--Advertisement--

लापरवाही / मीजल्स रूबेला वैक्सीन लगने से छात्रा की मौत, पुलिस ने दोषियों के खिलाफ कार्रवाई का दिया आश्वासन



बच्ची के शव के साथ अधिकारियों के सामने बैठे परिजन बच्ची के शव के साथ अधिकारियों के सामने बैठे परिजन
X
बच्ची के शव के साथ अधिकारियों के सामने बैठे परिजनबच्ची के शव के साथ अधिकारियों के सामने बैठे परिजन

  • पिता ने डाक्टरों पर लगाया लापरवाही का आरोप
  • बच्ची का शव ले जाने के लिए अस्पताल ने नहीं दी एंबुलेंस

Dainik Bhaskar

Dec 08, 2018, 04:57 PM IST

सुल्तानपुर. जिले में मीजल्स रुबेला वैक्सीन लगाने की वजह से कक्षा 2 की एक छात्रा की मौत का मामला सामने आया है। परिजनों का आरोप है कि बच्ची को तीन दिसम्बर (सोमवार) को स्कूल में टीका लगा था। उसी दिन उसे तेज बुखार आ गया। इसके बाद उसे अस्प्ताल ले जा गया। वहां डॉक्टरों ने दवा देकर बच्ची और उसके परिजनों काे घर भेज दिया। शुक्रवार को अचानक बच्ची के शरीर में सूजन आने के बाद परिजन दोबारा डाक्टर के पास ले गए लेकिन हालत नाजुक होने की वजह से उसे सुल्तानपुर रेफर कर दिया गया, जहां देर रात इलाज के दौरान ही उसकी मौत हो गई। 

गुस्साए परिजन शव को लेकर पहुंचे कोतवाली

  1. नाराज परिजन शनिवार को बच्ची का शव लेकर कोतवाली पहुंच गए। पुलिस ने दोषियों के खिलाफ कार्रवाई का आश्वासन देकर किसी तरह उन्हें वहां से हटाया। मामला कोतवाली लम्भुआ के मिश्रौली नरायनपुर गांव से जुड़ा है। गांव के निवासी रामकुमार सोनी की पुत्री अंजली सोनी गांव के ही प्राइमरी स्कूल में कक्षा दो की छात्रा थी।

  2. परिजनों का आरोप टीके की वजह से हुई बच्ची की मौत

     पिता रामकुमार सोनी ने बताया कि उनकी पुत्री को 3 दिसम्बर को स्कूल में मीजल्स रूबेला वैक्सीन लगाई गई थी। जब वो स्कूल से लौटी तो उसे बुखार आ गया था। इस अवस्था में वह उसे लेकर सीएचसी लम्भुआ आए जहां डाक्टर ने दवा देकर घर भेज दिया था। तीसरे दिन एकाएक अंजली की तबियत ज़्यादा बिगड़ गई।

     उसके शरीर पर सूजन आने के बाद डाक्टरों को दिखाया। तब उन्होंने बच्ची को जिला अस्पताल सुल्तानपुर रेफर कर दिया। यहां शुक्रवार की रात उसकी इलाज के दौरान मौत हो गई। अस्पताल कर्मियों ने शव ले जाने के लिए एम्बुलेंस तक नहीं दिया। 

  3. चिकित्सकों ने दी सफाई

    डाक्टर एस डी खान ने बताया कि उन्होंने कहा के एक वायल से दस बच्चों को वैक्सीन लगाई गई अगर वैक्सीन में फाल्ट होती तो सबको प्राब्लम आती। उन्होंने कहा के बच्ची की पहले से भी दवा चल रही थी ऐसा पता चला है, बाक़ी पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही क्लियर होगा। 

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..