--Advertisement--

संस्कृति हत्याकांड: लखनऊ SSP ने यूपी की जनता को लिखा लेटर, कहा- केस में निष्पक्ष रूप से जांच कर रहा हूं

22 जून को हुई थी हत्या।

Danik Bhaskar | Jun 30, 2018, 12:26 PM IST

लखनऊ. लखनऊ एसएसपी दीपक कुमार ने यूपी की जनता के नाम एक खुला पत्र लिखा है। उन्होंने लिखा, संस्कृति केस में निष्पक्ष रूप से जांच कर रहा हूँ। हम और हमारी टीम लगातार संस्कृति के पिता के संपर्क में है। स्थानीय SHO सुजीत राय और चौकी इंचार्ज राजेश राय भी लगातार इस दिशा में बड़ी तीव्र गति से कार्य कर रहे हैं। अभी तक पुलिस प्रशासन द्वारा किये जा रहे है इस केस में कार्य की प्रगति इस प्रकार है।

-पुलिस को जैसे ही इस केस की जानकारी होती है, तत्काल पुलिस बिना देरी के संस्कृति को हॉस्पिटल ले जाती है, जहां पहुंचने के बाद उसके निधन की दुखद खबर हमें मिलती है।
-रात में ही उसका पोस्टमार्टम कराया जाता है और उनके नजदीकी रिश्तेदार शर्मा जी और राधेश्याम राय CO (LIU) स्वयं पोस्टमार्टम हॉउस पर मौजूद रहते हैं। पोस्टमॉर्टम में बिटिया संस्कृति की मौत की वजह सर में गहरी चोट लगने से अधिक रक्त स्त्राव का होना आया है। उसके साथ किसी भी प्रकार का दुराचार नहीं हुआ है।
- इस केस को बहुत से लोग गुमराह करने की कोशिश भी कर रहे हैं, बिना पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के सत्य को जाने बगैर सोशल मीडिया पर संस्कृति के केस में सीधे रेप होने की पुष्टि कर रहे हैं, जो की सत्य नहीं है। पोस्टमार्टम से जो भी बातें सामने आयी हैं, उसे संस्कृति के घर वाले भी जानते हैं। संस्कृति की हत्या के पीछे जो अपराधी हैं, उन्हें पकड़ने के लिए प्रदेश के 55 पुलिस कर्मियों की एक टीम बनाई गयी है।
- करीब अब तक 20000 से ज्यादा सीडीआर (CDR)को खंगाला गया है। 150 से भी ज्यादा लोगों से पूछताछ जारी है। इस केस को देख रही टीम का एक-एक आदमी दिन-रात एक किये हुए है। हम सभी निष्कर्ष तक पहुंचना चाहते हैं। हम आपके लिए हैं, लेकिन आप को हम सब पर भरोसा करना होगा। पुलिस अपना कार्य कर रही है और आप सब जानते है कि केस की मजबूती, केस की गोपनीयता रखने में होती है जो अपराधी तक पहुंचने में मदद करता है।


क्या है मामला: बलिया के भगवानपुर गांव निवासी अधिवक्ता उमेश कुमार राय की बेटी संस्कृति पॉलिटेक्निक की द्वितीय वर्ष की छात्र थी। उसकी हत्या करके बदमाशों ने शव को मड़ियांव स्थित घैला पुल के पास फेंक दिया था। 22 जून को घटना के समय वह घर के लिए निकली थी, लेकिन रेलवे स्टेशन पहुंचने से पहले ही उसकी हत्या कर दी गई।
-हत्यारों की गिरफ्तारी न होने से लोगों में रोष है। इसको लेकर शुक्रवार को अधिवक्ता संग युवा चेतना के सदस्य भी सड़क पर उतर गए।