहीं। ऐसे ही लोगों से पुलिस अब सख्ती से निपट रही है। मऊ में बेवजह बाहर टहलने वालों को पुलिस दीवार से चिपकाकर खड़ा कर दे रही है। लापरवाही का आलम पूरे राज्य में नहीं है। कई इलाकों में लोगों ने मोदी की अपील पर अपनी लक्ष्मण रेखा बना ली है। नवरात्र के पहले दिन कुछ लोग खरीदारी करने निकले, लेकिन मास्क लगाकर।

पीलीभीत में युवक संक्रमित; मां के संपर्क से हुई बीमारी
पीलीभीत में कोरोना का दूसरा पॉजिटिव केस सामने आया है। यहां 33 साल का एक युवक संक्रमित पाया गया है। केजीएमयू के डॉक्टर सुधीर सिंह ने बताया कि, वह कभी विदेश नहीं गया। लेकिन कोरोना संक्रमित मां के संपर्क में आने से उसे ये बीमारी हुई है। 22 मार्च को 55 साल की महिला में संक्रमण की पुष्टि हुई थी। वह 20 मॉर्च को सऊदी अरब से 37 यात्रियों के साथ लौटी थी।
 

लखनऊ: जनता कर्फ्यू वाले दिन से ही लॉकडाउन

राजधानी बीते 22 मार्च से लॉकडाउन है। यहां जगह-जगह बैरिकेड लगाकर आने जाने वालों की चेकिंग हो रही है। हालांकि, ज्यादातर लोग अपने घरों में हैं। सुबह लोगों को दूध, राशन व दवाएं खरीदी। उसके बाद लोग घरों में चले गए। पुलिसकर्मी ऐहतियात बरतते हुए लॉकडाउन का पालन करवा रहे हैं।

लखनऊ में मुस्तैद पुलिस। सड़क पर पसरा सन्नाटा। 

गाजियाबाद: दिल्ली बॉर्डर सील

दिल्ली से सटे गाजियाबाद में लॉकडाउन का असर देखने को मिल रहा है। यहां सड़कों पर सन्नाटा है। इक्का-दुक्का लोग सड़क पर नजर आ रहे हैं। दिल्ली बॉर्डर को सील कर दिया गया है। ऐसे में लोग पैदल ही घरों की तरफ जा रहे हैं। गाजियाबाद में कोरोना के अब तक तीन मामले सामने आए हैं। यहां के दो मरीज इलाज के बाद ठीक हो चुके हैं। एक का अस्पताल में इलाज चल रहा है। 

लॉकडाउन के चलते वाहनों का आवागमन बंद हैं, ऐसे में गाजियाबाद में लोग दिल्ली से पैदल रवाना हुए।

जौनपुर: काजीपुर गांव ने खुद को किया लॉकडाउन

उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले में कोरोना से एक व्यक्ति संक्रमित मिला था। जिले में लॉकडाउन का असर देखने को मिल रहा है। यहां ग्राम सभा काजीपुर के ग्रामीणों ने कोरोना वायरस से लड़ने खुद बीड़ा उठाया है। गांव वालों ने गांव के बाहर एक बैनर टांगा है। जिसमें लिखा है कि काजीपुर लॉकडाउन है। हम कोरोना से मिलकर लड़ेंगे। प्रशासन का सहयोग करें। गांव से न कोई जा रहा है, न किसी को आने दिया जा रहा है।

गांव के बाहर टांगा बैनर। 

आगरा: बेवजह निकलने वालों पर चला पुलिस का डंडा

सड़कों पर बेवजह निकलने वालों से आगरा में पुलिस सख्ती से निपट रही है। दूसरों के लिए खतरा बने लोगों को पुलिस ने पहले समझाया, जब नहीं माने तो पुलिस ने डंडा चलाकर कड़ा सबक दिया। इसके बाद पुलिस की मेहनत रंग लाई और लोग अपने घरों में जाकर कैद हो गए।

पुलिस ने ऐसे सिखाया लक्ष्मण रेखा न लांघने का सबक। 

मऊ: बाहर घूमने वालों को मकड़ी की तरह दीवार से चिपकाया

मऊ में सुबह राशन, दूध व दवा की दुकानें तो भारी भीड़ देखी गई। इस दौरान तमाम ऐसे भी मिले जो बेवजह टहल रहे थे। उनके घर से बाहर निकलने की सटीक बहाना भी नहीं था। ऐसे में पुलिस ने उन्हें दीवार से चिपकाकर हाथ खड़ा कर खड़े रहने की सजा दी। लोगों को काफी समय तक ऐसे स्पाइडरमैन बनाने के बाद उन्हें समझाकर घर भेज दिया।

वाराणसी: नवरात्र में पहली बार बंद हैं मां शैलपुत्री के कपाट

मां दुर्गा के 9 स्वरूपों की उपासना का पर्व चैत्र नवरात्र आज से शुरू हो गया। कोरोनावायरस के चलते सदियों में ऐसा पहली बार हो रहा है कि जब भक्त और भगवान के बीच दूर रहने की पाबंदी लगी हो। काशी में अलईपुरा स्थित मां शैलपुत्री के मंदिर के कपाट श्रद्धालुओं के लिए बंद रहे। सुबह पुजारी ने मां की श्रृंगार आरती की और उन्हें भोग लगाया। इक्का-दुक्का लोग अराधना के लिए पहुंचे थे, लेकिन उन्हें मायूस होकर वापस लौटना पड़ा।

काशी में मां शैलपुत्री के कपाट बंद। 

गोरखपुर: नेपाल बॉर्डर सील, खरीदारी में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं

गोरखपुर जिला नेपाल बॉर्डर से सटा है। बॉर्डर को सील कर दिया गया है। यहां लॉकडाउन का आज तीसरा दिन है। बुधवार सुबह बाजार में सन्नाटा पसरा रहा। लेकिन, दवा दुकानों पर भीड़ देखी गई। लोगों ने दवाएं खरीदी और घरों की तरफ चले गए। लोगों ने चेहरे पर मास्क लगा रखा था। लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग के नियम का पालन नहीं किया गया।

गोरखपुर में दवा की दुकान पर लगी भीड़। 

मिर्जापुर: मां विंध्यवासिनी के कपाट भी बंद

उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, बिहार, झारखंड, मध्य प्रदेश, दिल्ली, गुजरात एवं राजस्थान में बसे अधिकांश परिवार नवरात्र के मध्य अपनी कुलदेवी के विंध्याचल धाम में दर्शन पूजन करने आते हैं। लेकिन, कोरोनावायरस के बढ़ते मामलों को चलते मंदिर के कपाट श्रद्धालुओं के लिए बंद हैं। मंदिर जाने वाली गलियों को सौ मीटर पहले ही बैरिकेटिंग करके आवाजाही पर रोक लगा दिया गया है। बुधवार को नवरात्र के पहले दिन सिर्फ पुजारी ने मां की आरती उतारी।

पुजारी ने मां की आरती की। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना