सीएए का विरोध / लखनऊ में हुई हिंसा व तोड़फोड़ करने वालों से 4.50 करोड़ रुपए वसूलेगी सरकार, पहली सूची में 13 लोगों के नाम शामिल

लखनऊ में 19 दिसम्बर को हुई हिंसा की फाइल फोटो लखनऊ में 19 दिसम्बर को हुई हिंसा की फाइल फोटो
X
लखनऊ में 19 दिसम्बर को हुई हिंसा की फाइल फोटोलखनऊ में 19 दिसम्बर को हुई हिंसा की फाइल फोटो

  • 19 दिसंबर को लखनऊ में हिंसा के दौरान सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के मामले में जारी हुई नोटिस
  • कमिश्नर ने कहा-पहली सूची के अनुसार जिन 13 लोगों पर रिकवरी तय हुई है उन्हें हर हाल में 30 दिन के अंदर पैसा जमा करना होगा

Dainik Bhaskar

Feb 14, 2020, 02:11 PM IST

लखनऊ. नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के विरोध में लखनऊ में 19 दिसंबर को हिंसा के दौरान तोड़फोड़ करने वालों को जिला प्रशासन ने रिकवरी नोटिस जारी किया है। कमिश्नर ने बताया कि इस पूरे मामले में 4.50 करोड़ रुपए की वसूली की जानी है। इसके लिए पहली सूची जारी कर दी गई है, जिसमें 13 लोगों के नाम शामिल हैं। इसके बाद और भी सूचियां जारी की जाएंगी जिसके लिए लोगों के नाम जाहिर किए जाएंगे। नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में 19 दिसंबर को लखनऊ में हिंसा के दौरान सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के मामले में लोगों को यह नोटिस भेजी जा रही है।

कमिश्नर की तरफ से इसके लिए गुरुवार को पहली सूची जारी की थी, जिसमें 13 लोगों को हर्जाना की राशि जमा करने के लिए 30 दिन का समय दिया है। लखनऊ के कमिश्नर मुकेश मेश्राम ने बताया कि नुकसान के कुल करीब साढ़े चार करोड़ रूपए की रिकवरी की जानी है और यह अभी पहली सूची है, जिसके तहत जिन्हें 21.76 लाख रुपए वसूले जाएंगे।

सरकारी सम्पत्ति का नुकसान करने वालों को नोटिस जारी

उन्होंने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में 19 दिसंबर को लखनऊ में हिंसा के दौरान सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के मामले में लोगों को नोटिस भेजा जा रहा है।अभी तक 13 लोगों के खिलाफ नोटिस जारी किये गये हैं, जिन्हें 21.76 लाख रुपए जमा करना होगा। जिन्हें नोटिस जारी हुआ है, इन लोगों की सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के साथ ही गाड़ियों में तोड़फोड़ तथा आगजनी करने में संलिप्तता है। करीब एक दर्जन गाड़ियों को आग के हवाले किया गया था।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना