Hindi News »Uttar Pradesh »Lucknow »News» Muslim Jail Inmate Reads Sunderkand In Jail Every Tuesday

घर या मंदिर नहीं... यहां जेल में एक मुस्लिम हर मंगलवार पढ़ता है सुंदरकाण्ड

सुल्तानपुर की जिला जेल में हर मंगलवार को देखने को मिलता है हिंदू-मुस्लिम एकता का नजारा।

DainikBhaskar.com | Last Modified - May 15, 2018, 03:06 PM IST

    • सुल्तानपुर. यहां जिला जेल में एक मुस्लिम कैदी हर मंगलवार सुंदरकाण्ड का पाठ करवाकर गंगा-यमुनी तहजीब की नई मिसाल कायम कर रहा है। हर मंगलवार खुद अब्दुल वाहीद लोगों के साथ सुंदरकाण्ड की चौपाइयां पढ़ते हैं। वो खुद यहां मर्डर केस में सजा काट रहे हैं।

      3 साल पहले शुरू किया था पाठ

      - यहां जिला जेल में 65 साल के अब्दुल वाहिद को पांच साल पहले हत्या के एक मामले में जेल की सजा मिली थी। साल 2016 में उन्होंने जेल अधीक्षिका अमिता दूबे के सामने हर मंगलवार को जेल में सुंदरकाण्ड करवाने की इच्छा जाहिर की। उन्हें यह सोच बहुत अच्छी लगी और वो तुरंत राजी हो गईं।
      - मार्च 2016 से जेल में सुंदरकाण्ड का आयोजन चल रहा है। वाहिद न सिर्फ पाठ का इंतजाम करते हैं, बल्कि खुद सुंदरकाण्ड की चौपाइयां भी पढ़ते हैं।

      गुरुओं की शिक्षा को कर रहे हैं फॉलो

      - वाहिद ने बताया, "मैंने हिन्दी माध्यम से स्कूली पढ़ाई की थी। मेरे गुरुओं ने जो शिक्षा दी थी, उसका असर आज भी मुझ पर है। मेरी नजर में न कोई धर्म बड़ा-छोटा नहीं है। मैं सभी धर्मों में समान आस्था रखता हूं।"
      - "सुंदरकाण्ड के बहाने जेल के सभी कैदी ध्यान मग्न होकर ईश्वर को याद करते हैं। इससे आपसी भाईचारा बढ़ता है। जेल के अधिकारी भी इसमें शामिल होते हैं।"

    • घर या मंदिर नहीं... यहां जेल में एक मुस्लिम हर मंगलवार पढ़ता है सुंदरकाण्ड
      +2और स्लाइड देखें
    • घर या मंदिर नहीं... यहां जेल में एक मुस्लिम हर मंगलवार पढ़ता है सुंदरकाण्ड
      +2और स्लाइड देखें
    आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
    दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Lucknow News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
    Web Title: Muslim Jail Inmate Reads Sunderkand In Jail Every Tuesday
    (News in Hindi from Dainik Bhaskar)

    More From News

      Trending

      Live Hindi News

      0

      कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
      Allow पर क्लिक करें।

      ×