सुल्तानपुर / उत्तर रेलवे महाप्रबंधक से मिलने पर अड़े कांग्रेसियों पर आरपीएफ ने भांजी लाठियां

X

  • कांग्रेस जिलाध्यक्ष बोले- भाजपाईयों से गुलदस्ता लेने आए थे जीएम
  • मंगलवार सुबह उत्तर रेलवे महाप्रबंधक टीपी सिंह ने सुल्तानपुर रेलवे स्टेशन का किया निरीक्षण ं

Dainik Bhaskar

Dec 03, 2019, 03:24 PM IST

सुल्तानपुर. उत्तर रेलवे महाप्रबंधक टीपी सिंह मंगलवार सुबह सुल्तानपुर रेलवे जंक्शन के निरीक्षण के लिए पहुंचे। इसकी भनक लगते ही कांग्रेसी मौके पर पहुंच गए। लेकिन आरपीएफ व जीआरपी ने उन्हें रोक लिया। कांग्रेसियों व फोर्स के बीच धक्का मुक्की व झड़प हुई। कांग्रेसियों का बढ़ता बवाल देख फोर्स ने लाठी भांजकर उन्हें खदेड़ा है। मामले का वीडियो भी सामने आया है। 

उत्तर रेलवे के महाप्रबंधक टीपी सिंह मंगलवार सुबह नौ बजे स्पेशल ट्रेन से दिल्ली से लखनऊ होते हुए सुल्तानपुर रेलवे स्टेशन पहुंचे। जीएम ने सबसे पहले वाशिंग लाइन का निरीक्षण किया। यात्री गाड़ियों के फिटनेस और परिचालन के बारे में जानकारी ली। इसके बाद रेलवे अस्पताल और फिर कर्मचारियों के वेटिंग रूम आदि का निरीक्षण किया। 

निरीक्षण के बाद जीएम ने प्लेट फार्म नंबर 1 पर नार्दन रेलवे मेन्स यूनियन, मजदूर यूनियन, भाजपा नेताओं और सांसद प्रतिनिधि से मुलाकात की। तभी कांग्रेस जिलाध्यक्ष अभिषेक सिंह राणा के कार्यकर्ता पहुंच गए। जीआरपी व आरपीएफ के अधिकारियों ने कांग्रेसियों को प्लेटफार्म नंबर तीन पर रोक लिया। जीएम से मुलाकात करने पर अड़े कांग्रेसी नारेबाजी करने लगे। 

इस पर आरपीएफ, जीआरपी जवानों व कांग्रेसियों के बीच धक्का मुक्की शुरू हो गई। बात बिगड़ते देख जिलाध्यक्ष अभिषेक सिंह को जीएम से मिलने की अनुमति मिली। इस पर अन्य कांग्रेसी प्लेटफार्म नंबर 3 के जरिए जीएम के पास जाने की कोशिश करने लगे। आरोप है कि, इस दौरान आरपीएफ के सिपाही बृजेश ने कांग्रेसी नेता एवं जिला पंचायत सदस्य तेज बहादुर पाठक को गालियां दे दी। बस इस बात पर कांग्रेसी आपे से बाहर हो गए। इसके बाद कांग्रेसी और आरपीएफ व जीआरपी कर्मियों से जमकर नोक झोंक हुई। अंत में आरपीएफ ने कांग्रेसियों पर लाठियां भी बरसाई।

कांग्रेस जिलाध्यक्ष अभिषेक सिंह राणा ने कहा- ये निंदनीय घटना है। जीएम रेलवे सच्चाई से अवगत नहीं होना चाहते थे। वो केवल भाजपाइयों से गुलदस्ता लेकर चले गए। यहां टिकट ब्लैक हो रहा है। यात्रियों को सुविधाए नहीं मिल रही है। आरपीएफ इंचार्ज राजेश खसाना ने घटना पर माफी मांगी है लेकिन हम आगे तक जाएंगे। 


सुल्तानपुर रेलवे स्टेशन के आरपीएफ इंचार्ज राजेश खसाना से बात की गई तो उन्होंने रटे रटाए अंदाज में कहा की मैं जीएम साहब की ड्यूटी में था। यहां ऐसा कुछ हुआ नहीं और न ही मामला मेरे संज्ञान में है। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना