--Advertisement--

ग्राउंड रिपोर्ट / मुझे अपनी नई पहचान मिल गई है, अब मैं अयोध्या हो गया हूं.....



दीपोत्सव पर्व के दौरान अयोध्या कुुछ यूं नजर आई। दीपोत्सव पर्व के दौरान अयोध्या कुुछ यूं नजर आई।
थ्रीडी लाइट के जरिए रामायण का प्रदर्शन किया। थ्रीडी लाइट के जरिए रामायण का प्रदर्शन किया।
सरयू तट पर मुख्य अतिथि दक्षिण कोरिया की प्रथम महिला ने सीएम के साथ मां सरयू की आरती की। सरयू तट पर मुख्य अतिथि दक्षिण कोरिया की प्रथम महिला ने सीएम के साथ मां सरयू की आरती की।
इस दौरान दाक्षिण कोरिया व अयोध्या के रिश्ते को फिर से जीवंत करने की कोशिश की गई। इस दौरान दाक्षिण कोरिया व अयोध्या के रिश्ते को फिर से जीवंत करने की कोशिश की गई।
राम कथा पार्क में कार्यक्रमों का आयोजन किया। राम कथा पार्क में कार्यक्रमों का आयोजन किया।
राम कथा पार्क में आयोजित कार्यक्रम में छह देशों के कलाकारों ने शिरकत की। राम कथा पार्क में आयोजित कार्यक्रम में छह देशों के कलाकारों ने शिरकत की।
विदेशी कलाकारों के नृत्य ने सभी का मन मोहा। विदेशी कलाकारों के नृत्य ने सभी का मन मोहा।
विदेशी कलाकारों के कार्यक्रम की मनोहारी झांकी। विदेशी कलाकारों के कार्यक्रम की मनोहारी झांकी।
सीएम योगी ने भगवान राम व सीता के स्वरुप का माल्यार्पण काा आर्शीवाद लिया। सीएम योगी ने भगवान राम व सीता के स्वरुप का माल्यार्पण काा आर्शीवाद लिया।
संत समाज ने सीएम योगी को कुंभ का प्रतीक चिन्ह भेंट किया। संत समाज ने सीएम योगी को कुंभ का प्रतीक चिन्ह भेंट किया।
दक्षिण कोरिया की प्रथम महिला व सीएम योगी ने मिलकर राम की पैड़ी घाट पर दीप प्रज्जवलन किया। दक्षिण कोरिया की प्रथम महिला व सीएम योगी ने मिलकर राम की पैड़ी घाट पर दीप प्रज्जवलन किया।
X
दीपोत्सव पर्व के दौरान अयोध्या कुुछ यूं नजर आई।दीपोत्सव पर्व के दौरान अयोध्या कुुछ यूं नजर आई।
थ्रीडी लाइट के जरिए रामायण का प्रदर्शन किया।थ्रीडी लाइट के जरिए रामायण का प्रदर्शन किया।
सरयू तट पर मुख्य अतिथि दक्षिण कोरिया की प्रथम महिला ने सीएम के साथ मां सरयू की आरती की।सरयू तट पर मुख्य अतिथि दक्षिण कोरिया की प्रथम महिला ने सीएम के साथ मां सरयू की आरती की।
इस दौरान दाक्षिण कोरिया व अयोध्या के रिश्ते को फिर से जीवंत करने की कोशिश की गई।इस दौरान दाक्षिण कोरिया व अयोध्या के रिश्ते को फिर से जीवंत करने की कोशिश की गई।
राम कथा पार्क में कार्यक्रमों का आयोजन किया।राम कथा पार्क में कार्यक्रमों का आयोजन किया।
राम कथा पार्क में आयोजित कार्यक्रम में छह देशों के कलाकारों ने शिरकत की।राम कथा पार्क में आयोजित कार्यक्रम में छह देशों के कलाकारों ने शिरकत की।
विदेशी कलाकारों के नृत्य ने सभी का मन मोहा।विदेशी कलाकारों के नृत्य ने सभी का मन मोहा।
विदेशी कलाकारों के कार्यक्रम की मनोहारी झांकी।विदेशी कलाकारों के कार्यक्रम की मनोहारी झांकी।
सीएम योगी ने भगवान राम व सीता के स्वरुप का माल्यार्पण काा आर्शीवाद लिया।सीएम योगी ने भगवान राम व सीता के स्वरुप का माल्यार्पण काा आर्शीवाद लिया।
संत समाज ने सीएम योगी को कुंभ का प्रतीक चिन्ह भेंट किया।संत समाज ने सीएम योगी को कुंभ का प्रतीक चिन्ह भेंट किया।
दक्षिण कोरिया की प्रथम महिला व सीएम योगी ने मिलकर राम की पैड़ी घाट पर दीप प्रज्जवलन किया।दक्षिण कोरिया की प्रथम महिला व सीएम योगी ने मिलकर राम की पैड़ी घाट पर दीप प्रज्जवलन किया।

  • सीएम योगी ने दीपोत्सव कार्यक्रम के मौके पर फैजाबाद जिले का नाम बदलकर अयोध्या कर दिया
  • लोगों ने सरकार के इस फैसले का किया स्वागत, बोले- अयोध्या से ही थी इस जिले की पहचान

Dainik Bhaskar

Nov 08, 2018, 08:20 PM IST

अयोध्या. मैं अब अयोध्या हो गया हूं, मुझे अपना सम्मान वापस मिल गया है। मुझे अब फैजाबाद के नाम से नहीं जाना जाएगा, मेरी खुद की अपनी एक पहचान हो गई है। मुझे क्या पता था कि, साल 2018 की दीपावली मेरे लिए इतनी खास बन जाएगी। घड़ी की सुइयां 5: 40 बजा रही थीं, 6 नवंबर के दिन रामकथा पार्क में छोटी दीपावली का शुभ अवसर था। जब यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मेरी धरती पर खड़े होकर यह बोलना शुरू किया। 'अब फैजाबाद "अयोध्या" के नाम से जाना जाएगा'। इस ऐलान के बाद साधु संतों में खुशी थी, तो आमजन मानस में भी अयोध्या नाम की खुशी झलक रही थी। 

अब पूर्णयता 'अयोध्या' हो गया हूं,  वैसे मेरा नाम सुनते ही देश-दुनिया के लोगों के मन में आस्था, किसी के जेहन में साझा संस्कृति तो किसी के दिमाग में अनजाना भय सामने आ जाता है। वह तब भी था और आज भी है और रहेगा। इस बार छोटी दीपावली को योगी सरकार अयोध्या में दूसरा दीप उत्सव का पर्व मना रही थी। दीप उत्सव में एक रिकॉर्ड बना और कई योजनाओं का एलान भी हुआ।

 

चलिए हम आपको बताते है कि फैजाबाद से अयोध्या तक के सफर का गवाह बने लोगों का क्या कहना है। पेश है संवाददाता आदित्य तिवारी की रिपोर्ट-

 

  • मंहत रविन्द्र दास का कहना है कि, यह तो बहुत पहले ही हो जाना चाहिए था। सरकार बनते ही नाम बदल देना था, लेकिन अब अयोध्या को ही जाना जाएगा, यह खुशी की बात है।
  • हनुमान गढ़ी के मुख्य पुजारी राजू दास ने कहा योगी जी के फैसले का स्वागत करते हैं। योगी जी सन्त समाज से हैं। इसलिए हर वर्ग की भावनाओं के अनुरूप काम करते हैं।
  • अयोध्या विवाद के बाबरी मस्जिद के पक्षकार इकबाल अंसारी ने भी स्वागत करते हुए कहा कि हम तो चाहते थे पहले विकास हो, वह योगी सरकार कर रही है। हम तो अपने घर का पते पर पहले भी अयोध्या लिखते थे और अब भी लिखेंगे।
  • स्थानीय महिला नुसरत जहां ने कहा कि, अयोध्या नाम होने से कोई आपत्ति नहीं, नाम रखने से क्या होता है। हॉस्पिटल बनेगा, एयरपोर्ट बनेगा, स्थानीय लोगों को रोजगार मिलेगा, हम स्वागत करते हैं।
  • दीपावली पर तमिलनाडु से घर आए रोहन कौशिक का कहना है कि हम फैजाबाद बताते थे तो कोई नहीं जानता था, फिर अयोध्या बताना पड़ता था। यह फैसला सराहनीय है।
  • कुमारगंज कृषि यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर एसडी द्विवेदी ने कहा कि दो साल से छोटी दीपावली देखने आ रहा हूं। 57 साल का हो गया हूं। इससे पहले कभी नहीं आया था, छोटी दीपावली पर अयोध्या। अयोध्या नाम हो जाने से हम सबकी पहचान अंतरराष्ट्रीय हो गई है। बाहर जाने पर फैजाबाद को लोग नहीं जानते थे। अयोध्या बताना पड़ता था।
  • संत रघुवर दास ने कहा कि सप्तपुरियों का सिरमौर है अयोध्या। उन्होंने मुख्यमंत्री योगी का आभार जताया है। 

 

सीएम योगी ने अयोध्या में विकास के यह किए दावे-

 

सीएम योगी आदित्यनाथ ने छह नवंबर को कहा कि, अयोध्या दुनिया की बेहतरीन नगरी होगी। पंचकोसी, चौदहकोसी परिक्रमा मार्ग का विकास होगा। अगले कुछ वर्षों में अयोध्या बहुत भव्य होगा। जिले की विद्युत व्यवस्था बिल्कुल सही की जाएगी। अयोध्या एक आध्यात्मिक नगरी है। अयोध्या में सफाई और सुरक्षा अत्यंत आवश्यक। सरयू जी में डैम बनाकर विकास किया जाएगा। राम जी की पैड़ी में निर्मल-अविरल जल बहेगा। अयोध्या का विकास हमारी प्राथमिकता है।

 

अयोध्या करोड़ों लोगों की आस्था का केंद्र है। भगवान राम की विशाल मूर्ति स्थापित करेंगे। मूर्ति स्थापना को लेकर चर्चा चल रही है। पूजनीय मूर्ति तो मंदिर में होगी, स्मरणीय मूर्ति बाहर बनाई जाएगी। एयरपोर्ट के लिए भूमि अधिग्रहण जल्द होगा। मेडिकल कॉलेज महाराज दशरथ के नाम से होगा। अयोध्या में लोग रामलला के ही दर्शन करने आते हैं।

 

यहां मंदिर था, मंदिर है और मंदिर ही रहेगा। कोशिश रहती है जब अयोध्या आऊं रामलला के दर्शन करूं, हम दीपावली को यादगार बनाना चाहते हैं। सभी साधु-संत हमारे साथ हैं। मंदिर पर कोई न कोई निर्णय जल्द आएगा। संवैधानिक दायरे में राम मंदिर निर्माण होगा। हमारा अगला फोकस कुम्भ है। कुम्भ को लेकर सरकार लगातार काम कर रही है। 

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..